द्वितीय आंग्ल-सिख युद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

द्वितीय आंग्ल-सिख युद्ध पंजाब के सिख प्रशासित क्षेत्रों वाले राज्य तथा अंग्रेजों के ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच 1848-49 के बीच लड़ा गया था। इसके परिणाम स्वरूप सिख राज्य का संपूर्ण हिस्सा अंग्रेजी राज का अंग बन गया।

परिचय[संपादित करें]

मुल्तान के गवर्नर मूलराज ने, 'उत्तराधिकार दंड' माँगे जाने पर त्यागपत्र दे दिया। परिस्थिति सँभालने, लाहौर दरबार द्वारा खान सिंह के साथ दो अंग्रेज अधिकारी भेजे गए, जिनकी हत्या हो गई। तदंतर मूलराज ने विद्रोह कर दिया। यह विद्रोह द्वितीय सिक्ख युद्ध का एक आधार बना। राजमाता रानी जिंदाँ को सिक्खों को उत्तेजित करने के संदेह पर शेखपुरा में बंदी बना दिया था। अब, विद्रोह में सहयोग देने के अभियोग पर उसे पंजाब से निष्कासित कर दिया गया। इससे सिक्खों में तीव्र असंतोष फैलना अनिवार्य था। अंतत: कैप्टन ऐबट की साजिशों के फलस्वरूप, महाराजा के भावी श्वसुर, वयोवृद्ध छतर सिंह अटारीवाला ने भी बगावत कर दी। शेर सिंह ने भी अपने विद्रोही पिता का साथ दिया। यही विद्रोह सिक्ख युद्ध में परिवर्तित हो गया।

  • प्रथम संग्राम (१३ जनवरी १८४९) चिलियाँवाला में हुआ। इस युद्ध में अंग्रेजों की सर्वाधिक क्षति हुई। संघर्ष इतना तीव्र था कि दोनों पक्षों ने अपने विजयी होने का दावा किया।
  • द्वितीय मोर्चा (२१ फरवरी) गुजरात में हुआ। सिक्ख पूर्णतया पराजित हुए; तथा १२ मार्च को यह कहकर कि आज रणजीत सिंह मर गए, सिक्ख सिपाहियों ने आत्मसमर्पण कर दिया। २९ मार्च को पंजाब अंग्रेजी साम्राज्य का अंग घोषित हो गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • डॉ॰ हरीराम गुप्त: हिस्ट्री ऑव द सिक्खस;
  • अनिलचंद्र बनर्जी: ऐंग्लो सिक्ख रिलेशंस; केंब्रिज हिस्ट्री ऑव इंडिया, खंड ५

यह भी देखें[संपादित करें]