सामग्री पर जाएँ

महात्मा गाँधी सेतु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
गाँधी सेतु
महात्मा गांधी सेतु का हवाई दृश्य
निर्देशांक25°37′19.0″N 85°12′25.7″E / 25.621944°N 85.207139°E / 25.621944; 85.207139निर्देशांक: 25°37′19.0″N 85°12′25.7″E / 25.621944°N 85.207139°E / 25.621944; 85.207139
आयुध सर्वेक्षण राष्ट्रीय ग्रिड[1]
वहनNational Highway 22 and National Highway 31[1]
पारGanga
स्थानपटना - Hajipur
आधिकारिक नामMahatma Gandhi Setu
अन्य नामGanga Setu
नामस्रोतMahatma Gandhi
रखरखावNational Highways Authority of India
लक्षण
डिज़ाइनGirder bridge
सामग्रीConcrete and steel
कुल लम्बाई5.75 कि॰मी॰ (18,900 फीट)
चौड़ाई25 मी॰ (82 फीट)
स्पैन संख्या45
इतिहास
डिज़ाइनरGammon India
निर्माणकर्ताGammon India Limited
निर्माण आरम्भ1972
निर्माण पूर्ण1982
खुलाMay 1982
सांख्यिकी
टोलNo (revoked)[2]
महात्मा गांधी सेतु के पुराने ठोस अधिरचना को बदलने से पहले

महात्मा गांधी सेतु पटना से वैशाली जिला को जोड़ने को लिये गंगा नदी पर उत्तर-दक्षिण की दिशा में बना एक पुल है।[3] यह दुनिया का सबसे लम्बा, एक ही नदी पर बना सड़क पुल है।[4] इसकी लम्बाई 5,750 मीटर है। भारत की प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी ने इसका उद्घाटन मई 1982 में किया था। इसका निर्माण गैमोन इंडिया लिमिटेड ने किया था।[5] वर्तमान में यह राष्ट्रीय राजमार्ग 19 का हिस्सा है। बाद में, महात्मा गांधी सेतु पर त्रिकोणीय स्टील ट्रस स्थापित करने के लिए गांधी सेतु पुनर्वास परियोजना शुरू की गई।[6]

गांधी सेतु पुनर्वास परियोजना[संपादित करें]

महात्मा गांधी सेतु को अब नया रूप दिया जा रहा है।[7] ऐसा हुआ हो सकता है कि अवर कंक्रीट के साथ मिलकर सुदृढीकरण की ऐसी हीन गुणवत्ता के कारण ऐसी भयावह विफलता हुई है। स्ट्रेस्ड केबल्स को बिलकुल भी नहीं लगाया गया है। वे डी-बॉन्ड टेंडन की तरह काम कर रहे हैं। कम से कम तनाव बचा है। यही कारण है कि बाद में किए गए बाहरी पूर्व-तनावों ने खोए हुए तनावों को दूर नहीं किया। यहां तक ​​कि केबल प्रस्तुत किए गए आरेखण के अनुरूप नहीं हैं। सभी के रूप में निर्मित चित्र कहते हैं कि डिजाइन कितना अनुचित था। केंद्रीय लगाम प्रदान करने से हो सकता है कि प्रतिकूल प्रभाव न दिया जाए क्योंकि उपरोक्त समस्याओं का उल्लेख किया गया है। अब यह स्पष्ट हो रहा है कि सभी विभागों में दोष थे, यह डिजाइन या निर्माण या पर्यवेक्षण या सामग्री की कमी। जरूरत है]

गांधी सेतु पुनर्वास परियोजना को एफकॉन इंफ्रास्ट्रक्चर द्वारा Sibmost OJSC के साथ 1,742.01 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत पर संयुक्त उपक्रम में क्रियान्वित किया जा रहा है।[8] उसमें से, 237 करोड़ रुपये उस ढांचे को ध्वस्त करने पर खर्च किए जाते हैं, जिसे स्टील के ढांचे से बदल दिया गया था। गांधी सेतु के अधिरचना का नवीनीकरण स्टील ट्रस गिर्डर्स द्वारा किया गया था, यानी स्टील फ्रेमवर्क ने पूरे सुपरस्ट्रक्चर को बदल दिया था।[9] जबकि अधिरचना क्षतिग्रस्त हो गई थी, खंभे नहीं थे और न ही नींव कमजोर हुई थी। गांधी सेतु के प्रत्येक फ्लैंक पर त्रिकोणीय स्टील ट्रस स्थापित किए गए थे। पुनर्निर्मित पश्चिमी फ्लैंक को 31 जुलाई 2020 को जनता के लिए खोला गया था।[10]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Rationalisation of Numbering Systems of National Highways" (PDF). New Delhi: Department of Road Transport and Highways. मूल (PDF) से 1 फ़रवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 May 2017.
  2. Madhuri Kumar (26 सितम्बर 2012). "Traffic eases on Gandhi Setu as Centre drops toll collection". पटना: द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. मूल से 30 एप्रिल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2017.
  3. "कभी रहा बिहार की शान, अब दु:स्‍वप्‍न बना गांधी सेतु". मूल से 22 अप्रैल 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 अप्रैल 2017.
  4. "संग्रहीत प्रति". मूल से 26 जून 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 जनवरी 2009.
  5. "गैमोन इंडिया लिमिटेड". मूल से 1 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 जून 2020.
  6. "Anatomy of Setu repair".
  7. Gandhi Setu revamp
  8. "'Western flank of Gandhi setu to be ready by June'".
  9. "Country's longest river bridge in Patna to be rebuilt".
  10. "Bihar: Union minister Nitin Gadkari inaugurates rehabilitated western flank of Mahatma Gandhi Setu".

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]