आईएसआईएस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इस्लामिक राज्य का ध्वज
इराकी, सीरियाई और लेबनानी लड़ाइयों में वर्तमान सैन्य स्थिति। ██ सीरियाई विपक्ष द्वारा नियंत्रित ██ सीरियाई सरकार द्वारा नियंत्रित (रूस द्वारा समर्थित) ██ इराकी सरकार द्वारा नियंत्रित ██ लेबनानी सरकार द्वारा नियंत्रित ██ हिजबुल्लाह द्वारा नियंत्रित ██ इराक एवं शाम के इस्लामी राज्य (आईएसआईएस) द्वारा नियंत्रित ██ अल-नुसरा द्वारा नियंत्रित ██ सीरियाई कुर्दी बलों द्वारा नियंत्रित ██ इराकी कुर्दी बलों द्वारा नियंत्रित ██ विवादित क्षेत्र ध्यान दें: इराक और सीरिया में विशाल रेगिस्तानीय क्षेत्र हैं जिनमें सीमित आबादी रहती है। इन क्षेत्रों को उनमें स्थित सड़कों और कस्बों को नियंत्रित करने वाले बालों के अधीन दर्शाया गया है।

इस्लामी राज्य (अरबी : ﺍﻟﺪﻭﻟﺔ ﺍﻹﺳﻼﻣﻴﺔ al-Dawlah al-Islāmīyah) जून २०१४ में निर्मित एक अमान्य राज्य तथा इराक एवं सीरिया में सक्रिय जिहादी सुन्नी सैन्य समूह है। अरबी भाषा में इस संगठन का नाम है 'अल दौलतुल इस्लामिया फिल इराक वल शाम'। इसका हिन्दी अर्थ है- 'इराक एवं शाम का इस्लामी राज्य'। शाम सीरिया का प्राचीन नाम है।[1][2]

इस संगठन के कई पूर्व नाम हैं जैसे आईएसआईएस अर्थात् 'इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया', आईएसआईएल्, दाइश आदि। आईएसआईएस नाम से इस संगठन का गठन अप्रैल 2013 में हुआ। इब्राहिम अव्वद अल-बद्री उर्फ अबु बक्र अल-बगदादी इसका मुखिया है।[3] शुरू में अल कायदा ने इसका हर तरह से समर्थन किया किन्तु बाद में अल कायदा इस संगठन से अलग हो गया। अब यह अल कायदा से भी अधिक मजबूत और क्रूर संगठन के तौर पर जाना जाता हैं।[4]

यह दुनिया का सबसे अमीर आतंकी संगठन है जिसका बजट 2 अरब डॉलर का है।[5] २९ जून २०१४ को इसने अपने मुखिया को विश्व के सभी मुसलमानों का खलीफा घोषित किया है। विश्व के अधिकांश मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्रों को सीधे अपने राजनीतिक नियंत्रण में लेना इसका घोषित लक्ष्य है। इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिये इसने सबसे पहले लेवेन्त क्षेत्र को अपने अधिकार में लेने का अभियान चलाया है जिसके अन्तर्गत जॉर्डन, इजरायल, फिलिस्तीन, लेबनान, कुवैत, साइप्रस तथा दक्षिणीतुर्की का कुछ भाग आता हैं।[6] आईएसआईएस के सदस्यो की संख्या करीब 10,000 हैं।[7]

नाम परिवर्तन[संपादित करें]

29 जून 2014 को एक नया खिलाफत की स्थापना के साथ अबु बक्र अल-बगदादी को नामित खलीफा और समूह को औपचारिक रूप से इसका नाम "इस्लामिक स्टेट" रख दिया गया

प्रचार का प्रपंच[संपादित करें]

आइएस का प्रचार तंत्र वेहद मजबुत है परंपरागत तोर तरीको से लेकर आधुनिक तकनीक का प्रयोग। बर्बर वीडीयो दृश्यो से लेकर कट्टरपंथ को बढ़ाबा देने बाले संदेशो को प्रचारित - प्रसारित करने के लिए दक्ष लोगो की पूरी टीम मौजूद लेकिन वर्तमान समय में इसका क्षेत्रफल सिकुड़ता जा रहा है।

आइएस की संपत्ति तथा आय के स्त्रोत[संपादित करें]

ऊर्जा संयंत्र[संपादित करें]

आइएस के कब्जे सीरिया के आठ बड़े ऊर्जा संयंत्र है इनसे बनी बिजली और गैस बेचकर बह मोटी कमाई करता था।

अपहरण[संपादित करें]

आइएस के आंतकी बिदेशी नागरिको और गैर मुस्लिमो को बंधक बनाते थे इनको छोड़ने के एवज में मोटी रकम वसूलते थे लेकिन अपहरण से 3 अरब सालाना वसूलते थे तथा वैँको लूटकर भी अधिक धन जुटाता था ।[8]

कच्चा तेल[संपादित करें]

आइएसआइएस एक समय में 34 हजार से 40 हजार बैरल तक कच्चा तेल बेचकर आइएस प्रतिदिन 10 करोड़ की कमाई करता था। उसके नियंत्रण में इराक और सीरिया के लगभग दस तेल के बड़े कुएँ थे आइएस से तेल खरीदने वाले इसकी तस्करी जार्डन तुर्की और ईरान जैसे देशों में होती थी लेकिन अब ये तेल के कुएं अब आइएस के कब्जे में नहीं है सेना ने स्बतन्त्र करा लिये

आइएसआइएस को विदेशी सहायता[संपादित करें]

विदेशी संगठन और कुछ देश आइएस को चंदे के रूप में हर महीने करोड़ो रुपये मुहैया कराते हैं वर्ष 2013 में खाड़ी देशों से ही आइएस को करीब 10 करोड़ का चंदा मिला था।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

आईएसआई का अंत[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]


विश्व के प्रमुख आतंकवादी संगठन UA Flight 175 hits WTC south tower 9-11 edit.jpeg
अल कायदा | कौमी एकता मूवमेंट | बास्कस | आयरिश नेशनल लिबरेशन आर्मी | आयरिश रिपब्लिक आर्मी | रेड ब्रिगेड्स | शाइनिंग पाथ | रेड आर्मी गुट | हिज्बुल्लाह् | पापुलर फ्रंट फार लिबरेशन आफ पैलेस्टाइन | अबु निदाल गुट | उल्स्टर डिफेंस एसोसिएशन | जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट | डेमोक्रेटिक फ्रंट फार लिबरेशन आफ पैलेस्टाइन | पीपुल्स मूवमेंट फार लिबरेशन आफ अंगोला | सराजो | अल्फोरा विवा | फाराबंदो मार्ती लिबरेशन फ्रंट | कु क्लुल्स क्लान | नेशनल यूनियन फार द टोटल | इंडीपेंडें आफ अंगोला | तमिल इलाम मुक्ति शेर| ख्मेर रूज | नेशनल लिबरेशन आर्मी | नेशनल डिग्रीटी कमांड | विकटर पोले | कारेन नेशन लिबरेशन आर्मी | जैश-ए-मोहम्म्द | हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी | रणवीर सेना | उल्फा