सामग्री पर जाएँ

सालिह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(सालेह से अनुप्रेषित)

सालिह (अरबी: صالح‎) एक अरबी नाम है, जिसका अर्थ है सच्चा। कुरान में विशिष्ट रूप से एक पुरुष का वर्णन आता है, जिसका नाम है - सलेह या सलिह, जो इस्लाम के पच्चीस पैगम्बर में से एक थे। क़ुरान में दी गयी कहानी के अनुसार, सालिह को समूद भेजा गया था।

अल्लाह की ऊटनी ==

अल्लाह की ऊटनी

[संपादित करें]

हज़रत सालेह अलैहि सलाम कौम को बार-बार समझाते और फ़रमाते रहे, पर कौम पर बिलकुल असर न हुआ, बल्कि उसकी दुश्मनी तरक़्क़ी पाती रही और उसका विरोध बढ़ता ही रहा और वह किसी तरह बुत्तपरस्ती से बाज़ न आई। अगरचें एक छोटी और कमज़ोर जमाअत ने ईमान क़ुबूल कर लिया और वह मुसलमान हो गई, मगर क़ौम के सरदार और बड़े-बड़े सरमायादार उसी तरह बातिल-परस्ती पर क़ायम रहे और उन्होंने दी हुईं हर किस्म की नेमतों का शुक्रिया अदा करने के बजाए नाशुक्री का तरीक़ा अपना लिया।

वे हज़रत सालेह अलैहि सलाम का मज़ाक़ उड़ाते हुए कहा करते कि ‘सालेह अलैहि सलाम अगर हम बातिल परस्त होते, अल्लाह के सही मज़हब के इंकारी होते और उसके पसंदीदा तरीक़े पर कायम न होते, तो आज हमको यह सोने-चांदी की बहुतात, हरे-भरे बाग और दूसरी नेमते हासिल न होतीं। तुम ख़ुद को और अपने मानने वालों को देखो ओर फिर उनकी तंगहाली, और गरीबी पर नज़र करों और बतलाओ कि अल्लाह के प्यारे और मकबूल कोन हैं?

हज़रत सालेह अलैहि सलाम फ़रमाते कि ‘तुम अपने इस ऐश और अमीरी पर शेखी न मारो और अल्लाह के सच्चे रसूल और उसके सच्चे दीन का मज़ाक न उड़ाओ, इसलिए अगर तुम्हारे घमंड और दुश्मनी का यही हाल रहा, तो पल में सब कुछ फ़ना हो जाएगा और फिर न तुम रहोगे और न॑ यह तुम्हारा समाज, बेशक ये सब अल्लाह की नेमते हैं, बशर्ते कि इनके हासिल करने वाले उसका शुक्र अदा करें और उसके सामने सरे नियाज़ झुंकाएं और बेशक यही अज़ाब व लानत के सामान हैं, अगर इनका इस्तिक़बाल शेख़ी व गुरूर के साथ किया जाए। इसलिए यह समझना गलती है कि ऐश का हर सामान अल्लाह की खुश्नूदी का नत्तीजा है।’

समूद को यह हैरानी थी कि यह कैसे मुम्किन है कि हमीं में का एक इंसान अल्लाह का पैगम्बर बन जाए और वह अल्लाह का हुक्म सुनाने लगे। वे बड़े ताज्जुब से कहते –

“कि हमारी मौजूदगी में उस पर (खुदा की) नसीहत उतरती है।’ [साद ३८:८]

यानी अगर ऐसा होना ही था तो इसके अहल हम थे, न कि सालेह अलैहि सलाम और कभी अपनी क़ौम के कमज़ोर लोगों (जों कि मुसलमान हो गए थे) को खिताब करके कहते –

“क्‍या तुमको यकींन है कि बिला शुबहा सालेह अपने परवरदियार का रसूल है?’ [अल-अराफ़ ७:५९]

और मुसलमान जवाब देते –

“बेशक हम तो इसके लाये हुए पैगाम यर ईमान रखते है।’ [अल-अराफ़ ७:७५]

तब ये कौम के इंकार करने वाले (समुद क़ौम) गुस्से में कहते :

“बेशक हम को उस चीज़ का जिस पर तुम्हारा ईमान है, इंकार करते है।’ [अल-अराफ़ ७:७]

