कानपुर मेट्रो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कानपुर मेट्रो
Image at the right side of the Corridor Section.png
जानकारी
क्षेत्र कानपुर, उत्तर प्रदेश , भारत
यातायात प्रकार Metro मेट्रो
लाइनों की संख्या योजनाएं 2 : प्रथम चरण ,द्वितीय चरण
स्टेशनों की संख्या 31 (प्रथम चरण में 23 स्टेशन ,द्वितीय चरण में 8 स्टेशन )
मुख्यालय उत्तर प्रदेश राज्य वस्त्र निगम लिमिटेड के निकट ,जी टी रोड ,शारदा नगर ,कानपुर-19
प्रचालन
स्वामि कानपुर मेट्रो रेल निगम लिमिटेड
हैडवे 4 मिनट
तकनीकी
प्रणाली की लंबाई 33 किलोमीटर
विद्युतिकरण 25 Kv OHE
अधिकतम गति 34 किलोमीटर /सेकण्ड

कानपुर मेट्रो भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में कानपुर नगर में निर्माणाधीन मेट्रो रेल परियोजना है। इस परियोजना का भविष्य में कानपुर मेट्रोपोलिटन क्षेत्र में विस्तार किया जायेगा।इस परियोजना का उद्घाटन दिनांक ४ अक्टूबर २०१६ को हुआ [1]

कानपुर मेट्रो का प्रथम गलियारा (कॉरिडोर -I)[संपादित करें]

यह गलियारा आई आई टी कानपुर प्रारम्भ होकर नौबस्ता में समाप्त होगा। इस गलियारे में निम्न स्टेशन निर्मित किये जायेंगे :

  • आई आई टी कानपुर
  • कल्याणपुर रेलवे स्टेशन
  • एसपीएम अस्पताल के पास बगिया क्रासिंग
  • सीएसजेएमयू
  • पालीटेक्निक चौराहा
  • गीता नगर
  • रावतपुर रेलवे स्टेशन
  • मोतीझील
  • हर्ष नगर
  • चुन्नीगंज
  • नवीन मार्केट
  • बडा चौराहा
  • फूल बाग
  • नयागंज
  • घंटाघर
  • झकरकटी
  • ट्रांसपोर्ट नगर
  • बारादेवी
  • किदवई नगर
  • बसंत बिहार
  • बौद्ध नगर
  • नौबस्ता[2][3]

कानपुर मेट्रो का द्वितीय गलियारा (कॉरिडोर-II )[संपादित करें]

यह मेट्रो रेल लाइन चंद्र शेखर कृषि विश्वविद्यालय से प्रारम्भ होकर जरौली तक जाएगी इस लाइन पर निम्न स्टेशन बनाये जाने की योजना है।

  • सीएसए यूनिवर्सिटी
  • रावतपुर रेलवे स्टेशन
  • काकादेव
  • डबलपुलिया
  • विजय नगर चौराहा
  • गोविंदनगर
  • बर्रा रोड
  • बारा-7
  • बर्रा-8 [4][5]

परियोजना की लागत[संपादित करें]

इस मेट्रो रेल परियोजना की लागत रु 13,721 है [6]जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी और यूरोपीय निवेश बैंक कानपुर मेट्रो परियोजना के लिए ऋण प्रदान करेगा।

मेट्रो यार्ड[संपादित करें]

पोलीटेकनिक के निकट ४० एकड़ क्षेत्र में २४ कोच की मेट्रो ट्रेन खड़ी करने के लिए यार्ड का निर्माण चालू है। यार्ड के निर्माण की जिम्मेदारी सैम इंडिया विल्ट प्राइवेट लिमिटेड को दी गई है। इसके लिए बाउंड्रीवॉल बनाने का काम चल रहा है।[7]

सन्दर्भ[संपादित करें]