नवी मुम्बई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(नवी मुंबई से अनुप्रेषित)
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
नवी मुम्बई
Navi Mumbai
नगर
मुम्बई महानगरीय क्षेत्र
Navi Mumbai Skyline.jpg
Aerial view of completed developments at Palava today.jpg
Navi Mumbai Municipality Corporation.jpegSeawoods Grand Central 4.jpg
D Y Patil Sports Stadium.jpg
ऊपर से नीचे:
नवी मुम्बई दृश्य, पलावा क्षेत्र, नवी मुम्बई नगर निगम, सीवुड्स ग्रैण्ड सेन्ट्रल, डी वाय पाटिल स्टेडियम
नवी मुम्बई का आधिकारिक सील
सील
नवी मुम्बई is located in महाराष्ट्र
नवी मुम्बई
नवी मुम्बई
महाराष्ट्र में स्थिति
निर्देशांक: 19°01′N 73°01′E / 19.02°N 73.02°E / 19.02; 73.02निर्देशांक: 19°01′N 73°01′E / 19.02°N 73.02°E / 19.02; 73.02
देश भारत
प्रान्तमहाराष्ट्र
ज़िलाठाणे ज़िला
ऊँचाई14 मी (46 फीट)
जनसंख्या (2011)
 • कुल11,19,488
भाषा
 • प्रचलितमराठी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
पिनकोड022
दूरभाष कोड400 xxx
वाहन पंजीकरणMH-43 (ठाणे ज़िले की नवी मुम्बई)
वेबसाइटwww.nmmconline.com

नवी मुम्बई (Navi Mumbai), जिसे पहले ठाणे बेलापूर (Thane Belapur) कहा जाता था, भारत के महाराष्ट्र राज्य के ठाणे ज़िले में विस्तारित में स्थित एक नियोजित नगर है। यह अरब सागर से तटस्थ है और मुम्बई का एक उपनगर है।[1][2]

विवरण[संपादित करें]

नवी मुंबई को मुम्बई के जुड़वा शहर के रूप में 1972 से विकसित किया जा रहा है और यह विश्व के सबसे बड़े नियोजित शहरों में से एक है। नवी मुंबई लगभग 163 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला हुआ है और नवी मुंबई महानगरपालिका निगम के कार्यक्षेत्र में आता है। यह ठाणे क्रीक के पुर्व में अवस्थित है। शहर की सीमा ठाणे के नज़दींक ऐरोली से शुरु होकर दक्षिण में उरण तक जाती है। वाशी क्रींक तथा मुलुंड सेतु नवी मुंबई को मुंबई से जोड़ता है। वाशी को शहर का मुख्य व्वसायिक क्षेत्र माना जाता है। नेरुल को शहर की रानी कहलाने की गर्व हासिल है। वहाँ पर आगरी समाज के बहुतांश गाँव है। खारघर और पनवेल के आसपास नवी मुंबई अंत्तराष्ट्रिय हवाई अड्डा का निर्माण होने के कारण इन क्षेत्रों का महत्व भी बढ़ गया है। नवी मुम्बई को दो भागों - उत्तरी नवी मुंबई और दक्षिण नवी मुंबई - में बांटा जाता है।

1971 में महाराष्ट्र सरकार ने मुम्बई की बढ़ती आबादी को देखकर यहाँ एक उपनगर बसाने का निर्णय करा। इस कार्यरत करने के लिए एक नया सार्वजनिक उपक्रम, सिडको, स्थापित करा गया। इसका विकास "नोड" नामक क्षेत्रों के अनुसार करा गया। सरकार ने मुम्बई में आ रहे नए लोगों को नवी मुम्बई में बसने के लिए प्रोत्साहित करा और यहाँ उपलब्ध सुविधाओं को बढ़ाया गया। रहने के लिए निवास निर्मित हुए और उन्हें किफायती मूल्यों पर उपलब्ध करने की चेष्टा करी गई। मुम्बई की तुलना में यहाँ प्रदूषण भी कम था। फिर भी मुम्बई से आने-जाने में लगने वाले समय और अन्य कारणों से यहाँ रहना कठिन माना जाता रहा। शहर सफाई और स्वच्छता के लिए केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय (शहरी) और भारत की गुणवत्ता परिषद (क्यूसीआई) द्वारा इसे स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत लाया गया।

सुविधाएँ[संपादित करें]

