विजयानन्दसूरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
आचार्य विजयानन्द सूरी
Vijayanandsuri Atmaram.jpg
नाम (आधिकारिक) आचार्य विजयानन्द सूरी
व्यक्तिगत जानकारी
जन्म 6 अप्रैल 1837
लेहरिया, पंजाब
निर्वाण 20 मई 1896(1896-05-20) (उम्र 59)
गुजरांवाला, पंजाब
शुरूआत
नव सम्बोधन आनन्दविजय (पूर्व संत आत्माराम)
सर्जक मुनि बुद्धिविजय
सर्जन तिथि विक्रम संवत १९७५
दीक्षा के बाद
पद आचार्य
कार्य तत्त्व-दर्शा, आग्यन तिमिरा भास्कर और तत्त्व निर्णय प्रासाद

आचार्य विजयानन्द सूरी (1837–1896) जिन्हें आत्माराम के नाम से भी जाना जाता है, आधुनिक समय में आचार्य शीर्षक पाने वाले प्रथम श्वेताम्बर मूर्तिपुजक जैन साधु थे।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. मांगीलाल भुटोरिया, इतिहास की अमर बेल- ओसवाल, प्रियदर्शी प्रकाशन, कलकता, 1988