सदस्य वार्ता:SM7/पुरालेख 6

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पुरालेख 5 पुरालेख 6 पुरालेख 7

अनुक्रम

Disappearing table on जुड़वा 2

Hello! I hope it is okay to speak to you in English. A bug exists https://phabricator.wikimedia.org/T186499 on जुड़वा_2 in that the table does not appear. I noticed you are making changes to the template that generates the table (and using the sandbox). Are you able to explain why the table might be disappearing? Thanks in advance! Jdlrobson (वार्ता) 00:46, 6 फ़रवरी 2018 (UTC)

Jdlrobson the problem was with older version of Template:Track listing, now it has been resolved by implementation of Lua version based on Module:Track listing. Just visited the bug, I believe it, too, has been closed as resolved. Sorry for hurried reporting of this local problem as phab bug. --SM7--बातचीत-- 17:15, 6 फ़रवरी 2018 (UTC)
Thanks for the help! I appreciate it! Jdlrobson (वार्ता) 21:52, 6 फ़रवरी 2018 (UTC)

किसी शब्द को सुरक्षित करना

वर्तमान में विकिपीडिया:प्रबन्धक सूचनापट पर गुर्जर शब्द को अवरुद्ध करने की चर्चा चल रही है। वर्तमान में इस शब्द को लेकर हिन्दी विकी पर काफी बर्बरता हो रही है। मेरा मत है कि शब्द अवरुद्ध करना सही नहीं है परन्तु उसे स्वतः स्थापित सदस्य के स्तर पर सुरक्षित करना बेहतर विकल्प है। कल मेरी इस विषय को लेकर संजीव से बात हुई थी। उन्हें इस विकल्प के बारे में पता नहीं था तथा उन्होंने आपसे बात करने की सलाह दी थी। कृपया बताये कि हिन्दी विकी पर यह विकल्प उपलब्ध हैं या नहीं और अगर नहीं है तो स्थापित करने का प्रयत्न करें। धन्यवाद!-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 07:33, 18 मई 2018 (UTC)

Godric ki Kothri जी, जहाँ तक मेरी समझ है, किसी शब्द को किसी स्तर पर सुरक्षित करना शायद उचित न हो। समुदाय की सर्वसम्मति के बाद भी नहीं और स्थानीय रूप से ऐसा विकल्प उपलब्ध होने पर भी नहीं। आप चाहें तो पुनरीक्षकों की संख्या बढ़ा लें, तब भी काम न चले तो मेटा पर स्टीवर्ड से बात करें। --SM7--बातचीत-- 09:04, 18 मई 2018 (UTC)
@SM7: जी, या एक अन्य विकल्प ये भी है कि ऐसे पृष्ठों को देखते ही अस्थायी रूप से सुरक्षित कर दिया जाय?-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 03:13, 19 मई 2018 (UTC)
Godric ki Kothri जी, यह विकल्प तो है ही। बस बहुत लंबे समय के लिए सुरक्षित न करें। --SM7--बातचीत-- 19:21, 19 मई 2018 (UTC)

बिना कारण पेज हटाये जाने हेतु

नमस्कार सर मुझे आप से ही उम्मीद है कि मैने डॉ हंसराज जोशी रावल ब्राह्मण नाम से एक हिंदी मे पेज बनाया था।जीवनी के बारे में ओर वो हमारे जिले के एक शिक्षा विद थे। ओर मैनें उस पेज मे संदर्भ भी सही तरीके से जोड़ा था उसके बावजूद उस पेज को पता नही किसने डिलेट किया है और अगर डिलेट किया होता तो मुझे मेरी विकिपीडिया id पर एक सूचना आती की किसने डिलेट किया है लेकिन वो सूचना भी नही आई ताकि मे कारण जान सकू कृपया करके मेरी सहायता कर। LOKESH RAWAL (वार्ता) 13:36, 2 अगस्त 2018 (UTC)

Loksa108 जी, पन्ने हटाने की सूचना नहीं आती हां हटाने के लिए नामांकन की सूचना अवश्य पृष्ठ निर्माता को मिलती है। आपके द्वारा बनाए गए पन्ने को हटाने हेतु चर्चा की प्रक्रिया के तहत उल्लेखनीय न पाकर हटाया गया है, कृपया विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/लेख/डॉ हंसराज जोशी (रावल ब्राह्मण) देखें। --SM7--बातचीत-- 13:45, 2 अगस्त 2018 (UTC)

सर डॉ हंसराज जोशी कनाडा में यॉर्क यूनिवरसिटी के गणित विभाग के बहुत बड़े प्रोफेसर थे जिन्हें कई अवार्ड से सम्मानित किया गया था साथ ही साथ उन्होंने हमारे ग्रामीण क्षेत्र में बहुत बड़ी विद्यालय बनाई थी जहाँ बच्चे पढ़ सके ओर हमारे यह के ग्रामीण लोगो के लिए बहुत प्रेरणा स्रोत थे और सिरोही जिले की शान थे कृपया करके मेरा आपसे निवेदन है कि आप इस पेज को वापस विकिपीडिया मे जोड़े मे आपको विशेष निवेदन करता हु। ओर मैं नीचे university ki आधिकारिक वेबसाइट से जानकारी प्राप्त कर सकते है। ओर एक न्यूज पेपर की लिंक भी दे रहा हु। https://m.legacy.com/obituaries/thestar/obituary.aspx?n=hansraj-pitamberdas-joshi&pid=174707335&referrer=0&preview=false http://yfile.news.yorku.ca/2015/04/30/passings-professor-hansraj-joshi-was-a-long-serving-faculty-member-at-york-university/LOKESH RAWAL (वार्ता) 14:15, 2 अगस्त 2018 (UTC)

मेरा निवेदन है आपसे

सर डॉ हंसराज जोशी कनाडा में यॉर्क यूनिवरसिटी के गणित विभाग के बहुत बड़े प्रोफेसर थे जिन्हें कई अवार्ड से सम्मानित किया गया था साथ ही साथ उन्होंने हमारे ग्रामीण क्षेत्र में बहुत बड़ी विद्यालय बनाई थी जहाँ बच्चे पढ़ सके ओर हमारे यह के ग्रामीण लोगो के लिए बहुत प्रेरणा स्रोत थे और सिरोही जिले की शान थे कृपया करके मेरा आपसे निवेदन है कि आप इस पेज को वापस विकिपीडिया मे जोड़े मे आपको विशेष निवेदन करता हु। ओर मैं नीचे university ki आधिकारिक वेबसाइट से जानकारी प्राप्त कर सकते है। ओर एक न्यूज पेपर की लिंक भी दे रहा हु। https://m.legacy.com/obituaries/thestar/obituary.aspx?n=hansraj-pitamberdas-joshi&pid=174707335&referrer=0&preview=false http://yfile.news.yorku.ca/2015/04/30/passings-professor-hansraj-joshi-was-a-long-serving-faculty-member-at-york-university/ LOKESH RAWAL (वार्ता) 16:59, 2 अगस्त 2018 (UTC)

मीडियाविकि:Gadget-twinklexfd.js के सम्बन्ध में

नमस्कार, आपने उक्त संदर्भित पृष्ठ पर यह बदलाव किया था। मुझे इस बदलाव का कारण/उपयोग समझ नहीं आ रहा है। कृपया बताएँ ताकि मैं ट्विंकल में अद्यतन उपयुक्त रूप से कर सकूँ (मैं ट्विंकल के अद्यतन पर इस समय अपने सदस्य नामस्थान में कार्य कर रहा हूँ)।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 16:39, 4 अगस्त 2018 (UTC)

नमस्ते सिद्धार्थ जी, हहेच समापन करने का जो औजार शुभम कनोडिया जी ने यहाँ अपनी स्क्रिप्ट के रूप में स्थापित किया था वो अद्यतन न होने के कारण काम नहीं कर रही थी। उसे मैंने अपने उपपृष्ठ के रूप में सदस्य:SM7/closeAFD.js पर लाकर अद्यतन किया। वर्तमान में इससे केवल लेख हटाने वाली चर्चा समाप्त की जा सकती है; संजीव जी के कहने पर मैं इसे बाकी नामस्थानों से संबंधित चर्चाओं के लिए विस्तारित कर रहा था। उस दौरान साँचो से हहेच नामांकन हटाने के लिए मैं सही से regex नहीं लिख पा रहा था (मुझे प्रोग्रामिंग नहीं आती)। अतः प्रयोग कर रहा था और नामांकन के साथ जुड़ने वाली सामग्री (हहेच टैग) के बाद कुछ और खाली लाइने जोड़ने पर मैं हहेच टैग को चर्चा समापन के समय हटाने में सफल हो पा रहा था।
उसी प्रयोग के दौरान यह बदलाव किया था। बाद में मैंने उस स्क्रिप्ट पर काम करना बंद कर दिया (यह सदस्य:SM7/closeXFD.js के नाम से थी) लेकिन भूल वश ट्विंकल में यह बदलाव छूट गया। आप इसे पूर्ववत कर के अपना कार्य आगे बढ़ा सकते हैं।--SM7--बातचीत-- 17:27, 4 अगस्त 2018 (UTC)
जानकारी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:31, 4 अगस्त 2018 (UTC)

