बैंक ऑफ़ बड़ौदा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बैंक ऑफ़ बड़ौदा
प्रकार सार्वजनिक
बी॰एस॰ई और एन॰एस॰ई:BOB}
उद्योग बैंकिंग
पूंजी बाज़ार और संबद्ध उद्योग
स्थापना 20 july 1908
मुख्यालय अल्कापुरी बड़ोदरा गुजरात
प्रमुख व्यक्ति एम डी माल्ल्या, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक
उत्पाद लोन, क्रेडिट कार्ड, बचत, निवेश वाहन इत्यादि
राजस्व Green Arrow Up Darker.svg १४.२ अरब रू
कुल संपत्ति १,७९५ अरब रू
वेबसाइट www.bankofbaroda.com

बैंक ऑफ़ बड़ौदा भारत का सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक है। भारतीय स्टेट बैंक और पंजाब नैश्नल बैंक के बाद यह इस क्षेत्र का तीसरा सबसे बड़ा बैंक है। बैंऑब की कुल परिसंपत्ति १,७८५ अरब रू है, ३,००० शाखाओं और कार्यालयों का तंत्र है और लगभग १,०००+ एटीएम हैं। इसकी बैंकिंग सेवाओं में बैंकिंग उत्पाद और वित्तीय सेवाओं से लेकर कंपनीयों और फुटकर ग्राहकों को सेवाएं प्रदान करना है।

बड़ौदा के महाराज सयाजीराव गाइकवाड़ तृतीय ने इस बैंक की स्थापना २० जुलाई, १९०८ को गुजरात के देशी राज्य बड़ौदा में की थी। इस बैंक का अन्य १३ प्रमुख वाणिज्यिक बैंको के साथ १९ जुलाई, १९६९ को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीयकरण कर दिया गया।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]