तेराताली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

तेरहताली नृत्य राजस्थान का प्रसिद्ध लोक नृत्य है। यह कामड जाती द्वारा किया जाता है। शिव के ताल और पारवती के लय से ताल शब्द बना है । कामड़ जाती की स्त्रियाँ शरीर पर तेरह मन्जीरे बान्ध कर इस नृत्य को करती है। पुरुष रामदेव और हिन्ग्लाज के भजन गाते हैं। यह लोक नृत्य परम्परा से कामड जाती करती आ रही है।यह राजस्थान का एकमात्र नृत्य है जो बैठकर किया जाता है।इसमे 9 मंजीरे दाहिने पैर मे,2 मंजीरे कोहनी पर तथा 2 मंजीरे हाथों मे पहने जाते हैं।

इसमे नर्तकी अपने मुह में तलवार या कटार दबाकर नृत्य करती है जो हिंगलाज माता का प्रतीक है। {{Navbox |name = भारत के लोक नृत्य |state = autocollapse |title = भारत के लोक नृत्य |image = Nandini Ghosal.jpg

|group1 = उत्तर भारत

|list1 =

|group2 = दक्षिण भारत

|list2 =

|group3 = पूर्वी भारत

|list3 =

|group4 = पश्चिम भारत

|list4 =

|group5 = मध्य भारत

|list5 =

|group6 = पूर्वोत्तर भारत

|list6 =

|group7 = द्वीप

|list7 =
मेवाड़, बिकानेर, मारवाड़ क्षेत्रों की कामड़ जातियों में तेरह ताली नृत्य का प्रचलन हैं।

इस नृत्य में चौतारा,ढोलक व ताल वादन पुरुष करते हैं।

मांगी बाई , नारायणी व मोहिनी का संबंद्ध इस नृत्य से है।