Dot to Poorna Viram

I see that you've changed the website's common.js so that all dots input are automatically converted into poorna viram। Kindly revert the same since the dot is used not only as a fullstop। This would make adding decimals, dots in code like css and javascript etc impossible। This can instead be added as a gadget, which is opt-in, ie not enabled by default for everyone Best Regards--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:40, 5 अगस्त 2018 (UTC)

PS:I just noticed this has been present for over two years now। I therefore change my request to moving this to a gadget which is enabled by default for everyone। That would give registered users the option to disable this (as I wish to do)। Thanks and Regards--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:57, 5 अगस्त 2018 (UTC)
तो ये आपने किया था। मुझे भी ये पसंद नहीं। वैसे मेरे साथ ये पिछले कुछ महीनों से ही हो रहा है।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 09:07, 5 अगस्त 2018 (UTC)
सिद्धार्थ जी, इसे ctrl+. से टॉगल किया जा सकता है, हालाँकि इसके लिए कहीं डाकुमेंटेशन की व्यवस्था नहीं की गयी। बाज़ दफ़े मुझे ख़ुद इससे परेशानी होती है। इस बारे में इस कोड के लिखने वाले सदस्य:स जी (तत्कालीन सदस्य:Sfic) से बात कर सकते हैं।
मैं इसे रिवर्ट नहीं कर सकता क्योंकि मैं अब प्रबंधक नहीं हूँ। इसके लिए @संजीव कुमार: जी से अनुरोध करता हूँ। --SM7--बातचीत-- 09:08, 5 अगस्त 2018 (UTC)
PS:चौपाल पे प्रस्तावित किया गया था और उस समय मुझे यह सही लगा था। किसी और ने कोई आपत्ति नहीं की जिसके बाद इसे लागू किया गया था। --SM7--बातचीत-- 09:21, 5 अगस्त 2018 (UTC)
@सिद्धार्थ जी, SM7 जी, और हिंदुस्थान वासी जी: मुझे भी ctrl+. विकल्प का पता नहीं था। हालांकि इसे गैजेट के रूप में रखने का प्रस्ताव मुझे अच्छा लगा। चर्चा करके इसको सिद्धार्थ जी के सुझाये गैजेट के रूप में कर दें? नारायम के साथ सम्पादन करते समय मुझे "." से "।" में बदलने का लाभ समझ नहीं आया लेकिन कई बार जब अन्य उपकरणों को काम में लेते हैं तब यह थोड़ा उपयोगी है। हालांकि अपने हिन्दी में पूर्णविराम और लाघव चिह्न दोनों के लिए अंग्रेज़ी में शायद डॉट ही है।☆★संजीव कुमार (✉✉) 19:16, 6 अगस्त 2018 (UTC)

मेरा निवेदन है आपसे डॉ हंसराज जोशी रावल ब्राह्मण नामक पेज को पुनः जोड़े

सर डॉ हंसराज जोशी कनाडा में यॉर्क यूनिवरसिटी के गणित विभाग के बहुत बड़े प्रोफेसर थे वे भारत मे काशी विश्व हिंदू विश्वद्यालय से पीएचडी डिग्री धारी थे तथा वे अमेरिका की कई विश्वविद्यालय जाम्बिया यूनिवर्सिटी आदि में विदेशी लोगो को वैदिक गणित का ज्ञान वैदिक गणित संबधित जानकारी देकर अपने भारत की संस्कृति को विश्व के समक्ष प्रस्तुत करते थे। जिन्हें कई अवार्ड से सम्मानित किया गया था साथ ही साथ उन्होंने हमारे ग्रामीण क्षेत्र में बहुत बड़ी विद्यालय बनाई थी जहाँ बच्चे पढ़ सके ओर हमारे यह के ग्रामीण लोगो के लिए बहुत प्रेरणा स्रोत थे और सिरोही जिले की शान थे कृपया करके मेरा आपसे निवेदन है कि आप इस पेज को वापस विकिपीडिया मे जोड़े मे आपको विशेष निवेदन करता हु। ओर मैं नीचे university ki आधिकारिक वेबसाइट से जानकारी प्राप्त कर सकते है। ओर एक न्यूज पेपर की लिंक भी दे रहा हु। मैं अंततः अपने शब्दों को विराम देते हुए आपसे यही निवेदन करूँगा की आप इस पेज को पुनः विकिपीडिया मे जोड़ने का कष्ट करावे। ओर अभी इस पेज को मैने पूरा नही बनाया था जब पूरा बनेगा तो यह पेज सभी भारतीयों के लिए डॉ हंसराज जोशी के जीवनी पर उनके सफल कार्य जिससे देश विदेश में उनके आज भी चर्चे है। तो आप इस पेज को जोड़ने का कार्य करे मे आपका हृदय से आभारी रहूंगा।

https://m.legacy.com/obituaries/thestar/obituary.aspx?n=hansraj-pitamberdas-joshi&pid=174707335&referrer=0&preview=falsehttp://yfile.news.yorku.ca/2015/04/30/passings-professor-hansraj-joshi-was-a-long-serving-faculty-member-at-york-university/

LOKESH RAWAL (वार्ता) 20:28, 7 अगस्त 2018 (UTC)

SM7Bot

नमस्ते SM7 जी, आपके बॉट ने हाल में एक ग़लत कार्य किया है - clean up, replaced: Infobox mountain range → Infobox mountain AWB के साथ। इसमें कई ज्ञानसंदूक़ों से जानकारी नष्ट हुई है। मसलन [1] बदलकर [2] हो गया। कृप्या इन बदलावों को पूर्ववत कर दीजिए। इन छोटी-मोटी चीज़ों के अलावा, इस अत्यंत महत्वपूर्ण सेवा को चलाने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 16:55, 10 अगस्त 2018 (UTC)

Hunnjazalजी नमस्ते, यह त्रुटिवश नहीं हुआ है, बल्कि यह व्यवहार ज्ञात है। फिलहाल, जिन लेखों में पहले साँचा:Infobox mountain range का प्रयोग हुआ था उनमें कुछ समय के लिए ऐसी त्रुटि प्रदर्शित हो रही है जिसे जल्द ही दूर कर लिया जाएगा। इसकी सूची मेरे प्रयोगपृष्ठ पर सबसे नीचे के अनुभाग में है। आप भी हाथ बंटा सकते हैं। करना यह है कि संगत अंग्रेजी लेख खोलकर वहां से coord साँचे द्वारा इनपुट किये जा रहे निर्देशांक लगाने हैं जबकि पहले से ये |lat=, |long= के रूप में हैं। दूसरा कार्य यह कि सबसे ऊपर
{{Infobox mountain
| name =

के स्थान पर

{{ज्ञानसन्दूक पर्वत
| name =

का प्रयोग करना है।

इसे आपके बताये लेख में इस तरह किया है।

असल में साँचे में बदलाव मैंने पहले कर दिया और लेखों में बदलाव अभी करना है; अगर पहले लेखों में बदलाव करता और बाद में साँचे में तो भी जैसे जैसे लेखों में बदलाव करता जाता उनमें दूसरी त्रुटियाँ दिखतीं। अतः किसी ओर से भी शुरू करने पर यह कार्य पूर्ण होने तक कुछ लेखों में त्रुटि को झेलना ही है। फिलहाल यह हिस्सा कल तक पूर्ण कर दूँगा।--SM7--बातचीत-- 17:21, 10 अगस्त 2018 (UTC)

Hunnjazalजी उक्त बदलावों के कारण आ रही त्रुटियों को दूर कर दिया है। --SM7--बातचीत-- 19:00, 10 अगस्त 2018 (UTC)
धन्यवाद SM7 जी! इस प्रकार के काम कठिन और उलझे हुए होते हैं और इन्हें करने के लिए मेरी व पूरे विकिसमाज ओर से आभार!! --Hunnjazal (वार्ता) 21:00, 10 अगस्त 2018 (UTC)

2018 केरल बाढ़ लेख में चार्ट का प्रयोग

नमस्कार! ऊपर लिखित लेख के वर्षापात आँकड़े खण्ड में एक चार्ट का प्रयोग हुआ है, जो शायद ऋणात्मक आंकड़ो को पढ़ नहीं पा रहा तथा उस स्थान पर कुछ भी नहीं दिखा रहा। जबकि अंग्रेजी पृष्ठ में यह समस्या नहीं है। मुझे समझ नहीं आया इसे कैसे सही करना है। इसलिये आप से अनुरोध है कि इस समस्या को सही करें। धन्यवाद!-- गॉड्रिक की कोठरीमुझसे बातचीत करें 09:54, 19 अगस्त 2018 (UTC)

@Godric ki Kothri: Module:Chart पुराना पड़ गया था, अंग्रेजी से कॉपी करके अद्यतन करने से समस्या ठीक हो गयी है। --SM7--बातचीत-- 10:23, 19 अगस्त 2018 (UTC)

Javascript warnings due to ShortUrlShare

Hello.

I am seeing the following warnings in the console on Google Chrome originating from the ShortUrlShare gadget:

  • Use of "wgServer" is deprecated. Use mw.config instead.
  • Use of "wgPageName" is deprecated. Use mw.config instead.
  • Use of "wgTitle" is deprecated. Use mw.config instead.