बहरहाल हज़रत सालेह अलैहि सलाम की मगरूर व सरकश क़ौम ने उनकी पैग़म्बराना दावत व नसीहत को मानने से इंकार किया और अल्लाह के निशान (मोजजे) का मुतालबा किया, तब सालेह ने अल्लाह के दरबार में दुआ की और कुबूलियत के बाद अपनी क़ौम से फ़रमाया कि तुम्हारा मतलूब निशान ऊंटनी की शक्ल में यहां मौजूद है। देखो, अगर तुमने इसको तकलीफ पहुंचायी तो फिर यही हलाकत का सामान साबित होगा और अल्लाह ने तुम्हारे और उसके दर्मियान पानी के बारी तय कर दी है। एक दिन तुम्हारा है और एक दिन इसका, इसलिए इसमें फ़र्क न आए।

क़ुआआन मजीद ने इसे “नाकतुल्लाह” (अल्लाह की ऊंटनी) कहा है, ताकि यह बात नज़रों में रहे कि यूं तो तमाम मख़लूक़ अल्लाह ही की मिल्कियत है, मगर समूद ने चूंकि उनको ख़ुदा की एक निशानी की शक्ल में तलब किया था, इसलिए उसकी मौजूदा ख़ुसूसिसत ने उसको “अल्लाह की निशानी” का लकब दिलाया, साथ ही उसको ‘लकुम आयातिही’ (तुम्हारे लिए निशानी) कहकर यह भी बताया कि यह निशानी अपने भीतर ख़ास अहमियत रखती है, लेकिन बदक़िस्मत कौम समूद ज़्यादा देर तक इसको बर्दाश्त न कर सकी और एक दिन साज़िश करके ऊंटनी को घायल कर डाला।

हज़रत सालेह को जब यह मालूम हुआ तो आंखों पे आंसू लाकर फ़रमाने लगे, बदबख्त कौम ! आख़िर तुझसे सब्र न हो सका। अब अल्लाह के अज़ाब का इंतज़ार कर। तीन दिन के बाद न टलने वाला अज़ाब आएगा और तुम सबको हमेशा के लिए तहस-नहस कर दिया जाएगा।

समूद पर अज़ाब

[संपादित करें]

समूद पर अजाब आने की निशानियां अगले सुबह से ही शुरू हो गई, यानी पहले दिन इन सबके चेहरे इस तरह पीले पड़ गए जैसा कि हर शुरूआती हालत में हो जाया करता है और दूसरे दिन सबके चेहरे लाल थे, गोया खौफ़ दहशत का यह दूसरा दर्जा था और तीसरे दिन इन सबके चेहरे स्याह थे और अँधेरा छाया हुआ था। यह खौफ व दहशत का वह तीसरा दर्जा है जिसके बाद मौत का दर्जा रह जाता है।

बहरहाल इन तीन दिनों के बाद वादा किया गया वक़्त आ पहुंचा और रात के वक़्त एक हैबतनाक आवाज ने हर आदमी को उसी हालत में हलाक कर दिया, जिस हालत में वह था। कुरआन मजीद ने हलाक कर देने वाली आवाज़ को किसी जगह साईक़ा (कड़कदार बिजली) और किसी जगह रजफ़ा (जलजला डाल देने वाली चीज़), किसी जगह तागिया (दहशतनाक) और कहीं सैहा (चीख) फ़रमाया।

एक तरफ समूद पर यह अज़ाब आया और उनकी बस्तियों को तबाह व बर्बाद करके सरकशो की सरकशी और घमंडियों का अंजाम ज़ाहिर हुआ, जबकि दूसरी ओर हज़रत सालेह अलैहि सलाम और उनकी पैरवी करने वाले मुसलमानों को अल्लाह ने अपनी हिफ़ाज़त में ले लिया और उनको इस अज़ाब से महफ़ूज़ रखा।

सन्दर्भ

[संपादित करें]


बाहरी कडि़याँ

[संपादित करें]


इस्लाम के पैगम्बर कुरान अनुसार
आदम इदरीस नुह हुद सालेह इब्राहीम लूत इस्माइल इसहाक याकूब यूसुफ़ अय्यूब
آدم إدريس نوح هود صالح إبراهيم لوط إسماعيل إسحاق يعقوب يوسف أيوب
आदम (बाइबल) इनोच नोअह एबर शेलह अब्राहम लॉट इश्माएल आइजै़क जैकब जोसफ जॉब

शोएब मूसा हारुन जुल-किफ्ल दाऊद सुलेमान इलियास अल-यासा यूनुस ज़कारिया यहया ईसा मुहम्मद
شُعيب موسى هارون ذو الكفل داود سليمان إلياس إليسع يونس زكريا يحيى عيسى مُحمد
जेथ्रो मोजे़ज़ आरोन एजी़कल डैविड सोलोमन एलीजाह एलीशाह जोनाह जे़करिया जॉन ईशु मसीह पैराच्लीट
  वा