नवी मुम्बई में कई धाराओं के लिए शैक्षिक संस्थान उपस्थित हैं, जैसे कि इंजीनियरिंग, घर चिकित्सा विज्ञान, इंटीरियर डिजाइनिंग और होटल प्रबंधन। यहाँ कई बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ भी हैं, जैसे कि सीमेंस, मैकडॉनल्ड्स, मोर्निंगस्टार, बेकर ह्यूज़, ब्यूरो वेरिटास, बिज़ेरबा, रिलायन्स, ऐक्सेंचर तथा लार्सन और टूब्रो। यहाँ कई बालूतट हैं, जिनमें वाशी, पीरवाड, मंकेश्वर और अन्य शामिल हैं। इसके अलावा सागर विहार में पार्क और उद्यान, नवी मुंबई सेंट्रल पार्क, गोल्फ कोर्स और कई अन्य मनोविनोद के स्थान हैं। यहाँ अच्छी गुणवत्ता के रेस्तरां और आवास के लिए लक्ज़री होटल है। कई शॉपिंग मॉल भी हैं, जैसे कि सीवुड्स, नेरुल, वाशी में खारघर, आंदोलनामुले और अन्य।

इतिहास[संपादित करें]

शहरी विकास के एक अभूतपूर्व दर आजादी के बाद 25 वर्षों के दौरान भारत द्वारा अनुभव किया गया है और मुंबई में इसे अपने हिस्से पड़ा है। ग्रेटर बॉम्बे की जनसंख्या १९५१ में 2.966 लाखों लोगों से 1961 में 4.152 लाखों लोगों के लिए और 1971 में, 5.970 लाखों लोगों के लिए क्रमश: पहले और दूसरे दशकों के दौरान पंजीकरण 40.0 और 43.80 फीसदी वृद्धि गुलाब। जनसंख्या, बढ़ती औद्योगिक और वाणिज्यिक महत्व शहर के द्वारा ही संभव बनाया के विकास की दर तेजी से शहर में रहने वाले लोगों के बहुमत के लिए जीवन की गुणवत्ता में तेजी से गिरावट के परिणामस्वरूप। विकास आदानों गति तेजी से बढ़ती जनसंख्या, उद्योग, व्यापार और वाणिज्य के साथ नहीं रख सकता। इसके अलावा, वहाँ एक लंबी और संकीर्ण प्रायद्वीप, जो मुख्य भूमि के साथ बहुत कुछ कनेक्शन है पर बनाया शहर के विकास के लिए भौतिक सीमाओं कर रहे हैं।

महाराष्ट्र सरकार इस महानगर की उभरती समस्याओं को जीवित कर दिया गया है। जिम्मेदार जनता की राय भी उतना ही सतर्क थी, और कई रचनात्मक सुझाव समय-समय कहीं और प्रेस में दिखाई दिया। यह सब मुंबई की समस्याओं सार्वजनिक जागरूकता के मामले में सबसे आगे रखने में मदद की। 1958 में, बंबई की सरकार एक अध्ययन समूह के अंतर्गत अध्यक्षता की श्री S.G. बर्वे, इन के साथ निपटने के लिए सरकार, लोक निर्माण विभाग, यातायात की भीड़, खुली जगह और खेल फ़ील्ड्स, बंबई, के महानगरीय और उपनगरीय क्षेत्रों में उद्योग की एकाग्रता पर और आवास की कमी की कमी से संबंधित समस्याओं पर विचार करने के लिए और विशिष्ट उपायों की सिफारिश करने के लिए सचिव नियुक्त किया।

बर्वे समूह फ़रवरी 1959 में की सूचना दी। इसके प्रमुख सिफारिशों में से एक ठाणे प्रायद्वीपीय बॉम्बे मुख्य भूमि के साथ कनेक्ट होने के लिए भर में एक रेल-सह-सड़क पुल बनाया जाना था। समूह पुल होगा भर में क्रीक के विकास में तेजी लाने, शहर के रेलवे और रोडवेज पर दबाव को राहत देने और दूर औद्योगिक और आवासीय सांद्रता के पूर्व की ओर मुख्य भूमि के लिए आकर्षित कि महसूस किया। समूह आशा व्यक्त की कि पूर्व की ओर विकास व्यवस्थित होगा और एक योजनाबद्ध तरीके से जगह ले जाएगा।

महाराष्ट्र सरकार बर्वे समूह सिफारिश स्वीकार किए जाते हैं। अध्यक्षता की प्रो डी. आर॰ गाडगिल, उसके बाद गोखले संस्थान की राजनीति और अर्थशास्त्र, पूना के निदेशक के अंतर्गत एक अन्य समिति का गठन किया था और "मुंबई पनवेल और पूना के महानगरीय क्षेत्रों के लिए क्षेत्रीय योजना के व्यापक सिद्धांत प्रतिपादित करने के लिए और preparatio के लिए महानगर अधिकारियों की स्थापना के लिए सिफारिशें करने के लिए कहा

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "RBS Visitors Guide India: Maharashtra Travel Guide Archived 2019-07-03 at the Wayback Machine," Ashutosh Goyal, Data and Expo India Pvt. Ltd., 2015, ISBN 9789380844831
  2. "Mystical, Magical Maharashtra Archived 2019-06-30 at the Wayback Machine," Milind Gunaji, Popular Prakashan, 2010, ISBN 9788179914458