Kindly look into the issue। Best regards--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 04:46, 25 अगस्त 2018 (UTC)

@: जी, कृपया इसे देखकर सूचित करें। --SM7--बातचीत-- 04:56, 25 अगस्त 2018 (UTC)
done.--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:36, 9 सितंबर 2018 (UTC)

आपके हहेच नामांकन

नमस्ते @SM7: जी,
आपने हाल ही में कुछ शीह नामांकन किये हैं। पृष्ठ देखकर लग रहा है कि आपने पुरालेख के वार्तापृष्ठ पन्नों को पुरालेख का खालीपृष्ठ समझकर नामांकन किया है। कारण में खाली पृष्ठ के साथ अनावश्यक और खाली पुरालेख पन्ने; जब आवश्यकता हो तभी बनायें लिखा है जब कि ये पुरालेख के पृष्ठ नहीं है परंतु वार्तापृष्ठ है। वैसे पुरालेख के वार्तापृष्ठ में चर्चा की कभी आवश्यकता नहीं पड़ती ऐसा देखा गया है। हटाने में कोई आपत्ति नहीं है और रखने में भी कोई आपत्ति नहीं है। शीह की श्रेणी में केवल वहीं पृष्ठ आते हैं जिसे शीघ्रता से हटाने की आवश्यकता हो। इस विषय में ऐसा नहीं है अतः छोटी सी चर्चा के आधार पर इन सभी पृष्ठों को हटा देना बेहतर होगा।--आर्यावर्त (वार्ता) 04:03, 4 सितंबर 2018 (UTC)

नमस्ते आर्यावर्त जी, पुरालेखों के वार्ता पन्ने नहीं उन्हें वार्ता पन्नों के पुरालेख के रूप में ही माना जाता है; पुरालेख के वार्ता पन्ने का कोई तुक नहीं है क्योंकि पुरालेख में संपादन नहीं किया जाता और उसके वार्ता पन्ने की आवश्यकता नहीं होती। --SM7--बातचीत-- 05:20, 4 सितंबर 2018 (UTC)
जी, ठीक है। धन्यवाद।--आर्यावर्त (वार्ता) 05:29, 4 सितंबर 2018 (UTC)

पुरालेख

नमस्कार, पुरालेख साँचा अब मेरे वार्ता पृष्ठ पर पुरालेखों की सूची नहीं दर्शा रहा है, जबकि यह पहले दर्शाता था। कृपया साँचे में बदलावों की एक बार पुनः जाँच करें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 03:47, 8 सितंबर 2018 (UTC)

सिद्धार्थ घई जी, फिलहाल इसे पुराने अवतरण पर कर दिया है। रात में समय मिला तो देखूँगा। ----SM7--बातचीत-- 04:09, 8 सितंबर 2018 (UTC)

ज्वालामुखी उद्भेदन

Types of वॉलकनिक eruption को हिंदी में कैसे रूपांतर करें। कहीं कोइलिंक है क्या? Emasterji (वार्ता) 05:03, 16 सितंबर 2018 (UTC)emasterji

Emasterji जी ऐसा कोई लिंक नहीं उपलब्ध। यदि आप इस विषय से संबंधित हैं तो जो अनुवाद आपको बहुधा पाठ्यपुस्तकों में मिलते हैं उन्हें लिखदें। सुधार तो कभी भी किया ही जा सकता। शुभकामनायें। --SM7--बातचीत-- 06:01, 16 सितंबर 2018 (UTC)

समान श्रेणी है तो पुरानी स्थापित की

नमस्ते, आपने कुछ सम्पादन पूर्ववत् किये परन्तु वो उचित नहीं था, अतः आपके व्यवहार सा ही मैंने व्यवहार किया। मशीनी अनुवाद बाद में बना था और यान्त्रिक अनुवाद पहेले। आप मुझे सम्पादन से दूर रखना चाहते हैं, ये सर्वविदित है, परन्तु मैं काम करने का प्रयास कर रहा हूँ और सीधे सीधे ये प्रताड़ित किया जा रहा है। मेरा निवेदन है कि शान्ति से काम करें और करने दें। अस्तु। ॐNehalDaveND 12:24, 17 सितंबर 2018 (UTC)

गेमिंग द सिस्टम समझते हो ? --SM7--बातचीत-- 12:29, 17 सितंबर 2018 (UTC)

जन्माष्टमी और गणेश चतुर्थी को काम किया था, तो एक साथ दो दिन का अवकाश मिला है, मैं आपके साथ विवाद करके उसे व्यर्थ करना नहीं चाहता। मुझे इतना पता है कि मशीनी अनुवाद और यान्त्रिक अनुवाद दोनों एक समान श्रेणी है और यान्त्रिक अनुवाद की श्रेणी पहले बनी थी, तो मैंने समानता के लिये श्रेणीबद्धता का कार्य किया है। इसके अतिरिक्त मेरा कोई मत है ही नहीं। अस्तु। ॐNehalDaveND 12:36, 17 सितंबर 2018 (UTC)
NehalDaveND मैंने कल भी छुट्टी ले रखी है, इसका मतलब यह नहीं एक आपही अहसान कर रहे योगदान करके। बहरहाल, आप बड़ी खूबसूरती से अपना संस्कृताइजेशन का एजेंडा पूरा करने का प्रयास कर रहे। आपको मौका मिला पुरानी और नई श्रेणी के रूप में। श्रेणियों का उपयोग देखें तो नई वाली अधिक लेखों में प्रयुक्त थी लेकिन उसे आपको हटवाना था जिसके लिए आपने पाँच लेखों को नई श्रेणी से पुरानी में डाला। कुछ अन्य लेखों को उस श्रेणी में जोड़ा और कुल संख्या पुरानी श्रेणी में नौ हो गयी जबकि पहले उसमें एकमात्र लेख था। फिर नई श्रेणी को हहेच किया।
उपरोक्त क्रियाकलाप के बजाय आप श्रेणियों के विलय का नामांकन कर सकते थे। ख़ास तौर से इस कारण कि आपको अधिक प्रयुक्त श्रेणी के ऊपर कम प्रयुक्त और विकीडेटा ने न जुडी श्रेणी को वरीयता देनी थी। क्या आप बताएँगे कि यदि "मशीनी अनुवाद" नाम "यान्त्रिक अनुवाद" से ज्यादा स्वीकार्य होने पर भी आपने श्रेणी को पुराने होने की वरीयता के बजाय स्वीकार्यता और इस्तेमाल के आधार पर विलय करना क्यों उचित नहीं लगा।
आपके द्वारा किया संपादन इसलिए पूर्ववत किया गया क्योंकि आपका यह कार्य गलत भी था और दुर्भावना पूर्ण भी। पूर्ववत आपके संपादन को किया गया था और इसका कारण जानने के लिए प्रश्न करने का कष्ट भी आपही को करना था न कि स्वयं कूद कर इस नतीजे पर पहुँच जाना कि पूर्ववत करना गलत है और बर्बरता है, उसे आप पुनः प्रत्यावर्तित कर सकते हैं।
एक पुनरीक्षक को |बर्बरता क्या नहीं है तक न पता हो, प्रत्यावर्तन और पुनः प्रत्यावर्तन में संबंधित सदस्य से बातचीत करने की जिम्मेदारी किसकी होती, और प्रत्यावर्तन कब नहीं करना चाहिए; ऐसी दशा में उसे इस अधिकार को रखने का बिलकुल हक़ नहीं। आप बिना नीतियों को जाने समझे इतने दिनों तक पुनरीक्षण के नाम पे क्या करते रहे यह भी जाँचा जाना चाहिए। अतएव आपको पुनरीक्षक के रूप में कार्य करते रहना चाहिए अथवा नहीं इसके लिए मैं उचित स्थान पर सदस्यों की राय जानने हेतु और यथोचित निर्णय लेने हेतु रखता हूँ। आगे आप मुझे नहीं समुदाय अथवा प्रबंधकों को संबोधित करके अपनी बात रखें। सादर। --SM7--बातचीत-- 17:08, 17 सितंबर 2018 (UTC)
बर्बरता जानबूझकर सामग्री जोड़ कर, हटा कर या परिवर्तित कर कर विकिपीडिया की अखंडता के साथ समझौता करने का प्रयास है। ये प्रथम वाक्य आपने पढ़ा होता तो आपको बर्बरता का अर्थ पता चलता। वास्तविकता ये है कि आपको पहले चर्चा करनी चाहिये थी कि, मैंने किस कारण ये परिवर्तन किया। उसके पश्चात् यदि मेरा कारण अनुचित लगता तो आप आगे कार्यवाही कर सकते थे। मैं भी पुनरीक्षक हूँ, कम से कम परस्पर सद्भावना के कारण भी आप पूछ सकते थे। परन्तु आपने किये सम्पादन को पूर्ववत् किया। मेरे अधिकार हटाने के सन्दर्भ में जो आपने नामाङ्कन किया है, वो आपकी मनमानी को प्रदर्शित करता है। समुदाय जो निर्णय लेगा वो मुझे स्वीकार्य होगा। उर्दू भाषा, अंग्रेजी भाषा के शब्द यदि हिन्दी में स्वतन्त्रता से विचरण कर सकते हैं, तो संस्कृत के क्यों नहीं? मैं उन शब्दों का विरोधी नहीं परन्तु आप वैसे मुझे प्रस्तुत कर रहे हैं। वास्तव में आप और पीयूष जी संस्कृत शब्दों के विरोध में अभियान चलाए हुए हैं, जो उर्दू और अंग्रेजी शब्दो के जैसे ही हिन्दी का अङ्ग है। अब दो श्रेणी है, जो समान नाम से है, तो विवेक के आधार पर पूर्वनिर्मित श्रेणी को स्थापित करना था और मैंने किया। यदि कहीं इससे विपरीत भी हुआ है, तो मैंने उसके सन्दर्भ में कुछ नहीं बोला है। कृपया अपनी दुर्भावना से मेरे कार्य को अनुचित न घोषित करें। अपनी दुर्भावना को अपने से दूर करें। अस्तु। ॐNehalDaveND 02:00, 18 सितंबर 2018 (UTC)
चेतावनी - सामुदायिक इनपुट को अस्वीकार या उपेक्षित करना: निष्पक्ष संपादकों के विरोध के बावजूद एक निश्चित बिंदु के अनुसरण में संपादन करना जारी रखना। इस नियम के अन्तर्गत विघटनकारी सम्पादन किया है आपने। समुदाय में मत रहा है कि, यदि शब्द भेद से एक जैसे पृष्ठों या श्रेणीओँ का निर्माण हो जाए, तो पहले बने में पश्चात् बने को विलय करना चाहिये। या दूरसे को दूर करना चाहिये। इस के पश्चात् भी संस्कृत शब्दों के प्रयोग को संस्कृतीकरण करने के आरोप-बिन्दु का अनुसरण करके आपने सम्पादन अविरत किया है। विकिपीडिया:विघटनकारी सम्पादन इस लेख में आप इसका परिणाम जान सकते हैं। अस्तु। ॐNehalDaveND 03:34, 18 सितंबर 2018 (UTC)

