पटना मेट्रो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
पटना मेट्रो
जानकारी
क्षेत्र पटना, बिहार
यातायात प्रकार रैपिड ट्रांज़िट (त्वरित पारगमन)
लाइनों की संख्या 2 (फेज 1)
स्टेशनों की संख्या 26 (फेज 1)
प्रचालन
प्रचालन आरंभ 2027 (अपेक्षित)
संचालक पटना मेट्रो रेल निगम
तकनीकी
प्रणाली की लंबाई 31 कि॰मी॰ (19 मील) (planned)[1][2]
पटरी गेज 1,435 mm (4 ft 8 12 in)
विद्युतिकरण 2kV AC OHE

पटना मेट्रो बिहार की राजधानी पटना के लिए एक योजनाबद्ध रैपिड ट्रांज़िट (त्वरित पारगमन) प्रणाली है।[3] इसका स्वामित्व राज्य संचालित पटना मेट्रो रेल निगम द्वारा किया जाएगा।[4] इसका निर्माण सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) मोड पर किया जाएगा, जिसका खर्च 13,365.77 करोड़ (US$1.95 अरब) करोड़ होगा।[1] यह लागत भूमि अधिग्रहण लागत को छोड़कर है, जिसे बिहार सरकार द्वारा वहन किया जाना है।

14 सितंबर 2011 को, भारत के योजना आयोग ने पटना मेट्रो के लिए अनुमोदन दिया। सार्वजनिक-निजी साझेदारी मोड के तहत मेट्रो रेल दो मार्गों पर पेश किया जाएगा। 3 जुलाई 2018 को, बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने प्रस्तावित पटना मेट्रो रेल की संशोधित विस्तृत परियोजना रिपोर्ट को राज्य कैबिनेट के समक्ष पेश करने के लिए मंजूरी दे दी, जिसमें भूमि अधिग्रहण लागत सहित परियोजना के संशोधित अनुमानित लागत के साथ 19,500 करोड़ रुपये शामिल थे।[1] 4 मार्च 2019 को, पटना मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने औपचारिक रूप से इंदिरा भवन में अपना कार्यालय खोला।[5]

2027 तक पटना मेट्रो रेल दो कॉरिडोर पर चलने की उम्मीद है।[6][7] पटना मेट्रो के अंतर्गत कुल 26 मेट्रो स्टेशन बनाए जाने हैं। दानापुर-मीठापुर-खेमनीचक तक बनने वाले कोरिडोर-एक में 14 जबकि पटना जंक्शन रेलवे स्टेशन से आइएसबीटी तक बनने वाले कोरिडोर-दो में 12 स्टेशन बनाए जाने हैं। दोनों ही कोरिडोर में दो-दो इंटरचेंज स्टेशन होंगे। दोनों कोरिडोर मिलाकर 32 किमी से अधिक लंबी मेट्रो रेल परियोजना है। कोरिडोर एक 17.933 किमी का होगा जबकि कॉरिडोर- दो 14.564 किमी. का होगा।[8]

जनवरी 2022 में, एलएंडटी ने मेट्रो ऑपरेटर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) से पटना एमआरटीएस के चरण -1 के कॉरिडोर -2 के डिजाइन और निर्माण के लिए आदेश प्राप्त किया।[9] एलएंडटी ₹1,989 करोड़ (US$260 मिलियन) के इस अनुबंध को एक महत्वपूर्ण ऑर्डर के रूप में वर्गीकृत करता है।[10] परियोजना के काम के प्रमुख दायरे में छह भूमिगत मेट्रो स्टेशन शामिल हैं, जैसे राजेंद्र नगर, मोइन उल हक स्टेडियम, विश्वविद्यालय पीएमसीएच, गांधी मैदान और कॉरिडोर -2 की आकाशवाणी।[11] वाईएफसी - एमसीएल जेवी ₹553 करोड़ (US$73 मिलियन) की लागत से मीठापुर और पाटलिपुत्र में एलिवेटेड वायडक्ट, एलिवेटेड रैंप और कॉरिडोर -1 में सात स्टेशनों का डिजाइन और निर्माण करेगा।[12][13]

