प्रतापगढ़ जिला, उत्तर प्रदेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राजस्थान राज्य में इसी नाम के ज़िले के लिए प्रतापगढ़ जिला, राजस्थान का लेख देखें
प्रतापगढ़ ज़िला
Pratapgarh district
मानचित्र जिसमें प्रतापगढ़ ज़िला Pratapgarh district हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश
क्षेत्रफल : 3,717 किमी²
जनसंख्या(2011):
 • घनत्व :
31,73,752
 850/किमी²
उपविभागों के नाम: तहसील
उपविभागों की संख्या: 5
मुख्य भाषा(एँ): हिन्दी, अवधी


प्रतापगढ़ भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला है।[1] इसे को बेला, बेल्हा, परतापगढ़, या प्रताबगढ़ भी कहा जाता है। यह प्रतापगढ़ जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है। यह उत्तर प्रदेश का 72वां जिला है। इसे लोग बेल्हा भी कहते हैं, क्योंकि यहां बेल्हा देवी मंदिर है जो कि सई नदी के किनारे बना है। इस जिले को ऐतिहासिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। यहां के विधानसभा क्षेत्र पट्टी से ही देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं॰ जवाहर लाल नेहरू ने अपना राजनैतिक करियर शुरू किया था। इस धरती को राष्ट्रीय कवि हरिवंश राय बच्चन की जन्म स्थली के नाम से भी जाना जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

जिले अपने मुख्यालय शहर बेला प्रतापगढ़, आमतौर पर प्रतापगढ़ के रूप में जाना जाता है। प्रताप सिंह, 1628-1682 के बीच एक स्थानीय राजा, रामपुर में अरोर के पुराने शहर के पास अपने मुख्यालय स्थित. वहां उन्होंने एक गढ़ (किला) बनाया और खुद के बाद प्रतापगढ़ बुलाया। इसके बाद किले के आसपास के क्षेत्र प्रतापगढ़ के रूप में जाना जाता हो गया। जब जिला 1858 में गठित किया गया था, अपने मुख्यालय बेला, जो बेला प्रतापगढ़, नाम संभाव्यतः सई नदी के तट पर बेला भवानी के मंदिर से व्युत्पन्न किया जा रहा बेला के रूप में जाना जाता है। माँ देवी बेला - यह लोकप्रिय "बेल्हा माई" के रूप में जाना जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

भूगोल[संपादित करें]

जिला 25 ° 34 'और 26 ° 11' उत्तरी अक्षांश के बीच समानताएं और 81 ° 19 meridians 'और 82 ° 27' पूर्व देशांतर कुछ 110 किमी के लिए विस्तार के बीच स्थित है। यह उत्तर में सुल्तानपुर जिला, दक्षिण में इलाहाबाद जिला तथा पूर्व में जौनपुर जिला और पश्चिम में अमेठी जिला से घिरा हुआ है। दक्षिण - पश्चिम में गंगा के बारे में 50 किमी के लिए जिले की सीमा रूपों. यह फतेहपुर और इलाहाबाद से और चरम उत्तर पूर्व गोमती में अलग रूपों के बारे में 6 किमी के लिए सीमा. केन्द्रीय सांख्यिकी संगठन, भारत के अनुसार, जिले km2 3730 के एक क्षेत्र है गंगा और सई नदी इस जिले में बहने वाली प्रमुख नदियाँ हैं।

परिवहन[संपादित करें]