प्रबन्धक अधिकार नियमावली

प्रबन्धक अधिकार नियमावली पर आपके और आर्यावर्त जी के २८ सितम्बर २०१८ के बदलावों को पूर्ववत कर दिया गया है क्योंकि ये बदलाव बिना किसी पूर्व आम सहमति के किये गये थे।☆★संजीव कुमार (✉✉) 19:46, 19 अक्टूबर 2018 (UTC)

Page

Dear Hindi Wiki Page https://hi.m.wikipedia.org/wiki/राहुल_मेंघ_आर्य

Create from Reliable Source.These page didn,t Advertise Any Person। These Page Already Checked by Hindi Wiki Team.Dear सदस्य:SM7 Pls Remove L2 Tag.

Google,Yahoo,Bing @Rahul Megh Arya

Thanks

Happy Diwali To All Wiki Team



इन्द्रकील पर्वत

महाभारत के वन पर्व एवं शिवपुराण के रुद्रसंहिता में स्पष्ट लिखा है कि इन्द्रकील पर्वत उत्तर दिशा एवं हिमालय में स्थित है। और अर्जुन ने शिव की तपस्या गंगा नदी के तट पर की। महाभारत में वर्णित इंद्रकील, कैरात, खांडव वन क्रमशः इंदल- कायान, महादेव, एवं खांडू जैसे स्थानीय नामों से जाने जाते है। कैरात रूपी शिव के साथ अर्जुन युद्ध जो की पुराणों में वर्णित है स्थानीय लोग इद्रकील के साथ इसका भी बखान करते है।आज भी महादेव का भव्य मंदिर यहां पर स्थापित है। एक शिला जिस पर पंजे का निशान बना है अर्जुन की हथेली के निशान माना जाता है। यह स्थान हिमालय के निकटवर्ती (गंगोत्री एवं यमुनोत्री के मध्य) , गंगा नदी के तट पर, महादेव के मंदिर एवं स्थानीय नामों एवं जनश्रुतियों पर आधारित होने के कारण, इसको प्रमाणित किया जा सकता है। [SS Bartwal]

@Surendra Singh Bartwal: जी नमस्ते, देर के लिए माफ़ी चाहता हूँ। महाभारत और पुराणादि में वर्णित स्थानों की वर्तमान अवस्थिति के बारे में अक्सर विवाद रहते हैं। उत्तर दिशा और हिमालय पर होना एक व्यापक इलाका कवर करता है। मैंने इंटरनेट पर जितना खोजा मुझे इसके वर्तमान स्थिति के बारे में उत्तराखंड के आलावा हिमाचल में और कैलाश श्रेणी में होने की बातें भी लिखी दिखीं हालाँकि, वो सभी स्रोत विकिपीडिया के मानकों के अनुसार नहीं थे अतः उन्हें लेख में उद्धृत नहीं किया जा सकता।
दूसरी चीज, विकिपीडिया पर कई स्रोतों से सामग्री लेकर उनके संश्लेषण से कोई निष्कर्ष निकाल कर लिखना मना है, इसे हम मूल शोध कहते हैं, यानी आप ऐसा करके अपनी रिसर्च यहाँ लिख रहे हैं। इसके विपरीत विकिपीडिया पर वे बातें ससंदर्भ लिखी जाती हैं जिन्हें अन्य लोगों ने निष्कर्ष के रूप में माना हो और उनके निष्कर्ष प्रतिष्ठित प्रकाशन से छपे हुए हों। अतः यदि इस पर्वत के बारे में कुछ लोगों से शोध किया हो और वह चीजें प्रकाशित हों, पर्याप्त मात्रा में हो, और संबंधित विषय के लोगों में इसे मान्यता हो तो ही हम उन स्रोतों का उद्धरण देकर लिख सकते।
उपरोक्त बातों को ध्यान में रखते हुए आप हिंदी विकिपीडिया पर अपना अमूल्य योगदान जारी रखें। शुभकामनाएँ। --SM7--बातचीत-- 18:04, 20 नवम्बर 2018 (UTC)

इंद्र कील पर्वत

धन्यवाद महोदय आपने चर्चा के लिए समय निकाला, महोदय में विकिपीडिया पर अभी नया हूं। लेकिन मै यह बात आपको विश्वास के साथ कह सकता हूं कि इंद्र कील से संबंधित जो जानकारी मैंने दी है उसकी प्रमाणिकता निम्न बातों से पता चलती है। हिमाचल में कुल्लू क्षेत्र में जो इंद्र कील पर्वत है उसका इंद्र कील धारी पर्वत है, अगर इसको सही माना भी जाए , तो यह गंगा कहीं भी नहीं है जो महाभारत पुराण में स्पष्ट रूप से लिखा है की अर्जुन ने गंगा तट पर तपस्या की। इससे अलावा जो अन्य स्थान जो इंटरनेट में दिखते है। वह महाभारत की कहानी से मेल नहीं होता। क्योंकि यह कहा गया है कि गंध मादन पर्वत को लांगकर अर्जुन इंद्र कील पहुंचा । तो यह पर्वत वर्तमान में केदार नाथ के आस पास है जो उत्तराखण्ड में स्थित है। उस पर्वत से उत्तर दिशा की तरफ गंगोत्री और यमुनोत्री जो विशाल हिमालय और गंगा और यमुना की उदगम स्थली है। इस से स्पष्ट है कि यह स्थान इस हिमालय के आस पास होगा। दूसरी बात यह है कि वह के स्थानीय लोगों की यह दृढ़ विश्वास है कि स्थानीय इंदल कयाण ही इंद्र कील है। शिव अर्जुन युद्ध के शिला पर निशान एवं गंगातट पर शिव मंदिर आदि अनेक कारण जो इंद्र कील को यहीं पर सिद्ध करते है। मेरा सिर्फ इतना प्रयास है कि सच्चाई विकिपीडिया पर आए, यदि कोई इसका विरोध करता है या फिर अन्य जगह इसकी स्थिति दिखाता है तो पौराणिक प्रमाण के साथ चर्चा करें। आप अपने स्तर से भी खोज कर सकते है। संपादकीय पृष्ठ यदि विकिपीडिया के नियम के तहत नहीं है तो हमें मार्गदर्शन कीजिए हम उस पृष्ठ को अच्छा करने का प्रयास करेंगे। लेकिन इंद्र कील पर्वत को यथावत रखने की कृपा करें। विकिपीडिया जो ज्ञान का सागर है उसमे यह कड़ी भी जुड़े यही आशा है।

Surendra Singh Bartwal (वार्ता) 13:14, 21 नवम्बर 2018 (UTC)

प्रयोगस्थल का साँचा

(आपसे प्राप्त पाठ आपकी सुविधा के लिए यहाँ पेस्ट किया गया है)

नमस्ते, आपने इस संपादन द्वारा इसे खाली कर दिया है जैसे कि हम लोग पहले किया करते थे। परन्तु हाल ही में कुछ लोगों ने बड़ी मेहनत से इस पन्ने पर प्रदर्शित होने के लिए कुछ चीजें बनाई हैं। अतः अब इस पन्ने की सफाई करते समय ध्यान दें कि इसे पूरा नहीं खाली करना है बल्कि नीचे दी गयी सामग्री से बदल देना है:

{{Please leave this line alone (sandbox heading)}}<!--

*               प्रयोगस्थल में आपका स्वागत है!              *

*              कृपया इस भाग को ऐसे ही छोड़ दें             *

*                यह पृष्ठ नियमित साफ़ होता है।              *

*         अपने सम्पादन यहां निश्चिन्त होकर कौशल प्रयोग करें        *

■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■-->

यानी अब खाली करने की जगह इस सामग्री को पेस्ट करना है। शुभकामनाएँ। --SM7--बातचीत-- 18:02, 22 अगस्त 2018 (UTC)

