रॉबिन उथप्पा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भारतीय पताका
रॉबिन उथप्पा
भारत
पूरा नाम रॉबिन वेणू उथप्पा
जन्म
बल्लेबाज़ी का तरीक़ा {{{बल्लेबाज़ी का तरीक़ा}}}
गेंदबाज़ी का तरीक़ा {{{गेंदबाज़ी का तरीक़ा}}}
टेस्ट क्रिकेट एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट
मुक़ाबले {{{टेस्ट मुक़ाबले}}} 11
बनाये गये रन {{{टेस्ट रन}}} 285
बल्लेबाज़ी औसत {{{टेस्ट बल्लेबाज़ी औसत}}} 28.50
100/50 {{{टेस्ट 100/50}}} 0/3
सर्वोच्च स्कोर {{{टेस्ट सर्वोच्च स्कोर}}} 86
फेंकी गई गेंदें {{{टेस्ट गेंद फेंकी}}} 0
विकेट {{{टेस्ट विकेट}}} 0
गेंदबाज़ी औसत {{{टेस्ट गेंदबाज़ी औसत}}}
पारी में 5 विकेट {{{टेस्ट गेंदबाज़ी 5}}} 0
मुक़ाबले में 10 विकेट {{{टेस्ट गेंदबाज़ी 10}}} नहीं है
सर्वोच्च गेंदबाज़ी {{{टेस्ट सर्वोच्च गेंदबाज़ी}}}
कैच/स्टम्पिंग {{{टेस्ट कैच/स्टम्पिंग}}} 8/0

28 अप्रैल, 2007 के अनुसार
स्रोत: [1]

रोबिन उथप्पा (जन्म ११ नवम्बर १९८५ कोडगु, कर्नाटक में) भारत के एक क्रिकेट खिलाड़ी हैं। उनके एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत इंग्लैंड के खिलाफ सन् २००६ में हुई थी। उनके पिता श्री वेणु उथप्पा अंतर्राष्ट्रीय हॉकी के रेफरी थे।

घरेलू खिलाड़ी जीवन[संपादित करें]

रोबिन कर्णाटक के लिये खेलते हैं। २००५ के चैलेंजर प्रतियोगिता में उन्होंने इंडिया 'ब' की तरफ से इंडिया 'अ' के खिलाफ ६६ रन बनाए। अगले साल इसी प्रतियोगिता में उन्होंने इसी दल के लिए ९३ गेंदों में १०० रन बनाए, जिसकी सहायता से इंडिया 'अ' ने जीत पाई थी। इसके बाद वे भारतीय क्रिकेट दल के लिए चुने गए थे।

अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी जीवन[संपादित करें]

अपने पहले मैच में ही रोबिन ने ८६ रन बनाकर अपने अंतर्राष्ट्रीय कैरियर की अच्छी शुरुआत की थी। अप्रैल २००६ में इंग्लैंड के खिलाफ भारत में खेलने के बाद उन्हें अपना अगला मौका जनवरी २००७ में वेस्ट इन्डीस के खिलाफ मिला, जब उन्होंने सिर्फ ४१ गेंदों में ७० रन बनाए। २००७ क्रिकेट विश्व कप के लिए रोबिन चुने गए थे, लेकिन वहाँ खेले गए ३ मैचों में वे सिर्फ ३० रन बना पाए | २००७ नैटवेस्ट प्रतियोगिता में वे ३३ गेंदों में ४७ रन बनाए, जिससे भारत मैच जीते। मैच के पहले २-३ होते हुए भी इस पारी के बाद भारत के श्रृंखला-विजय की आशाएं जाग उठी | दक्षिण अफ्रीका में खेले गए २०-२० विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ रोबिन ने ५० रन बनाए। इससे वे २०-२० में भारत के पहले अर्धशतक बनाने वाले बल्लेबाज़ बने। भारत यह मैच बोल-आउट से जीता था, इसमें भी रोबिन ने एक गेंद फेका था जो विकेट पर लगी थी।

खेल का तरीका[संपादित करें]

अपने घरेलू खेल के दिनों से ही लगभग ४० के औसत से बल्लेबाजी करने के कारण रोबिन एक दिवसीय क्रिकेट विशेषज्ञ माने जाते हैं। यह अपने आक्रामक खेल के लिए जाने जाते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]