तत्त्वार्थ सूत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
तत्त्वार्थ सूत्र का अंग्रेजी और हिंदी अनुवाद

तत्त्वार्थसूत्र, जैन आचार्य उमास्वामी द्वारा रचित एक जैन ग्रन्थ है। [1] इसे 'तत्त्वार्थ-अधिगम-सूत्र' तथा 'मोक्ष-शास्त्र' भी कहते हैं। यह पहला जैन ग्रन्थ है जो संस्कृत भाषा में लिखा गया है[1]। इसमें दस अध्याय तथा ३५० सूत्र हैं। उमास्वामी सभी जैन मतावलम्बियों द्वारा मान्य हैं। उनका जीवनकाल २री शताब्दी है। आचार्य पूज्यपाद द्वारा विरचित सर्वार्थसिद्धि तत्त्वार्थसूत्र पर लिखी गयी एक प्रमुख टीका है।

दस अध्याय[संपादित करें]

तत्त्वार्थ सूत्र के दस अध्याय इस प्रकार है [2]:-

  1. दर्शन और ज्ञान
  2. जीव के भेद
  3. उर्ध लोक और मध्य लोक
  4. देव
  5. अजीव के भेद
  6. आस्रव
  7. पाँच व्रत
  8. कर्म बन्ध
  9. निर्जरा
  10. मोक्ष

कुछ प्रख्यात सूत्र[संपादित करें]

  • "सम्यग्दर्शनज्ञानचारित्राणि मोक्षमार्ग:" (१-१): यह तत्त्वार्थसूत्र का पहला सूत्र है है। इसका अर्थ है- सम्यक् दर्शन, सम्यक् ज्ञान और सम्यक् चरित्र तीनों मिलकर मोक्ष का मार्ग हैं।
  • "परस्परोपग्रहो जीवानाम् (५.२१): यह सूत्र जैन धर्म का आदर्श-वाक्य है। यह जैन प्रतीक चिन्ह के अंत में लिखा जाता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. जैन २०११, प॰ vi.
  2. जैन २०११, प॰ xi.

सन्दर्भ सूची[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]