धन्यवाद! --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:55, 22 अगस्त 2018 (UTC)
आपने प्रयोगस्थल मेरे सम्पादन को उलटकर यह प्रमाणित कर दिया कि अब हिन्दी विकिपीडिया आप जैसे मुट्ठी-भर लोगों की सम्पत्ति रह गई है! बधाई और सहृदयतापूर्ण धन्यवाद!!--मुज़म्मिल (वार्ता) 17:33, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मुज़म्मिल जी अगर आपकी समझदानी में वाकई इतनी जगह होती तो समझ सकते थे कि वहाँ मेरे द्वारा किया जा रहा परीक्षण अभी पूर्ण नहीं हुआ है। जब आपको मैंने ही उसे सही तरीके से खाली करना बताया है तो उमीद रखें कि जब कार्य ख़त्म हो जाएगा मैं पन्ने को उचित अवस्था में ले आऊँगा। फिलहाल उसपे रखी सामग्री को कई प्रबंधको को देखने के लिए लिखा हूँ। इसलिए वहाँ सफाई करने में अपना समय बर्बाद न करें। आपका शुभाकांक्षी। --SM7--बातचीत-- 17:41, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
आप में यदि विकि-सभ्यता या व्यव्हारिक नरमी का कोई तत्व होता तो आप मेरे यहाँ पाठ रखते ही इस पर कुछ कहते। पर आपके अनुसार सारी "समझदानी" आप में है, बाक़ी विकि-सदस्य तो मूर्ख हैं! धन्यवाद!! --मुज़म्मिल (वार्ता) 17:52, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मुज़म्मिल जी, निरर्थक बातें आप अपने मन से समझ लेते हैं, जबकि आपके ध्यानाकर्षण पर उत्तर देने में समय नष्ट न करते हुए मैंने अपना कार्य जारी रखा यह सीधी बात आपको न समझ में आई? और किसी अतिरिक्त नरमी की कोई उमीद न करें। आपने इसे ही तो अवरोधित करवाने के लिए मुद्दा बना रक्खा है, अब क्या बीच में आपको धोखा देना उचित होगा? --SM7--बातचीत-- 18:05, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
वर्तमान रूप से मैं सामाजिक समरसता के लेख पर काम कर रहा था, इसलिए आपके तीखे और आदर-सम्मान रहित पूर्व के व्यवहार को लगभग भूल चुका था। निश्चित रूप से अपने वास्तविक स्वभाव के विपरीत व्यवहार प्रकट करके धोखा देना उचित नहीं है। इसलिए कृपया करके आपके मन में मेरे लिए जितनी भी गालियाँ आ रही हैं, निसंकोच लिख डालिए। इससे वर्तमान प्रबंधकगण बिना किसी द्विविधा या संदेह के आपको अवरोधित कर सकते हैं। --मुज़म्मिल (वार्ता) 18:41, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
परेशान न हों, मैं भी अभी कुछ शीह नामांकित लेखों को बचाने के प्रयास में हूँ केवल आप ही विकिपीडिया पर कार्य करते हैं ऐसा नहीं है जो बार बार दिखाते रहते कि यह कर रहा - वह कर रहा या गिनाते रहते कि मैंने ये किया है। वैसे एक बात बताइये आप 20000 संपादन करके बटेर की तरह गर्दन करके फोटो खिंचवा सकते हैं, और हमने किसी को 50,000 संपादन होने की बधाई के रूप में बार्नस्टार दिया तो वो चापलूसी हो गयी ? आपकी बुद्धिमत्ता क्या इतनी ही है? --SM7--बातचीत-- 18:58, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
आपकी बुद्धिमत्ता से बहुत अच्छी है जो दूसरों को मूर्ख, घमंडी और बटेर कहते आए हैं। प्लीज़, पूरी गालियाँ एक साथ दीजिए - एक-एक करके घर वालों से पूछकर मत दीजिए। --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:08, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
आपने यह चर्चा इसी नीयत से शुरू की है कि कैसे अवरोधित करवाने के लिए मसाला जुटाया जाए ? गाली सुनने के लिए तो कोई इतना बेचैन नहीं होता। फिर अगर आप खुद इसरार करके गालियाँ खायेंगे तो क्या उन्हें अवरोध का कारण बनाना उचित होगा ? --SM7--बातचीत-- 19:13, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मूर्ख, घमंडी और बटेर जैसे सुन्दर और सुखद शब्दों का प्रयोग आपने स्वेच्छापूर्वक किए थे। अन्य शब्द भी आप ही स्वतंत्र रूप से प्रयोग कीजिए और इसी बात की घोषणा करते हुए कीजिए। --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:22, 23 नवम्बर 2018 (UTC)

┌─────────────────────────────────┘
आपकी किसी मूर्खता को इंगित करना और आपको मूर्ख कहना दोनों एक ही बात नहीं हैं। हाँ, शायद यह बात समझ नहीं पा रहे आप। आप दुबारा मूर्खता करेंगे तो हम अपनी हार्दिक इच्छानुसार (बल्कि इसे कर्तव्य मानते हुए) पुनः आपको इंगित करेंगे। प्रोवोक करने का प्रयास न करें यह काँइयापन जैसा प्रतीत होता। --SM7--बातचीत-- 19:27, 23 नवम्बर 2018 (UTC)

प्रोवोक करना आपका काम है जो मान न मान "मैं नियम-रहित बात को किसी की वार्ता पृष्ठ पर बार-बार लिखता रहूँगा" अपना लक्ष्य बनाता है। व्यक्तिगत हमले करना और किसी को "बटेर" बनाना भी एक शुभ कार्य है जो आप जैसा व्यक्ति ही कर सकता है। मैं कभी आपके प्रयुक्त किसी भी घटिया शब्द या आदर-रहित शैली का इस्तेमाल नहीं करता। शुभ रात्रि! --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:42, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
बंधुवर ! आप उस तस्वीर में बटेर की तरह गर्दन किये हुए हैं, अगर आप मोर की तरह किये होते तो वह ही कहता; तब क्या इसका मतलब यह होता कि आपको मोर कह रहा हूँ? शुभ रात्रि आपको भी, सुखद निद्रा लें। --SM7--बातचीत-- 19:49, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मित्र महोदय, समस्या तो यही है कि आप जैसा महान व्यक्ति हम जैसे छोटे से योगदानकर्ताओं को "बटेर" और "मोर" आदि शब्द अपनी सुविधा और आकलन से कह सकता है और शायद यह विकि-नीतियों के अंतरगत स्वीकारनीय है। मैं चाहूँगा कि प्रबंधक सूचनापट पर हमारे प्रबंधक यही बात की घोषणा कर दें। सारा मामला यहीं समाप्त हो जाएगा। शुभ रात्रि। --मुज़म्मिल (वार्ता) 18:32, 24 नवम्बर 2018 (UTC)
उपमा अथवा रूपक न सही उत्प्रेक्षा तो हमेशा स्वीकार्य होती है। बाक़ी आपके चाहने से प्रबंधक घोषणा करते या नहीं करते देखा जायेगा। चाहने से तो सबकुछ होता नहीं, नहीं तो कुछ प्रबंधक तो चाहते होंगे कि वे फूँक दें और हम भस्म हो जाएँ, सारा मामला समाप्त हो जाए। --SM7--बातचीत-- 18:43, 24 नवम्बर 2018 (UTC)

इंद्रकील पर्वत

पीठाश्वर महायोगी सत्येंद्रनाथ के अनुसार इंद्रासन पर्वत प्रदेश के 10 बड़े पहाड़ों में से एक है। जिसमें इसे पंचपीठों के बीच में स्थित बताया गया है। इन पांच पीठों में से कौलांतक पीठ, जालंधर पीठ, कुर्म पीठ, श्रीपीठ व बराहपीठ है। इसमें इंद्राकील पर्वत कौलांतक, जालंधर व कुर्म पीठ के बीच में है। महायोगी ने शोध में पाया कि वास्तव में पर्वत का नाम इंद्रकील पर्वत नहीं था। यह नाम बाद में पड़ा था। इस से पता चलता है कि यह पर्वत कुल्लू में नहीं है। कृपया लिंक देखें।

http://dnasyndication.com/dbarticle.aspx?nid=DBHIM1941

गोस्वामी तुलसीदास जी की जन्मभूमि के बारे में

आदरणीय श्रीमान जी आपने गोस्वामी तुलसीदास जी के जन्मभूमि के बारे में संदेह पूर्वक लिखा है जो मैं आपको स्पष्ठ रूप से जानकारी दे दू की पूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी की जन्मभूमि चित्रकूट जिले के राजापुर कस्बे में हुआ था जिसका प्रमाण राजापुर में साक्ष्य के रूप में उनकी लिखी हुई रामचरित मानस , उनकी ससुराल महेवाघाट (कौशाम्बी), यमुना नदी , आदि जैसे साक्ष्य मौजूद हैं कृपया अपना स्टेटमेंट एडिट करके उसे राजापुर क्लियर कर दीजिए ।

