अल-कलम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अल-क़लम : क़ुरान का ६८ वां अध्याय (सूरा)। इस को सूरा नून भी कहते हैं। यह सूरा मक्का में अवतरण हुआ, इस लिये इसे मक्की सूरा भी कहते हैं।

सन्दर्भ विशेशता[संपादित करें]

इस सूरा में तीन विशय हैं। १) मुखालिफ़ैन के एतेराजात का जवाब (२) उन्को तनबीह, नसीहत यानी उपदेश (३) हज़रत मुहम्मद को सब्र और धीरज रखने की सूचना।


पिछला सूरा:
<<
कुरान अगला सूरा:
>>
सूरा {{{1}}}

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75 76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100 101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112 113 114


इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन