कभी कभी (1976 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कभी कभी
कभी कभी.jpg
कभी कभी का पोस्टर
निर्देशक यश चोपड़ा
निर्माता यश चोपड़ा
अभिनेता अमिताभ बच्चन,
शशि कपूर,
राखी,
ऋषि कपूर,
वहीदा रहमान,
नीतू सिंह
संगीतकार खय्याम
प्रदर्शन तिथि(याँ) 27 फरवरी, 1976
देश भारत
भाषा हिन्दी

कभी कभी 1976 में बनी हिन्दी भाषा की नाट्य रूमानी फिल्म है। इसका निर्देशन और निर्माण यश चोपड़ा ने किया और इसमें अमिताभ बच्चन, राखी, शशि कपूर, वहीदा रहमान, ऋषि कपूर, नीतू सिंह और सिमी गरेवाल समेत कलाकार शामिल हैं। यह यश चोपड़ा की निर्देशक के रूप में दीवार के बाद दूसरी फिल्म थी जिसमें प्रमुख भूमिकाओं में अमिताभ बच्चन और शशि कपूर थे। इसे विशेषकर खय्याम की संगीत रचनाओं के लिए ख्याति मिली, जिन्होंने सर्वश्रेष्ठ संगीत के लिए फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार जीता था, जबकि फिल्म के गीतकार साहिर लुधियानवी ने "कभी कभी मेरे दिल में" के लिये सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार जीता था, वह गीत जिससे गायक मुकेश को सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक के लिये पुरस्कार भी मिला।

संक्षेप[संपादित करें]

अमित मल्होत्रा ​​(अमिताभ बच्चन) कॉलेज / विश्वविद्यालय में अपनी कविताओं में से एक को पढ़ता है जहां वह साथी छात्र पूजा (राखी) से मिलता है, और वे प्यार में पड़ते हैं। लेकिन पूजा के माता-पिता ने उसकी एक वास्तुकार विजय खन्ना (शशि कपूर) से शादी करने की व्यवस्था की। दिल टूटे अमित घर लौटता है और अपने पिता के व्यवसाय एक निर्माण कंपनी में शामिल होता है और बाद में अंजलि (वहीदा रहमान) से शादी करता है, जिसकी गुप्त रूप से पिंकी (नीतू सिंह) नाम की एक बेटी है जो पूर्व वैवाहिक संबंध से है। अमित और अंजली की बेटी स्वीटी है। इस बीच, पिंकी को बेघर जोड़े और श्रीमती आर पी कपूर ने अपनाया है।

अगली पीढ़ी में, पूजा और विजय का बेटा विक्रम (ऋषि कपूर) है, जिसे "विकी" भी कहा जाता है। वह एक पार्टी में रहते हुए पिंकी से प्यार करने लगता है, और शादी करने की दोनों की योजनाएं होती हैं। जब पिंकी अपने गोद लेने और उसकी असली मां की पहचान जान जाती है, तो वह अंजलि के करीब पहुंचने की कोशिश करती है। अंततः अंजलि ने उसके अस्तित्व को स्वीकार किया और गुप्त रूप से अपनी बेटी पर अपना प्यार दिखाया, लेकिन वह अपने विवाह के लिये डरते हुए अपने पति से यह संबंध प्रकट नहीं करती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत साहिर लुधियानवी द्वारा लिखित; सारा संगीत खय्याम द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."कभी कभी मेरे दिल में – संवाद"अमिताभ बच्चन1:03
2."कभी कभी मेरे दिल में" (डुएट)मुकेश, लता मंगेशकर4:59
3."कभी कभी मेरे दिल में" (सोलो)मुकेश4:46
4."तेरे चेहरे से नजर नहीं"किशोर कुमार, लता मंगेशकर5:03
5."मैं पल दो पल का शायर"मुकेश3:22
6."सुर्ख जोड़े की ये जगमगाहट"लता मंगेशकर3:46
7."प्यार कर लिया तो क्या"किशोर कुमार3:41
8."मेरे घर आई एक नन्ही परी"लता मंगेशकर2:34
9."मैं हर एक पल का शायर हूँ"मुकेश2:48
10."तेरा फूलों जैसा रंग"किशोर कुमार, लता मंगेशकर6:13

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1977 खय्याम फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार जीत
साहिर लुधियानवी ("कभी कभी मेरे दिल में") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार जीत
मुकेश ("कभी कभी मेरे दिल में") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार जीत
सागर सरहदी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पटकथा पुरस्कार जीत
यश चोपड़ा फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म पुरस्कार नामित
यश चोपड़ा फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ निर्देशक पुरस्कार नामित
अमिताभ बच्चन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार नामित
राखी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार नामित
शशी कपूर फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार नामित
वहीदा रहमान फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कार नामित
मुकेश ("मैं पल दो पल का शायर") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]