कॉरिडोर[संपादित करें]

मार्च 2022 में पटना मेट्रो निर्माण का निरीक्षण करते नीतीश

पटना मेट्रो के अंतर्गत दो कॉरिडोर बनाए जाएंगे। पहला कॉरिडोर दानापुर से मीठापुर 16.94 किलोमीटर का होगा तो दूसरा कॉरिडोर पटना जंक्शन से लेकर न्यू आईएसबीटी तक 14.45 किलोमीटर का होगा। IAS कॉलोनी स्टेशन का नाम बाद में पाटलिपुत्र कर दिया गया।

पहला कॉरिडोर- इस रूट में शगुना मोड़, आरपीएस मोड़, पाटलीपुत्रा, राजा बाजार, पटना जू, विकास भवन, हाईकोर्ट, पटना स्टेशन, मीठापुर आदि मेट्रो स्टेशन होंगे।

दूसरा कॉरिडोर- इस रूट में पटना जंक्शन, आकाशवाणी, गांधी मैदान, पीएमसीएच, राजेंद्र नगर, नालंदा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल, कुम्हरार, गांधी सेतु, आईएसबीटी आदि मेट्रो स्टेशन होंगे।

पटना मेट्रो और जायका (जापान इंटरनेशनल कॉरपोरेशन एजेंसी ) के बीच 5520.93 करोड़ ऋण के लिए के लिए का समझौता हुआ है।[14] जायका से राशि मिलने के बाद रूकनपुरा से लेकर राजेंद्र नगर तक अंडरग्राउंड मेट्रो का निर्माण कार्य शुरू होगा। इसमें कॉरिडोर वन का रूकनपुरा, राजाबाजार, पटना जू, विकास भवन, विद्युत भवन, पटना जंक्शन और कॉरिडोर टू का पटना जंक्शन, अकाशवाणी, गांधी मैदान, पीएमसीएच, पटना विवि, मोइनुलहक स्टेडियम, राजेंद्र नगर स्थित अंडरग्राउंड स्टेशन और लाइन बनाना शामिल है।

पटना मेट्रो

केंद्र और राज्य सरकार के फंड से 11 एलिवेटेड स्टेशन के साथ लाइन बनाना है। इसमें कॉरिडोर वन का दानापुर, सगुना मोड, आरपीएस मोड, पटलिपुत्र, मीठापुर, रामकृष्णा नगर, जगनपुर, खेमनीचक और कॉरिडोर टू का मलाही पकड़ी, खेमनीचक, भूतनाथ, जीरो माइल, न्यू आर्इएसबीटी एलिवेटेड स्टेशन शामिल है।

दोनों कारिडोर मिलाकर 24 मेट्रो स्टेशन हैं, पटना स्टेशन व खेमनीचक इंटरचेंज स्टेशन है।[15]

परियोजना विवरण[संपादित करें]

परियोजना सार्वजनिक-निजी साझेदारी पर आधारित होगी। केंद्र वैबिलिटी गैप फंड के रूप में लागत का 20 प्रतिशत प्रदान करेगा जबकि राज्य सरकार परियोजना के अंतिम अनुमान के आधार पर एक समान राशि खर्च करेगी। शेष राशि मेट्रो रेल के निर्माण में शामिल निजी कंपनी द्वारा पैदा की जाएगी। परियोजना की कुल लागत ₹ 10000- ₹ 15000 करोड़ होगी। पूरी मेट्रो सिस्टम को बढ़ाया जाएगा

पटना मेट्रो के मार्ग का मानचित्र

नेटवर्क[संपादित करें]

कॉरिडोर 1[संपादित करें]

साँचा:White
# Station Name[16] Total length in metres Interstation distance in metres Opening Connections Layout
English Hindi
1 Danapur Cantonment दानापुर छावनी 0.000 0.000 2024 None Elevated
2 Saguna Mor सगुना मोड़ 2024 None Elevated
3 RPS Mor आर पी एस मोड़ 2024 None Elevated
4 Patliputra पाटलिपुत्र 2024 None Elevated
5 Rukanpura रुकनपुरा 2024 None Underground
6 Raja Bazar राजा बाजार 2024 None Underground
7 Patna Zoo चिड़ियाघर 2024 None Underground
8 Vikas Bhawan विकास भवन 2024 None Underground
9 Vidyut Bhawan विद्युत भवन 2024 None Underground
10 Patna Junction पटना जंक्शन 2024 North-South line Underground
11 Mithapur मीठापुर 2024 None Elevated
12 Ramkrishan Nagar रामकृष्ण नगर 2024 None Elevated
13 Jaganpura जगनपुरा 2024 None Elevated
14 Khemnichak खेमनीचक 2024 North-South line Elevated

कॉरिडोर 2[संपादित करें]

साँचा:White
# Station Name[17][18] Total length in metres Interstation distance in metres Opening Connections Layout
English Hindi
1 Patna Junction पटना जंक्शन 0.000 0.000 2024 East-West line Underground
2 Akashvani आकाशवाणी 2024 None Underground
3 Gandhi Maidan गांधी मैदान 2024 None Underground
4 PMCH Hospital पी एम सी एच अस्पताल 2024 None Underground
5 Patna University पटना विश्वविद्यालय 2024 None Underground
6 Moin-ul-Haq Stadium मोइनुल हक स्टेडियम 2024 None Underground
7 Rajendra Nagar राजेन्द्र नगर 2024 None Underground
8 Malahi Pakri मलाही पकड़ी 2024 None Elevated
9 Khemnichak खेमनीचक 2024 East-West line Elevated
10 Bhootnath भूतनाथ 2024 None Elevated
11 Zero Mile जीरो मील 2024 None Elevated
12 New ISBT आई एस बी टी 2024 None Elevated

डिपो[संपादित करें]

पाटलिपुत्र बस टर्मिनल के पास , SH-1, बैरिया चक, संपतचक, पैजावा में बनने वाले पटना मेट्रो के लिए एक ही डिपो होगा।[19] कॉरिडोर 1 और 2 दोनों का डिपो एक जैसा होगा। कॉरिडोर I के दानापुर-मीठापुर-खेमनी चक और कॉरिडोर II के पटना रेलवे स्टेशन-नए ISBT के लिए डिपो सुविधाओं का निर्माण संपतचक, पैजावा में SH-1, बैरिया चक के पास किया जाना प्रस्तावित है।[20] डिपो में दो वर्कशॉप बे और तीन इंस्पेक्शन बे, आठ स्टैबलिंग बे होंगे, जिसमें 32 थ्री-कोच ट्रेनें और ऑटो-कोच वाशिंग प्लान शामिल हो सकते हैं। प्रशासनिक क्षेत्र में एक सभागार, प्रशिक्षण विद्यालय, कैंटीन और परिचालन नियंत्रण केंद्र शामिल होंगे। इसके अलावा, डिपो की बिजली आपूर्ति की आवश्यकता को पूरा करने के लिए 2500 केवीए क्षमता के एक सहायक सब-स्टेशन की योजना बनाई गई है।[21]

निर्माण स्थिति अपडेट[संपादित करें]

  • सितम्बर 2011: 14 सितंबर को, भारत का योजना आयोग ने पटना मेट्रो परियोजना के लिए मंजूरी दे दी।
  • मई 2015: विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) मई 2015 तक तैयार की जानी थी।[22][23]
  • फरवरी 2019: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 17 फरवरी 2019 को पटना के पहले मेट्रो रेल कॉरिडोर की आधारशिला रखी।[24] पटना मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन की स्थापना 18 फरवरी को हुई थी।
  • अगस्त 2022: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मोइन-उल-हक स्टेडियम में पटना मेट्रो रेल परियोजना के भूमिगत कार्य के शिलापट्ट का अनावरण करते हुए इसका शुभारंभ किया।[25]

