घूमर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वैवाहिक आयोजन में घूमर लोकनृत्य करती महिलाएं

घूमर राजस्थान का एक परंपरागत लोकनृत्य है। इसका विकास भील जनजाति ने मां सरस्वती की आराधना करने के लिए किया था और बाद में बाकी राजस्थानी बिरादरियों ने इसे अपना लिया। यह नाच मुख्यतः महिलाएं घूंघट लगाकर और एक घुमेरदार पोशाक जिसे "घाघरा" कहते हैं, पहन कर करती हैं। इस नृत्य में महिलाएं एक बड़ा घेरा बनाते हुए अन्दर और बाहर जाते हुए नृत्य करती हैं। घूमर नाम हिन्दी शब्द घूमना से लिया गया है जो की नृत्य के दौरान घूमने को सूचित करता है।[1]

घूमर प्रायः विशेष अवसरों जैसे कि विवाह समारोह, त्यौहारों और धार्मिक आयोजनों पर किया जाता है, और अक्सर कुछ घंटो तक चलता है।

घूमर गीत[संपादित करें]

राजपूत महिला द्वारा घूमर नाच

सामान्यतः निम्न गीतों पर घूमर नृत्य किया जाता है।

  • "म्हारी घूमर"
  • "चिरमी म्हारी चिरमली"
  • "आवे हिचकी" - पारम्परिक राजस्थानी घूमर गीत
  • "घूमर"
  • "जंवाई जी पावणा"
  • "तारां री चुंदड़ी"
  • "म्हारो गोरबन्द नखतरालो"
  • "म्हारी घूमर"
  • "घूमर रे घूमर रे"
  • "घूमर" - 2018 की फिल्म पद्मावत से

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Ghoomar Dance, Rajasthan". मूल से 18 मई 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 अक्तूबर 2017.