रेल परिवहन एक लंबे समय से शहर में कुशल है। दिल्ली - प्रताप गढ़: 7:50 बजे गाड़ी सं. 14207/14208 दिल्ली में पुरानी दिल्ली स्टेशन से पद्मावत एक्सप्रेस रोज - प्रताप गढ़:: प्रताप गढ़ काशी विश्वनाथ ऍक्स्प रोज़ 11.40 पर नई दिल्ली स्टेशन से गाड़ी सं. 14257/14248 दिल्ली हूँ गरीब रथ एक्सप्रेस 18.15 बजे ट्रेन नंबर 2251/2252 दिल्ली में आनंद विहार मेगा टर्मिनल स्टेशन से प्रताप गढ़: नीलांचल एक्सप्रेस रवि, मंगल, 6:30 पर नई दिल्ली स्टेशन से शुक्र ट्रेन सं. 12875/12876 दिल्ली हूँ - प्रताप गढ़: NDLS - NFK अमेठी, गोरखपुर, कानपुर, आगरा, जयपुर, हावड़ा, इलाहाबाद के साथ नई दिल्ली स्टेशन से 6:00 बजे 14123 ट्रेन लखनऊ, उत्तर प्रदेश की राजधानी शहर है, के साथ दैनिक यात्री गाड़ियों लिंक प्रतापगढ़ सं एक्सप्रेस गुरु, वाराणसी, अमृतसर, लुधियाना, हरिद्वार, देहरादून, झांसी, मुरादाबाद, बरेली, पटना, गया, जबलपुर, नागपुर, पुरी और दिल्ली. वहाँ भी एक साप्ताहिक ट्रेन भोपाल, मध्य प्रदेश की राजधानी शहर, प्रतापगढ़ - भोपाल एक्सप्रेस कहा जाता है, जो एक सुपर फास्ट ट्रेन है। एक और सुपर फास्ट ट्रेन, उद्योगनगरी एक्सप्रेस, मुंबई, मेट्रो शहर और महाराष्ट्र की राजधानी के साथ शहर से जोड़ता है। वहाँ भी आधी रात को दिल्ली वाराणसी गरीब रथ एक्सप्रेस है। 1 पर नई गाड़ी लांच जौनपुर के लिए जुलाई 2011. 18205 18206 नवतनवा दुर्ग साप्ताहिक एक्सप्रेस।

उद्योग[संपादित करें]

एक खट्टे फल विटामिन सी में अमीर - प्रतापगढ़ "आँवला" पैदा करता है। जिले ज्यादातर कृषि पर निर्भर करता है। मिट्टी उपजाऊ है और जिले के अधिकांश भागों में सिंचित है। ऑटो लिमिटेड ट्रैक्टर, ब्रिटिश लेलैंड के साथ तकनीकी सहयोग के साथ उत्तर प्रदेश सरकार सेट - एक कृषि ऑटोमोबाइल कंपनी इस्तेमाल किया गया था। यह अचानक भारी नुकसान के कारण "मुलायम सिंह" - की अवधि के दौरान बंद कर दिया गया था।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

राजनीति[संपादित करें]

आंवले के लिए पूरे देश में मशहूर प्रतापगढ़ के विधानसभा क्षेत्रों के नाम हैं रानीगंज, कुंडा, विश्वनाथगंज, पट्टी, रानीगँज, सदर, बाबागंज, बिहार, प्रतापगढ़ और रामपुर खास है। प्रतापगढ़ की राजनीति में यहाँ के तीन मुख्य राजघरानों का नाम हमेशा रहा। इनमे से पहला नाम है बिसेन राजपूत राय बजरंग बहादुर सिंह का परिवार है जिनके वंशज रघुराज प्रताप सिंह (राजा भैया) हैं, राय बजरंग बहादुर सिंह हिमांचल प्रदेश के गवर्नर थे तथा स्वतंत्रता सेनानी भी थे। दूसरा परिवार सोमवंशी राजपूत राजा प्रताप बहादुर सिंह का है और तीसरा परिवार राजा दिनेश सिंह का है जो पूर्व में भारत के वाणिज्य मंत्री और विदेश मंत्री जैसे पदों पर सुशोभित रहे। इनकी रियासत कालाकांकर क्षेत्र है। दिनेश सिंह की पुत्री राजकुमारी रत्ना सिंह भी राजनीति में हैं तथा प्रतापगढ़ की मौजूदा (2003-2014)सांसद हैं। मौजूदा सासंद हरिवशं सिंह( 2014-2019) सांसद हैं। मौजूदा सासंद संगम लाल गुप्ता 2019 से अबतक) हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

मुख्य शहर[संपादित करें]

लालगंज प्रतापगढ़ जिले के प्रमुख शहरों में से एक है। यह शहर प्रतापगढ़ के पश्चिम में लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर लालगंज अझारा बहुत तेजी से विकसित होता हुआ प्रतापगढ़ का एक शहरी क्षेत्र है। वैसे तो शिक्षा के लिये काफी विद्यालय है लेकिन टेक्निकल कालेज के न होने से स्टूडेंट को काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। और जवाहर नवोदय विद्यालय को छोड़कर यहां पर केंद्रीय विद्यालय का अभाव है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