हि0यु0वा0 नगर अध्यक्ष प्रशान्त तिवारी राजापुर चित्रकूट उत्तर प्रदेश

माता-पिता का सम्मान

मान्यवर, मैं नहीं जानता कि आप किस स्ंस्कृति से संबंधित हो - हो सकता है कि आपको आपके माता-पिता के रूसी-जापानी-अफ़गानिस्तानी कहलाने पर गर्व हो, परन्तु मुझे तो अपने तथा अपने माता-पिता के भारतीय होने पर गर्व है आपके इस प्रकार से "इंगलिस" लेबल चिपाकाने पर मुझे घोर आपत्ति है। क्या आप यहाँ मूल रूप से लड़ने झगड़ने के नेक इरादे से ही आते हैं? --मुज़म्मिल (वार्ता) 08:05, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)

मुज़म्मिल बाबू, आप ही बता दो, आपके नाम के आगे जी लगा के बात करने लगूँ तो आप खुस हो जाओगे ? --SM7--बातचीत-- 16:34, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
माता-पिता का तो आदर नहीं करते, मेरा क्या करोगे? --मुज़म्मिल (वार्ता) 17:29, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
तू अपनी बता यार, तेरा ईगो कैसे शांत होगा।--SM7--बातचीत-- 18:14, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
सुसंस्‍कृत भाषा!! --मुज़म्मिल (वार्ता) 18:53, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
तो मत बात करो अगर यह डिमांड नहीं पूरी हो रही। --SM7--बातचीत-- 01:47, 27 दिसम्बर 2018 (UTC)
वेन यू रेफ़र टू अदर्स ऍज़ "अंग्रेज़ की औलाद", यू शुड टेल यू आर हूज़ औलाद। इज़'इंट इट? --मुज़म्मिल (वार्ता) 04:26, 27 दिसम्बर 2018 (UTC)
श्रीमान माता-पिता के सम्मान के बारे में केवल मैं ही ज़ोर नहीं देता बल्कि ये पूरे विश्व के सज्जन पुरुष करते हैं - अपने और दूसरे के माता पिता का आदर। आपकी सुविधा के लिए यहाँ से एक एक कोट देखिए:
संतान की ... गलतियों के बावजूद माता-पिता का स्नेह उनपर कभी कम नहीं होता बल्कि दिन प्रतिदिन बढ़ता जाता है । वो हमेशा उसके कुशल भविष्य की कामना ही करते हैं । इसलिए मनुष्य को सदैव इस बात का स्मरण रखना चाहिए कि संसार से कमाई हुई सारी धन संपत्ति, सारा मान-सम्मान, सारा सुख व्यर्थ है यदि माता-पिता को हम प्रसन्न न रख पाए तो । जिन्होनें हमें जीवन दिया है, उनके उपकार का बदला चुकाना तो कभी संभव नहीं किन्तु उनकी सेवा कर के मन की शांति अवश्य मिल सकती है । हमें इस बात का सदैव ध्यान रखना चाहिए कि हमारे किसी भी व्यवहार से हमारे माता-पिता को कभी कष्ट न हो ।
--मुज़म्मिल (वार्ता) 08:59, 28 दिसम्बर 2018 (UTC)

झूठा व्यक्ति

मेरे व्यक्तित्व पर टिप्पणियाँ करने के लिए तुझको कष्ट करने की आवश्यकता नहीं है। कई दिनों से फ़िजी विकि के प्रबंधकीय दायित्व से मुक्त होने के बावजूद अपने सदस्यपृष्ठ पर पदाधिकारी होने का ढोंग रचाना अपने आप में तेरे झूठे और ढोंगी होने का प्रमाण है। --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:03, 12 जनवरी 2019 (UTC)

मुज़म्मिल, शिकायत कर दे जाकर मेटा पर, मुझे तो पता भी नहीं, तू ही ये सब बैठ के गिनता रहता है। --SM7--बातचीत-- 08:46, 13 जनवरी 2019 (UTC)
"hide some Admin status" = सत्यमेव जयते। --मुज़म्मिल (वार्ता) 17:34, 13 जनवरी 2019 (UTC)
बालक, खुस हो गया ? --SM7--बातचीत-- 18:48, 13 जनवरी 2019 (UTC)
न्ह्हीं नाँ अप्पन्ने मोह्ह्ल्ले के मंछे हुए चाचू!! --मुज़म्मिल (वार्ता) 14:59, 14 जनवरी 2019 (UTC)

हाड़ी लेख के विस्तार हेतु

माननीय श्रीमान नमस्कार मैं क्षमा चाहूँगा की आपको लगा की मैं अपनी लेख के प्रति जिद कर रहा हूँ , पर मैं खुद एक हाड़ी जाति जाति का युवक हूँ , और जब भी अपनी जाति के बारे मे जानने की कोशिश करता हूँ विफल रहता हूँ मैंने प्राचीन इतिहास के बहुतो किताबो का अध्यन किया पर कुछ खास नहीं मिल पाया , मैं पपनी आने वाली पीढ़ी को अपना खोया इतिहास देना चाहूँगा हमलोगों के लोगो को कोई जनता तक नहीं लोग , मैं धन्यवाद देना चाहूँगा अलबुरेनी ( तहकीक ऐ हिन्द ) / मोहम्मद मल्लिक जायसी ( पद्मावत ) / छोटे लाला शर्मा ( जाति भास्कर ) जिसमे हमारी जाति को इतिहास के पन्नो मे जीवित रखा अलबुरेनी जी के इतिहास के पन्नो को तो आपने मुख्या पृष्ठ मे जगह देदी पर कुछ जरुरी चीजे खो गया 1 अल्बुरिने ने हाड़ी को शुद्र पिता और ब्राह्मणी माता की संतान बताई थी अलबुरेनी ( तहकीक ऐ हिन्द )

२ इनके अनुसार इनके घरो मे कोई विशेष चिन्ह होता था जिससे लोग इनके संपर्क मे न आ सके ३ हाड़ी जाति चंडाल समुदाय मे आचे कार्यो को करते थे , वे घृणित कार्यो को नहीं किया करते थे

मोहम्मद मल्लिक जायसी ( पद्मावत )

1 पद्मावत मे हाड़ी जाति को ढोल बजाने वाले के रूप मे चिनिह्त किया गया हैं २ इसमें युद्ध के पहले विगुल बजाने वाले रूप मे चिनिह्त किया गया हैं ३ हाड़ी जाति को गायक के रूप मे भी दिखया गया हैं

छोटे लाला शर्मा ( जाति भास्कर )

1 जाति भास्कर मे हाड़ी जाति का उत्पति का जिक्र है २ हाड़ी जाति घोड़े के सेवा का काम करता था जो आज बंगाल के पुरलिया जिला मे हाड़ी / हरी /सहिस / दीगर के रूप मे जाने जाते हैं ३ हाड़ी जाति का प्राचीन नाम प्लव / स्थिर संज्ञक के नाम से चिनिहत किया गया हैं ४ साथ ही साथ हाड़ी जाति के उपजाति और उनसे उत्पन नयी जाति का भी विवरण हैं

मैं आपसे निवेदन करता हूँ की आप मेरी मदद करे। — इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -संजय कुमार हरि (वार्तायोगदान) 10:55, 05 जुलाई 2019 (UTC)

@संजय कुमार हरि: जी नमस्ते। कृपया विकिपीडिया की प्रकृति को समझने का प्रयास करें। यह एक तृतीयक (टर्शियरी) ज्ञानकोश है, यहाँ अन्य प्रकाशित स्थलों पर पहले से मौजूद जानकारी को लेखों में संदर्भ के साथ संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया जाता है। साथ ही यह जानकारी तटस्थ रूप से प्रस्तुत की जाती है। आप इसे समझने के लिए वि:मूल शोध नहीं और वि:सत्यापनीयता की कड़ियाँ पढ़ सकते हैं।
हम ऑफलाइन प्रकाशित स्रोतों के संदर्भ को अस्वीकार नहीं करते किन्तु उसका उद्धरण भी सटीक होना चाहिए। अर्थात आप जिस तथ्य के लिए किसी किताब का संदर्भ दे रहे हैं, किताब का नाम, लेखक, प्रकाशक, संस्करण, अध्याय, पृष्ठ संख्या इत्यादि का स्पष्ट विवरण लिखें। केवल किताब का नाम देखकर कोई सत्यापन (वेरीफाई करना) चाहे तो कहाँ करेगा? इसके अतिरिक्त प्रयास करें कि तथ्य के लिये यदि ऑनलाइन विश्वसनीय स्रोत से संदर्भ दे सकें तो अधिक बेहतर होगा।
जैसा कि आपने स्वयं लिखा है - इस विषय पर बहुत जानकारी उपलब्ध नहीं है। इस दशा में केवल कुछ उपलब्ध स्रोतों के संदर्भ देकर लेख को संश्लेषण (सिंथेसिस) के रूप में लिखना मूल शोध की श्रेणी में आ सकता है। इस दशा में संदर्भ और तथ्य मात्र उद्धृत करना ही उपयुक्त होगा उनके आधार पर यहाँ विकिपीडिया पर निष्कर्ष लिखना नहीं।
आप संबंधित पृष्ठ के वार्ता पन्ने पर अपने बताये तथ्य और सटीक संदर्भ लिखें और अन्य सदस्यों की राय की प्रतीक्षा करें। धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 12:50, 5 जुलाई 2019 (UTC)

