घूमर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
घूमर लोकनाच

घूमर राजस्थान का एक परंपरागत लोकनृत्य है। इसका विकास भील कबीले ने किया था और बाद में बाकी राजस्थानी बिरादरियों ने इसे अपना लिया। यह नाच ज्यादातर औरतें घूंघट लगाकर और एक घुमेरदार पोशाक जिसे "घाघरा" कहते हैं, पहन कर करती हैं।[1]

घूमर गीत[संपादित करें]

राजपूत महिला द्वारा घूमर नाच

सामान्यतः निम्न गीतों पर घूमर नृत्य किया जाता है।

  • "म्हारी घूमर"
  • "चिरमी म्हारी चिरमली"
  • "आवे हिचकी" - पारम्परिक राजस्थानी घूमर गीत
  • "घूमर"
  • "जंवाई जी पावणा"
  • "तारां री चुंदड़ी"
  • "म्हारो गोरबन्द नखतरालो"
  • "म्हारी घूमर"
  • "घूमर रे घूमर रे"
  • "घूमर" - 2018 की फिल्म पद्मावत से

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Ghoomar Dance, Rajasthan".