कटरा गुलाब सिंह[संपादित करें]

कटरा गुलाब सिंह बाजार प्रतापगढ़ मुख्यालय से ३० किलोमीटर और जेठवारा से १२ किलोमीटर कि दूरी पर बकुलाही नदी में तट पर मुख्यालय के दक्षिणी सीमा पर स्थित है। १८ वी शताब्दी के महान क्रांतिकारी बाबू गुलाब सिंह ने इस बाजार को बसाया था। महाभारत कल में पांडवो ने अज्ञातवास के दौरान यहाँ टिके थे और इसी ग्राम के निकट बकुलाही नदी के तट पर भीम ने राक्षस बकासुर का वध किया था। प्रतापगढ़ के मुख्य पर्यटक स्थलों के रूप में विख्यात पांडवकालीन प्राचीन मंदिर बाबा भयहरण नाथ धाम कटरा गुलाब सिंह बाजार के पूर्व में स्थित है।

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

बेलखरनाथ मंदिर प्रतापगढ़ जिले के पट्टी में स्थित है। सई नदी के तट पर स्थित बेलखरनाथ मंदिर जिला मुख्यालय से 18 किलोमीटर की दूरी पर है। भगवान शिव को समर्पित बेलखरनाथ मंदिर इस जिले के प्राचीन मंदिरों में से है। प्रत्येक वर्ष महा शिवरात्रि के अवसर पर यहां मेले का आयोजन किया जाता है।

प्रतापगढ़ जिले में विश्व का इकलौता किसान देवता मंदिर है। इस मंदिर की खास बात यह है कि यह किसी एक धर्म या संप्रदाय का मंदिर नहीं बल्कि किसान देवता के नाम से एक ऐसा धार्मिक संस्थान है जहां किसी भी धर्म व संप्रदाय के लोग आ सकते हैं। इस मंदिर का उद्देश्य किसानों को सम्मान दिलाना है। किसान देवता मंदिर प्रतापगढ़ जिले के पट्टी तहसील के सराय महेश ग्राम में निर्मित है। किसान पीठाधीश्वर योगिराज सरकार ने किसान देवता मंदिर का निर्माण करवाया।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

चंद्रिका देवी मंदिर[संपादित करें]

संडवा चन्द्रिका गांव स्थित चन्द्रिका देवी मंदिर जिला मुख्यालय से लगभग 21 किलोमीटर की दूरी पर है। यह मंदिर चन्द्रिका देवी को समर्पित है। प्रत्येक वर्ष चैत्र माह (फरवरी-मार्च) और अश्विन (सितम्बर-अक्टूबर) माह में चन्द्रिका देवी मेले का आयोजन किया जाता है। हजारों की संख्या में लोग इस मेले में सम्मिलित होते हैं।

जेठवारा[संपादित करें]

प्रतापगढ़ से लगभग 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक क़स्बा है। जेठवारा से एक रोड डेरवा होते हुए कुंडा हरनामगंज के लिए और एक लालगोपाल गंज के लिए जाती है।

श्रीमंधारस्वामी मंदिर[संपादित करें]

श्रीमंधारस्वामी मंदिर यशकीर्ति भटारक सीमा पर स्थित है। इस मंदिर में र्तीथकर श्रीमंधारस्वामी की विशाल प्रतिमा स्थित है। इस प्रतिमा में श्रीमंधारस्वामी पदमासन की मुद्रा में है।

केशवराजजी मंदिर[संपादित करें]

केशवराज जी मंदिर काफी विशाल मंदिर है। मंदिर की दीवारों पर खुजराहो शैली की मूर्तियां देखी जा सकती है। श्री स्वामीनारायण मंदिर निर्भयपट्टी श्री स्वामीनारायण भगवान का विशाल मंदिर ग्राम निर्भयपट्टी पोस्ट भोजेमऊ तहसील रानीगंज जिला प्रतापगढ़ में स्थित है जहाँ श्री नर नारायण देव श्री राधाकृष्ण श्री गणेश जी श्री हनुमान जी भगवान स्वामीनारायण के साथ विराजमान है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Pratapgarh District Map Uttar Pradesh". Maps of India. अभिगमन तिथि 29 January 2021.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]