टोलीडो चर्चा

SM7 जी, परियोजना पर बातचीत करने के लिए धन्यवाद। माफ़ी चाहती हूँ कि मैं आपको परियोजना चर्चा पर यूजर ग्रुप द्वारा वांछित बदलाव के बारे में सूचित नहीं कर पाई। अभी परियोजना पर जानकारी पृष्ट पूर्ण रूप से तैयार नहीं है, पर जल्द ही मैं इसे समुदाय के साथ साँझा करूंगी। इस बीच, यदि आप पृष्ट देखना चाहते हैं, तो विकिपीडिया:टोलीडो हिन्दी पायलट देखें और इसमें अगर आपको व्याकरण या तथ्यों की प्रस्तुती में कोई गल्ती लगे तो कृपया उसे सुधारने में मेरी मदद करें।

धन्यवाद

मानवप्रीत कौर

MKaur (WMF) (वार्ता) 21:12, 17 जुलाई 2019 (UTC)


SM7 जी, मैंने विकिपीडिया:टोलीडो हिन्दी पायलट पृष्ठ बनाया है। प्रोजेक्ट के बारे में प्राथमिक जानकारी उस पर दी गई है। अगर आपको किसी भी प्रकार की कोई गलती लगे, तो कृपया उसे सुधरने में मेरी मदद करें। आशा करती हूँ यह पृष्ठ आपको प्राथमिक जानकारी देने में सहाई होगा। आपके प्रश्न और सुझाव इसे बहतर बनाने में बहुत सहाई होंगे।

धन्यवाद MKaur (WMF) (वार्ता) 09:14, 22 जुलाई 2019 (UTC)

कृपया चर्चा में हिस्सा ले

नमस्ते, आप से निवेदन है की चौपाल पर इंडियन चैप्टर की चर्चा में भाग ले | अगर कोई प्रश्न हो तो कृपया उन्हें रखे | --Abhinav619 (वार्ता) 05:25, 18 जुलाई 2019 (UTC)

संदर्भ सहित तथ्यों को बार बार हटाने पर कानूनी कार्यवाही की पूर्वसूचना

साँचा:Re।SM7 जी, मैं यहां जो कुछ भी लिख रहा हूं उसे आप संपादक लोग बिना किसी ठोस वजह के हटा दे रहे हैं। क्या नए लोगों के साथ विकिपीडिया पर ऐसा ही व्यवहार किया जाता है। मेरे उन संपादनों को भी मिटाया जा रहा है जिनमें मैंने पुस्तकों और लेखकों का संदर्भ दिया है। साथ ही पटना हाइकोर्ट के जजमेंट को भी संदर्भ के रूप मे रखने पर भूमिहार विकीपीडिया को पूर्ववत किया गया है,जो कोर्ट की अवमानना है।आप एक घृणित मानसिकता के तहत ऐसा कर रहे हैं अतः मैं आप पर कानूनी कार्यवाही के लिए कदम बढा रहा हूँ,तैयार रहें।धन्यवाद्।मार्तण्ड (वार्ता) 08:24, 23 अगस्त 2019 (UTC)मार्तण्ड मार्तण्ड (वार्ता) 08:15, 23 अगस्त 2019 (UTC)

सदस्य:मार्तण्ड जी विकिपीडिया एक ज्ञानकोश है जहाँ तटस्थता बहुत मूल्यवान चीज है। कृपया एकतरफा स्रोतों और सन्दर्भों के हवाले से यहाँ कि जाति, व्यक्ति वस्तु का महिमामंडन करने के प्रयास न करें। उक्त लेख में आप केवल एक ही दावा सत्य की तरह प्रस्तुत कर रहे कि भूमिहार ब्राह्मण जाति की एक शाखा है। विदित हो कि भूमिहारों ने अपने को ब्राह्मण साबित करने के लिए अथक संघर्ष किया है जिस पर आपको बाक़ायदा शोधपत्र तक मिल जायेंगे। केवल अपने दिए गए सन्दर्भों को ही सत्य मानने की बजाय आप पूरी जानकारी सभी पहलुओं को एकत्र करते हुए लेख का परिवर्द्धन करें तो बेहतर होगा। कृपया धमकी देने से बचें। धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 08:27, 23 अगस्त 2019 (UTC)
@SM7:जी,मैं विकिपिडीया के नियमों और कायदों को जानता हूँ।मैंने विकीपीडिया का जो भी संपादन किया है उनमें संदर्भ के रुप में पुस्तकों का लेखक और पृष्ठ संख्या के साथ उद्धरण दिया है।अतः आप कैसे कह सकते हैं कि यह बर्बता की श्रेणी मे आता है।मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आप मुझे अवरोधित करने की धमकी देकर अपने अधिकारों का दुरुपयोग कर रहे हैं।मुझे यह भी प्रतीत हो रहा है कि आप भुमिहार ब्राह्मण समाज के प्रति द्वेष भाव रखते हैं।लेकिन किसी सार्वजनिक मञ्च पर किसी व्यक्ति विशेष की विचारों का कोई मूल्य नही। अतः मेरी सलाह है कि आप स्वयं और अपने कठपुतली खातों के जरिए मेरे संपादन को पूर्ववत न करें।आप का यह व्यहवार निरंतर जारी रहा है अतः आपके विरुद्ध कानून की मदद लूंगा और आप से न्यायालय मे मुलाकात होगी।ध्यान रहे कोई भी नैतिक अनैतिक कार्य कानून के दायरे मे ही आता है भले ही यह विकिपिडिया पर समुदाय विशेष की छवि धूमिल करना ही क्यों न हो।--मार्तण्ड (वार्ता) 08:45, 23 अगस्त 2019 (UTC)

विनम्र अनुरोध

रामायण और चित्रकला लेख की कडी रामायण लेख के रामायण#इन्हें_भी_देखें विभाग मे जोडने मे कृपया सहायता करें ।

विनम्र अनुरोध

117.195.48.60 (वार्ता) 07:32, 26 अगस्त 2019 (UTC)

Kyun is page ko kyu hata raha hai विकास ठाकुर (वार्ता) 08:43, 28 अगस्त 2019 (UTC)

सम्पादन का गलत प्रयोग करके मेरे लेख को पूर्णतः खली कर दिया गया

SM7 जी,आपने अपने सम्पादन के अधिकार का गलत प्रयोग करके मेरे लेख चाँदा बाज़ार को बिना कोई कारण बताये पूरी तरह से खाली कर दिया है।इस लेख को मैंने बहुत कठिन परिश्रम और अथक प्रयास के बाद तैयार किया था।जिससे मैं बहुत आहत हूँ और इसे पूर्ण रूप से तानाशाही क़रार देता हूँ।आपके इस कृत्य से मेरे विकिपीडिया के लिए काम करने के उत्साह और लगन को करारा झटका लगा है।— इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -RAHUL SHARMA RB (वार्तायोगदान) 18:51, 28 अगस्त 2019 (UTC) ये SM7 उर्फ सत्यम मिश्रा एक संकीर्ण मानसिकता के पेड विकी एडिटर हैं राहुल जी मेरा अनुरोध है कि विकिपिडिया टीम के तरफ से इन पर कार्यवाही हो ।मार्तण्ड (वार्ता) 07:14, 5 सितंबर 2019 (UTC)

SM7 जी मैं यह जानना चाहता हूँ कि आपने मेरे लेख को क्यूँ हटाया?? क्या आप यह जताना चाहते हैं कि विकिपीडिया ने आपको यह अधिकार दिया है?? यदि ऐसा है तो यह पूर्णतः गलत है.. RAHUL SHARMA RB (वार्ता) 17:28, 18 सितंबर 2019 (UTC)

Stargoldyou का संदेश

आप मेरा पेज क्यों हटाना चाहते है, आप कारण बताइये — इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -Stargoldyou (वार्तायोगदान)

Stargoldyou जी, कौन सा पेज ?--SM7--बातचीत-- 14:19, 14 सितंबर 2019 (UTC)

हहेच:साँचा समापन सूचना

@SM7: जी, साँचा:हिन्द की बेटियाँ की हटाने हेतु चर्चा समाप्त हो चुकी है। कृपया साँचे से जुड़े लेखों पर आवश्यक कार्रवाई करें। धन्यवाद। --अजीत कुमार तिवारी बातचीत 10:23, 27 सितंबर 2019 (UTC)

जी, समय मिलते ही इसे पूरा करता हूँ। --SM7--बातचीत-- 06:19, 28 सितंबर 2019 (UTC)


मैना टुडू लेख लिखने में सहायता करें

पुरालेख सन्दूक

नमस्ते! SM7 जी, मैंने अभी पृष्ठ प्रवेशद्वार वार्ता:लिनक्स/चयनित लेख पर पुरालेख सन्दूक जोड़ा है पर उसका रंग चौपाल पर लगे सन्दूक से भिन्न दिख रहा है। इसका रंग बदलने का कोई तरीका है क्या? --अशोक Ashoka Chakra.svg वार्ता 13:30, 2 अक्टूबर 2019 (UTC)

