दाग (1973 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दाग

दाग1.jpg
दाग का

पोस्टर
निर्देशक यश चोपड़ा
निर्माता यश चोपड़ा
लेखक अख़्तर-उल-ईमान (संवाद)
कहानी गुलशन नन्दा
अभिनेता राजेश खन्ना,
शर्मिला टैगोर,
राखी
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
छायाकार के जी
संपादक प्राण मेहरा
प्रदर्शन तिथि(याँ) 27 अप्रैल, 1973
समय सीमा 146 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी
कुल कारोबार 6.5 करोड़

दाग 1973 में बनी हिन्दी भाषा की नाट्य प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसका निर्देशन यश चोपड़ा ने किया और ये उनकी निर्माता के रूप में पहली फ़िल्म रही। इस प्रकार यश राज फिल्म्स की नींव रखी गई। इसमें राजेश खन्ना, शर्मिला टैगोर, राखी, मदन पुरी, कादर ख़ान, प्रेम चोपड़ा और ए के हंगल मुख्य कलाकारों में शामिल हैं। जारी होने पर फ़िल्म सुपर हिट रही थी और इसके गीत भी मशहूर रहे।

संक्षेप[संपादित करें]

युवा सुनील कोहली (राजेश खन्ना), सुंदर सोनिया (शर्मिला टैगोर) को पसंद करने लगता है। जल्द ही, वे शादी कर लेते हैं और अपने हनीमून के लिए निकल जाते हैं। रास्ते में, खराब मौसम के कारण, वे सुनील के मालिक के बंगले में एक रात बिताने का फैसला करते हैं। जब सोनिया अकेली होती है, बॉस का बेटा धीरज कपूर (प्रेम चोपड़ा) उसके साथ बलात्कार करने की कोशिश करता है। लेकिन सुनील समय पर पहुँच जाता है, और एक लड़ाई शुरू हो जाती है, जिसके परिणामस्वरूप धीरज की मृत्यु हो जाती है। सुनील को गिरफ्तार किया जाता है और बाद में अदालत ने उसे मौत की सजा सुनाई है।

लेकिन, जेल जाते समय, उसे ले जाने वाली पुलिस वैन दुर्घटनाग्रस्त हो जाती है। सभी मारे जाते हैं। वर्षों बाद, सोनिया, एक स्कूल शिक्षक के रूप में काम कर रही होती है और सुनील और अपने बेटे को पाल रही होती है। उसे पता चलता है कि उसका पति अभी भी जीवित है। वह सुधीर के रूप में एक नई पहचान के साथ जी रहा होता है, और उसकी शादी चाँदनी (राखी) नामक एक अमीर महिला से हो रखी है। पुलिस वैन से भागने के बाद, सुनील ने चाँदनी से मुलाकात की थी। उसके प्रेमी ने उसकी गर्भावस्था के बारे में जानने के बाद छोड़ दिया था। सुनील ने अपनी नई पहचान स्थापित करने में मदद के बदले उसके बच्चे को वैधता प्रदान करने के लिए उससे शादी की। अब, इतने सालों के बाद, कानून एक बार फिर से उसके दरवाजे पर है। इस बार, हालाँकि, उसके नाम एक और अपराध है: द्विविवाह

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

  • गीत "अब चाहे माँ रूठे या बाबा" बिनाका गीत माला की 1973 वार्षिक सूची पर ७वे पायदान पर रही|
  • गीत "मेरे दिल में आज क्या है" बिनाका गीत माला की 1973 वार्षिक सूची पर 20वे पायदान पर रही|[1]

सभी गीत साहिर लुधियानवी द्वारा लिखित; सारा संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."हवा चले कैसे"लता मंगेशकर5:43
2."नी मैं यार मनाना नी"लता मंगेशकर, मीनू पुरुषोत्तम5:47
3."हम और तुम तुम और हम"किशोर कुमार, लता मंगेशकर4:06
4."अब चाहे माँ रूठे या बाबा"लता मंगेशकर, किशोर कुमार5:30
5."मेरे दिल में आज क्या है"किशोर कुमार4:11
6."जब भी जी चाहे"लता मंगेशकर4:21
7."मैं तो कुछ भी नहीं" (संवाद)राजेश खन्ना2:24

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1974 यश चोपड़ा फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ निर्देशक पुरस्कार जीत
राजेश खन्ना फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार नामित
राखी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कार जीत
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार नामित
किशोर कुमार ("मेरे दिल में आज क्या है") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]