हमीरपुर जिला, उत्तर प्रदेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

स्रोत :- नंद मौर्य राजवंश

हमीरपुर ज़िला
{{{Local}}}
India Uttar Pradesh districts 2012 Hamirpur.svg

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर ज़िले की अवस्थिति
राज्य उत्तर प्रदेश
Flag of India.svg भारत
प्रभाग चित्रकूट
मुख्यालय हमीरपुर, उत्तर प्रदेश
क्षेत्रफल 4,121 कि॰मी2 (1,591 वर्ग मील)
जनसंख्या 1,104,021 (2011)
जनघनत्व 268/किमी2 (690/मील2)
साक्षरता 70.16 per cent
तहसीलें Hamirpur Tehsil, Rath Tehsil, Maudaha Tehsil, Sarila Tehsil
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र Hamirpur
विधानसभा सीटें Hamirpur, Rath
राजमार्ग National Highway 86
आधिकारिक जालस्थल

हमीरपुर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला है। हमीरपुर नाम से ही एक जिला हिमाचल प्रदेश में भी है।

यह जिला बुन्देलखण्ड के अंतर्गत आता है। जिले का मुख्यालय हमीरपुर है। यह शहर यमुना तथा बेतवा नदियों के संगम पर बसा है। यह कानपुर के दक्षिण में लगभग ६८ किमी की दूरी पर स्थित है। यहां मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर भरुआ सुमेरपुर में, ८ किमी० दूर बरीपाल में (हमीरपुर रोड) रेलवे स्टेशन हैं। जिले में 4 तहसीलें हमीरपुर, मौदहा, राठ और सरीला हैं। 7 विकास खण्ड कुरारा, सुमेरपुर, मौदहा, मुस्करा, राठ, सरीला और गोहाण्ड हैं। 3 नगर पालिका हमीरपुर, मौदहा और राठ व 4 नगर पंचायतें कुरारा, सुमेरपुर, गोहाण्ड व सरीला हैं।

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

सिंहमहेश्वरी (संगमेश्वर) मंदिर, चौरादेवी मंदिर,श्री सत्ता बाबा मंदिर(कुतुबपुर कुरारा), मेहर बाबा मंदिर, गायत्री तपोभूमि, बाँके बिहारी मंदिर, ब्रह्मानन्द धाम, कल्पवृक्ष और निरंकारी आश्रम आदि यहां के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से हैं। यह जिला जालौन, जिला कानपुर देहात, और फतेहपुर जिले के उत्तर, बांदा जिले के पूर्व, महोबा जिले के दक्षिण और झांसी जिले के पश्चिम से घिरा हुआ है। यमुना और बेतवा यहां की प्रमुख नदियां है। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के समय में भी इस जगह भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है।


सिंहमहेश्वरी मंदिर (संगमेश्वर मन्दिर)[संपादित करें]

यह मंदिर भगवान शिव और माता पार्वती को समर्पित है। यह मंदिर यमुना नदी के तट पर स्थित जिला मुख्यालय के समीप मेरापुर ग्राम में है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह मंदिर काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। माना जाता है कि यह मंदिर गुप्त काल के समय का है। संगम तट के निकट होने के कारण इसका शुद्ध नाम संगमेश्वर मन्दिर भी है।

चौरादेवी मंदिर[संपादित करें]

चौरा देवी मंदिर का निर्माण एक पीपल के वृक्ष के समीप करवाया गया है। मंदिर में चौरा देवी (काली देवी) की प्रतिमा स्थित है। माना जाता है कि एक बार किसी भक्त के स्वप्न में आधी रात को देवी ने दर्शन दिए थे। कुछ समय के पश्चात् मंदिर के समीप ही एक खूबसूरत पार्क का निर्माण करवाया गया था।

श्री सत्ता बाबा मंदिर[संपादित करें]

सत्ता बाबा मंदिर का निर्माण एक तालाब के किनारे कराया गया था। यह मंदिर एक महात्मा की समाधि पर स्थित है, माना जाता है कि एक महात्मा तपस्या के लिए बैठे थे और उनकी समाधि वही बन गई। इस मंदिर में बहुत दूर-दूर से लोग अपनी मनोकामना मांगने आते हैं। यह मंदिर कुतुबपुर गांव के बाहर स्थित है।

मेहर बाबा मंदिर[संपादित करें]

मेहर मंदिर का निर्माण 1964 ई. में परमेशवरी दयाल पुकार ने करवाया था। परमेशवरी अवतार मेहर बाबा के बहुत बड़े भक्त थे। 18 नवम्बर 1970 ई. को मंदिर में अवतार मेहर बाबा की प्रतिमा स्थापित की गई थी। प्रत्येक वर्ष 18 और 19 नवम्बर को विश्व प्रेम मेले का आयोजन किया जाता है। जिसमें देश-विदेश से बाबा के भक्त आते हैं।

बाँकेबिहारी मंदिर[संपादित करें]

इस मंदिर का निर्माण 1872 ई. में पण्डित धानी राम ने अपने भतीजे प्रागदत्त की पुण्यतिथि पर करवाया था। यह मंदिर पूरे बुंदेलखंड में अपनी कला के लिए प्रसिद्ध है।

सिटी फॉरेस्ट[संपादित करें]

सिटी फॉरेस्ट की स्थापना वन विभाग द्वारा की गयी थी। हमीरपुर-कालपी मार्ग के समीप स्थित यह जगह हमीरपुर से लगभग दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह जगह विशेष रूप से पिकनिक स्थल के रूप में काफी प्रसिद्ध है।

ब्रह्मानन्द बांध[संपादित करें]

पूर्व मे इस बांध का नाम मौदहा बांध था जिसे बदलकर ब्रम्हानंद बांध कर दिया गया। इस बांध का निर्माण स्वामी ब्रह्मानन्द की याद में करवाया गया था। यह बांध मुस्करा ब्लॉक के छानी गांव में स्थित है।

कल्पवृक्ष[संपादित करें]

कल्पवृक्ष हमीरपुर स्थित यमुना नदी के तट पर स्थित है। यह काफी पुराना वृक्ष है और भारत के बहुत ही कम जगहों पर देखा जा सकता है।

साईं दाता आश्रम[संपादित करें]

हमीरपुर जिले में साईं दाता पंथ के कई आश्रम है। ग्राम- बिवार में जन्मे दाता हकसफा शाह ने फैजाबाद के मजनाई आकर दाता मोहन शाह की परम्परा में साधना की। वापस लौटकर विवार से 6 किमी पूर्व कोइलहा गांव के पास जंगल में आश्रम बनाया। दाता हकसफा शाह द्वारा स्थापित आश्रम आज भी हजारों श्रद्धालुओं की श्रद्धा का केंद्र है।।

बांधुर बुजुर्ग[संपादित करें]

बिवार गांव से 5 किमी पश्चिम में सरीला मार्ग पर स्थित बांधुर गांव में दो आश्रम हैं। छोटे आश्रम के प्रमुख दाता एन कानून शाह हैं। बड़े आश्रम में महिला दाता प्रमुख हैं।

सबसे निकटतम हवाई अड्डा कानपुर है। हमीरपुर भारत के कई प्रमुख शहरों से रेलमार्ग द्वारा पहुंचा जा सकता है। भारत के कई प्रमुख शहरों से सड़कमार्ग द्वारा हमीरपुर पहुंचा जा सकता है।

बाहरी कड़ियां[संपादित करें]