"वशिष्ठ" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
10 बैट्स् जोड़े गए ,  7 माह पहले
वर्तनी/व्याकरण सुधार
छो (27.60.97.211 (Talk) के संपादनों को हटाकर पराशरो स्थानेश्वरः के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(वर्तनी/व्याकरण सुधार)
टैग: 2017 स्रोत संपादन
'''वशिष्ठ''' वैदिक काल के विख्यात [[ऋषि]] थे। वशिष्ठ एक [[सप्तर्षि]] हैं - यानि के उन सात ऋषियों में से एक जिन्हें ईश्वर द्वारा सत्य का ज्ञान एक साथ हुआ था और जिन्होंने मिलकर वेदों का दर्शन किया (वेदों की रचना की, ऐसा कहना अनुचित होगा क्योंकि वेद तो अनादि है)। उनकी पत्नी [[अरुन्धती]] है। वह [[योग-वासिष्ठ]] में [[राम]] के गुरु हैं। वशिष्ठ राजा दशरथ के राजकुल गुरु भी थे।
वशिष्ठ ब्रम्हा के मानस पुत्र थेथे। ।त्रिकालत्रिकाल दर्शी तथा बहुत ज्ञान वान ऋषि थेथे। विश्वामित्र ने इनके 100 पुत्रों को मार दिया था, फिर भी इन्होंने विश्वामित्र को माफ कर दिया ।दिया। सूर्य वंशी राजा इनकी आज्ञा के बिना कोई धार्मिक कार्य नही करते थे ।थे। त्रेता के अंत मे ये ब्रम्हा लोक चले गए थे ।
आकाश में चमकते सात तारों के समूह में पंक्ति के एक स्थान पर वशिष्ठ को स्थित माना जाता है।
[[चित्र:Dipper.jpg|thumb|right|500px| दूसरे (दाहिने से) वशिष्ठ और उनकी पत्नी अरुंधती को दिखाया गया है। अंग्रेज़ी में सप्तर्षि तारसमूह को ''बिग डिपर'' या ''ग्रेट बियर'' (बड़ा भालू) कहते हैं और वशिष्ठ-अरुंधती को ''अल्कोर-मिज़र'' कहते हैं।]]

दिक्चालन सूची