सिद्धार्थनगर जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Uttar Pradesh district location map Siddharthnagar.svg

सिद्धार्थनगर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में से एक जिला है। जिले का मुख्यालय सिद्धार्थनगर है जो नौगढ़ तहसील के अन्तर्गत आता है। यह जनपद ऐतिहासिक शाक्य जनपद के खण्डहरों के लिए प्रसिद्ध है, जो नौगढ़ से 18 कि॰मी॰ दूर पिपरहवा में है।

क्षेत्रफल -2572 वर्ग कि.मी.

जनसंख्या - 25,53,526 (2011 जनगणना)

साक्षरता - 67.18%

एस. टी. डी (STD) कोड -05544

ज़िलाधिकारी - कुणाल सिल्कू,2017 से अब तक

मुख्यालय- नौगढ़

तहसीलें

  • 1. नौगढ़
  • 2. शोरतगढ़
  • 3. बांसी
  • 4. इटवा
  • 5. डुमरियागंज

लोकसभा क्षेत्र- डुमरियागंज

कुल क्षेत्रफल-2,752 वर्ग कि0मी0 (1,063 वर्गमील )

जनसंख्या- 2,553,526(2011 के अनुसार)

जनसंख्या घनत्व- 930 प्रति कि0मी0 (2,400/वर्ग मील)

साक्षरता- 67.81%

लिंगानुपात-1000/970

वाहन कोड- UP-55

स्थिति-अक्षांश-27°0′उत्तर 82°45′पूर्व से 27°28′उत्तर 83°10पूर्व

सिद्धार्थ नगर हिन्दू धर्मं की स्मृतियों का संग्रह है धार्मिक स्थल- पल्टादेवी मंदिर यह शोहरतगढ़ तहसील के ग्राम पंचायत पल्टादेवी में अतिप्राचीन मंदिर है|

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सिद्धार्थनगर जिला बौद्ध धर्म का बहुत बड़ा पर्यटन स्थल है। यहां पर भगवान बुद्ध का राजमहल स्थित है। कहा जाता है कि जब भगवान बुद्ध की माता गर्भावस्था में थी तो वो सिद्धार्थनगर से अपने मायके नेपाल में जा रही थी तो वहीं रास्ते में लुम्बनी में भगवान बुद्ध का जन्म हुआ। इस जिले में ही सिद्धार्थ विश्वविद्यालय है। इस जिले की सीमा महाराजगंज, गोरखपुर, संतकबीरनगर, बस्ती, गोण्डा व बलरामपुर जिले से तथा नेपाल देश से मिलती हैं। इस जिले की प्रमुख नदियां राप्ती, बूढ़ी राप्ती, बाणगंगा आदि नदियां हैं। इस जिले में चार बड़े रेलवे स्टेशन नौगढ़, बढ़नी, शोहरतगढ व उसका है। इस जिले में 5 तहसील, 14 व्लाक व 6 नगर हैं। यहां की मुख्य भाषा भोजपुरी, अवधी, हिन्दी, उर्दू व अंग्रेजी है। यहां पर धान, गेहूं व गन्ने की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। इस जिले के इटवा क्षेत्रावासियो को मदिरा पीने के लिए जाना जाता है। इस जिले का सबसे बड़ा नगर बांसी है। इस जिले का इटवा चौराहा सबसे प्राचीन और बड़ा चौराहा है।