भविष्य निर्माण[संपादित करें]

पटना महानगरीय क्षेत्र

दूसरे चरण में, मेट्रो रेल सेवाएं बाईपास चौक मीठापुर से दीदारगंज वाया ट्रांसपोर्ट नगर, एनएच 30 बाईपास 16.75 किलोमीटर (10.41 मील) के साथ प्रदान की जाएंगी; इसे बाइपास रोड पर एलिवेटेड किया जाएगा। तीसरा चरण, बाईपास चौक मीठापुर से फुलवारी शरीफ़ एम्स के बीच अनीसाबाद होते हुए एनएच 30 बाईपास 18.75 किलोमीटर (11.65 मील) के साथ, बाईपास रोड के साथ ऊंचा किया जाएगा। चौथा चरण दीदारगांग से फतुहा जंक्शन तक है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Chief secretary OKs metro rail's DPR". मूल से 26 जुलाई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 जुलाई 2018.
  2. "Patna Metro will run in 3 phase". Dainik Jagran. 23 October 2013. मूल से 29 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 October 2013.
  3. "मेट्रो निर्माण देखने निकले नीतीश:सीएम ने पटना मेट्रो के निर्माण कार्य में तेजी लाने के दिए निर्देश, एलिवेटेड वर्क दिखाया".
  4. "अब तेजी से हाेगा काम:पटना मेट्रो को जनवरी में मिलेगी डिपो निर्माण के लिए 76.645 एकड़ जमीन".
  5. "Minister opens Patna metro rail corp's office".
  6. "Patna: Land acquisition for metro depot aconcern as locals continue to protest".
  7. "2024 से कर सकेंगे पटना मेट्रो में सफर, कुछ ऐसा होगा रूट". मूल से 3 जुलाई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 जुलाई 2018.
  8. "सबसे पहले पटना के बस स्टैंड वाले रूट पर दौड़ेगी मेट्रो, इन स्थानों का सफर हो जाएगा आसान".
  9. "L&T Construction Secures Order For Phase-1 Of Patna Metro Project".
  10. "L&T Construction bags significant order from DMRC".
  11. "L&T Construction bags Patna Metro contract worth ₹1,000 cr– ₹2,500 cr".
  12. "Patna Metro: Underground and elevated construction work likely to begin in February".
  13. "Patna Metro Rail Project: Underground Stations to be Constructed at These Places".
  14. "Patna metro rail project may start rolling in three months".
  15. "पटना मेट्रो रेल के काम में आएगी गति, बनाए जाएंगे 24 स्‍टेशन; 13 हजार करोड़ रुपए से अधिक होंगे खर्च".
  16. "Patna Metro – Information, Route Map, Fares, Tenders & Updates". www.themetrorailguy.com. अभिगमन तिथि 27 July 2021.
  17. "Patna metro to be ready in five years". Times of India. 2020-09-23.
  18. "Patna Metro – Information, Route Map, Fares, Tenders & Updates". themetrorailguy.com. अभिगमन तिथि 21 January 2021.
  19. "Patna Metro rail work begins at Bairiya Chak".
  20. "Patna metro rail project: Work on ISBT depot may start soon".
  21. "Patna Metro Rail Project : पटना में मेट्रो रेल को लेकर तैयारियां जोरों पर, जल्द शुरू हो सकता है ISBT डिपो पर काम".
  22. "RITES to submit draft DPR for Patna metro rail project by May". hindustantimes.com. 9 एप्रिल 2015. मूल से 21 अगस्त 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 एप्रिल 2018.
  23. "Detailed project report for Patna metro by Oct 31". Business Standard. मूल से 10 जुलाई 2015 को पुरालेखित.
  24. "PM Modi laid the foundation stone". मूल से 18 February 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-02-17.
  25. "Patna: CM Nitish Kumar launches underground metro rail work".