रावत राजपूत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रावत राजपूत भारत के पच्छिमी हिस्सों में पाया जाने वाला एक समुदाय है।रावत राजपूत का अर्थ उन राजपूत कुल के पूर्वजों से है जिन्हें मुगलिया सल्तनत के दौरान मुगलों से युद्ध में कौशल प्रदर्शन के कारण रावत उपाधी तत्कास अक्षर समर के लिये और इ की मात्रा समर में ताकत रखने वाले पुरुष और स्त्री के लिये तथा बिना जान की परवाह किये जोखिम में कूद जाने वाले को "सिंह" की उपाधि दी गयी है। जिस प्रकार से शेर किसी भी तरफ़ के बलवान और कमजोर की परवाह किये बिना अपने कुल की रक्षा के लिये दुश्मन के सामने कूद पडता है और जितना बल होता है उसी के अनुसार विजय और पराजय को स्वीकार करता है,तथा केवल अपने कमाये हुये अपने द्वारा मारे हुयेहैशिकार का ही भक्षण करता है,वही बात राजपूत के अन्दर होती है,राजपूत कभी किसी भी कमजोर जाति से धोखा नही करता है,मरता सामने है और मारता भी सामने है.लीन शासक द्वारा प्रदान की जाती थी। इन रावत उपाधी वाले राजपूतों को अन्य राजपूत सरदारों की अपेक्षा विशेषाधिकार प्राप्त होते थे।