@AshokChakra: जी वह वार्ता पन्नो के संदेशबॉक्स के अनुरूप रंग होगा जो गहरा पीला या कुछ भूरा जैसा होता है। चौपाल जैसा प्रदर्शन आवश्यक नहीं। --SM7--बातचीत-- 14:05, 2 अक्टूबर 2019 (UTC)

संपादन

एस.एम.7जी नमस्कार, आपसे सादर अनुरोध है कि मै हरीश वर्मा हूँ।मैने साहिल सुल्तानपुरी के लिए एक लेख लिखा है।सही साक्ष्यों को प्रस्तुत करने का प्रयास किया है।आपसे प्रार्थना है कि आप इसे संपादित करें। यदि सब कुछ उचित हो तो पृष्ठ को विकिपीडिया पर यथावत प्रकाशित करने की संस्तुति दें। सादर धन्यवाद। — इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -Harish varma1 (वार्तायोगदान) 03:32, 13 अक्टूबर 2019‎ (UTC)

नमस्ते Harish varma1 जी, जहाँ तक मुझे पता है उपरोक्त लेख को पहले भी उल्लेखनीय न होने के कारण हटाया जा चुका है। कृपया आप उल्लेखनीयता की नीति पढ़े और यदि आपको लगे कि व्यक्ति इस नीति के अनुसार पर्याप्त उल्लेखनीय हैं और विश्वसनीय संदर्भ पर्याप्त रूप से मौजूद हैं तो आप लेख में सुधार कर सकते हैं। व्यक्ति की उल्लेखनीयता के लिए सहायता के हेतु आप अंग्रेजी विकिपीडिया की नीति भी देख सकते हैं। वर्तमान में मैं किसी लेख के संवर्धन संपादन में असमर्थ हूँ, इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ। --SM7--बातचीत-- 08:58, 13 अक्टूबर 2019 (UTC)

ध्यानाकर्षण हेतु

नमस्ते SM7 जी, आपके दिशा–निर्देशों के लिये बहुत–बहुत धन्यवाद। मैं भी टैग लगाते समय कोशिश करता हूँ कि प्रगतिशील पन्नों पर टैग ना लगे, इसीलिए कई बार मैं उनपर छोटे सुधार स्वंय कर देता हूँ। परन्तु मैं यह नही समझ पा रहा हूं कि कौन सा टैग आवश्यक है और कौन नही, (सिवाए दृष्टिकोण, संदर्भ की कमी, और उल्लेखनीयता के, ये अति–आवश्यक लगते हैं)। आगे से अति–आवश्यक टैग ही लगाने की चेष्टा करुंगा।

"शीह" नामांकन इत्यादि करने से पहले मैं ये देखता हूँ कि उसे "हहेच" या "अनुप्रेषित" से ठीक करना उचित होगा या नही। इसके अलावा मैं नीयत, पृष्ट निर्माता और संपादकों पर भी नजर रखता हूँ।

अच्छे विषय पर कम से कम एक–दो वाक्य जोड़ कर आधार रूप देने का प्रयास मैं अक्सर करता हूँ, मगर लेखों की संख्या मेरे पास मिले समय से अधिक 'प्रतीत' होती है। इसके लिये मैं कुछ हल निकाल रहा हूँ। एक बहुत अच्छी बात आपने बताई कि सारे लेखों की अन्य वर्तनी से बने हुए पृष्ठों के लिये दोहरी जांच कर लें।

मुझे "रोलबैकर" अधिकार के लायक समझने के लिये आपका एक बार फिर से बहुतों धन्यवाद, मैं समझता हूँ कि इससे बाकी सदस्यों का कार्यभार घटेगा। अगर आप सब की इच्छा/अनुमति हो तो मुझे यह अधिकार प्रदान करें। नमस्कार।—Navinsingh133 (वार्ता) 21:35, 29 अक्टूबर 2019 (UTC)

सहायता

नमस्ते, क्या आप मुझे अपनी राय दे सकते हैं कि अनिल अधिकारी जैसे लेखों पर उल्लेखनीयता का टैग लगाना उचित होगा या नही? धन्यवाद—Navinsingh133 (वार्ता) 19:28, 31 अक्टूबर 2019 (UTC)

मनोज कुमार पंडित

SM7 जी, आप हमारी सहायता करें। मनोज कुमार पंडित को क्यों हटाया जा रहा है, जबकि विकिपीडिया हिन्दी के साथियों/संपादकों को उस लेख को इम्प्रूव करने में मदद करनी चाहिए? @SM7 जी, मनोज कुमार पंडित पृष्ठ स्वतंत्र रूप से बिहार के एक प्रसिद्ध लोक कलाकार के बारे में बनाया गया है। इंटरनेट पर उपलब्ध हिंदी और अंग्रेजी के कई प्रतिष्ठित स्रोतों, बीबीसी, टेलीग्राफ, टाइम्स ऑफ इंडिया, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर, हिन्दुस्तान, आउटलुक आदि ने इनके बारे लिखा है। आज जब मंजूषा पेंटिंग की समानांतर लोककला मिथिला पेंटिंग के कलाकारों को इतना स्पेस दिया जा रहा है, तब उससे भी प्राचीन कला के कलाकार का पृष्ठ हटाने का प्रस्ताव विकिपीडिया के संपादक क्यों दे रहे हैं?

SM7 जी, संदर्भ में कम से कम इतने प्रमाण तो अभी तत्काल उपलब्ध हैं। क्या इसके बावजूद भी उल्लेखनियता संदिग्ध लग रही है? https://m.jagran.com/bihar/bhagalpur-14938356.html http://designclinicsmsme.org/download/DesignAwarenessSeminar/ProductDiversificationfromManjusaArtClusterBhagalpur.pdf http://global.artsofindia.in/indian-arts-and-crafts-artists-and-suppliers-arts-of-india-store/manoj-kumar-pandit-manjusha-guru http://www.manjushakala.in/manjusha-art/artists-and-awards/ http://manjushaart.in/2019/02/07/manoj-pandit/

अतिरिक्त बर्बरता।

नमस्ते भाई, कृपया इन सदस्य:अजनाभ की सम्पादन गतिविधियों को चेक करें। बोहोत से पृष्ठ इनके द्वारा Vandalized किये गए हैं। आभार। HinduKshatrana (वार्ता) 15:18, 4 नवम्बर 2019 (UTC) नमस्ते सदस्य:HinduKshatranaकबसे अपनी ऐडीटीन्ग से नंद वंश के लेखकों मीटा देता है

Don't delete

This YouTube channel don't this page बिक्रम मालती शो Gomirak (वार्ता) 07:25, 21 नवम्बर 2019 (UTC)

तीन फैसले

तीन फैसले नामक पेज हटाने के लिए नामांकित किया गया है। कृपया अन्यथा न लें तो इसमें क्या सुधार किया जाना है, बताएं. Pavansrathaur (वार्ता) 05:24, 26 नवम्बर 2019 (UTC)pavansrathaur

Pavansrathaur जी, कृपया उल्लेखनीयता नीति पढ़ें। विकिपीडिया पर केवल उन्ही विषयों पर लेख बनाए जा सकते जिनके बारे में पर्याप्त विवरण, चर्चा, समीक्षा इत्यादि स्वतन्त्र और विश्वसनीय स्रोतों पर पहले से मौजूद हों ताकि विषय का ज्ञानकोश हेतु महत्वपूर्ण होना सत्यापित और साबित किया जा सके। संदर्भ देने के लिए सहायता:सन्दर्भ देखें। धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 05:32, 26 नवम्बर 2019 (UTC)
भाई साहब नई किताब है। अमेजन पर प्रकाशित हुई है। इसी नाते जानकारी दी है। किताब देश के प्रमुख मुद्दों पर आधारित है। ये मुद्दे तीन तलाक, नोटबंदी और धारा 370 के हैं। तीनों ही मुद्दे उल्लेखनीय ही नहीं बल्कि बेहद जाने पहचाने हैं। Pavansrathaur (वार्ता) 05:48, 26 नवम्बर 2019 (UTC)
Pavansrathaur जी, विकिपीडिया नई चीजों के बारे में जानकारी देने का मंच नहीं है। विषय अपने आप में Well discussed होना चाहिए तभी विकिपीडिया के लिए उल्लेखनीय साबित होगा। लेख पुस्तक पर बनाया जा रहा हो तो पुस्तक की उल्लेखनीयता का परीक्षण होगा न की पुस्तक में वर्णित विषयों का। --SM7--बातचीत-- 05:56, 26 नवम्बर 2019 (UTC)

तीन फैसले

भाईसाहब आपने उचित कहा, किंतु निवेदन यह है कि यह पुस्तक अमेजन के सभी मंचों पर प्रकाशित भी है और उपलब्ध भी, जिसमें अमेजन इंडिया, यूके, यूएस, जर्मनी, फ्रांस सहित तमाम देश शामिल हैं। लेखक का अपना फेसबुक पेज है, जिस पर उनकी मित्र संख्या भी एक हजार के करीब है, जो देश के सभी हिस्सों से है। बाकी आप जैसा उचित समझें... Pavansrathaur (वार्ता) 06:09, 26 नवम्बर 2019 (UTC)pavansrathaur

राजा विश्वासु भील

उपयुक्त स्रोत दिए गए हैं ।। साथ ही साथ नील माधव जी का इतिहास पढ़ने पर एक राजा का वर्णन मिलता है ।