प्रवचनसार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रवचनसार आचार्य कुन्दकुन्द की एक [1]महत्वपूर्ण कृति मानी जाती है यह समयसार के बाद की रचना है तथा सीमंधर स्वामी के समवसरण से लौटने के [2]पश्चात उनके प्रवचनों का सार के रूप में लिखी गई कृति है इसलिए इसका नाम भी प्रवचनसार रखा गया है यह तीन भागों में विभक्त है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://dli.serc.iisc.ernet.in/handle/2015/341362[मृत कड़ियाँ]
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 10 अक्तूबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 फ़रवरी 2016.