युक्रेन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(यूक्रेन से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Україна
युक्रेन
ध्वज कुल चिह्न
राष्ट्रगान: Ще не вмерла України і слава, і воля  (Ukrainian)
Shche ne vmerla Ukrayiny i slava i volya  (transliteration)
Ukraine's glory has not perished, nor her freedom
  युक्रेन  की स्थिति (green)Europe  (dark grey)  —  [Legend]
 युक्रेन  की स्थिति (green)

Europe  (dark grey)  —  [Legend]

राजधानी कीव (Kiev)
50°27′N 30°30′E / 50.450°N 30.500°E / 50.450; 30.500
सबसे बड़ा नगर कीव
राजभाषा(एँ) युक्रेनियाई
निवासी Ukrainian
सरकार एकात्मक अर्द्ध अध्यक्षीय गणतंत्र
 -  राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको
 -  प्रधानमंत्री वलोडिमिर ग्रोय्समन
गठन
 -  कीवियन रुस 8821 
 -  रुस का साम्राज्य 11991 
 -  कोसाक हेतमान्ते 1649 
 -  युक्रेनियाई राष्ट्रीय गणतंत्र 17 मार्च 1917 
 -  पश्चिमी युक्रेनियाई राष्ट्रीय गणतंत्र 1 नवम्बर 1918 
 -  यूक्रेनियाई एसएसआर 30 दिसम्बर 1922 
 -  सोवियत संघ से स्वतंत्रता 24 अगस्त 19912 
क्षेत्रफल
 -  कुल 603,628 वर्ग किलोमीटर (44 वां)
233,090 वर्ग मील
 -  जल (%) 7%
जनसंख्या
 -  2016 जनगणना 42,539,010 (32वां)
 -  2001 जनगणना 48,457,102
सकल घरेलू उत्पाद (पीपीपी) 2016 प्राक्कलन
 -  कुल $350 बिलियन (48 वां)
 -  प्रति व्यक्ति $8,230 (116 वां)
सकल घरेलू उत्पाद (सांकेतिक) 2016 प्राक्कलन
 -  कुल $87 बिलियन [1] (66 वां)
 -  प्रति व्यक्ति $2,052[1] (131 वां)
मानव विकास सूचकांक (2014) Straight Line Steady.svg 0.747[2]
उच्च · 81वाँ
मुद्रा रिव्निया (UAH)
समय मण्डल EET (यू॰टी॰सी॰+2)
 -  ग्रीष्मकालीन (दि॰ब॰स॰) EEST (यू॰टी॰सी॰+3)
यातायात चालन दिशा right
दूरभाष कूट 380
इंटरनेट टीएलडी .ua
1 The ancient state of Kievan Rus' was formed in 882 on the territory of modern Ukraine. From the historiographical point of view, Rus' polity is considered by some historians and the Ukrainian parliament as an early predecessor of the Ukrainian nation.[3]
2 An independence referendum was held on December 1 after which Ukrainian independence was finalized on December 26. The current constitution was adopted on June 28, 1996.

युक्रेन पूर्वी यूरोप में स्थित एक देश है। इसकी सीमा पूर्व में रूस, उत्तर में बेलारूस, पोलैंड, स्लोवाकिया, पश्चिम में हंगरी, दक्षिणपश्चिम में रोमानिया और माल्दोवा और दक्षिण में काला सागर और अजोव सागर से मिलती है। देश की राजधानी होने के साथ-साथ सबसे बड़ा शहर भी कीव है। युक्रेन का आधुनिक इतिहास 9वीं शताब्दी से शुरू होता है, जब कीवियन रुस के नाम से एक बड़ा और शक्तिशाली राज्य बनकर यह खड़ा हुआ, लेकिन 12 वीं शताब्दी में यह महान उत्तरी लड़ाई के बाद क्षेत्रीय शक्तियों में विभाजित हो गया। 19वीं शताब्दी में इसका बड़ा हिस्सा रूसी साम्राज्य का और बाकी का हिस्सा आस्ट्रो-हंगेरियन नियंत्रण में आ गया। बीच के कुछ सालों के उथल-पुथल के बाद 1922 में सोवियत संघ के संस्थापक सदस्यों में से एक बना। 1945 में यूक्रेनियाई एसएसआर संयुक्त राष्ट्रसंघ का सह-संस्थापक सदस्य बना। सोवियत संघ के विघटन के बाद युक्रेन फिर से स्वतंत्र देश बना।

नाम की उत्पत्ति[संपादित करें]

यूक्रेन के नाम की व्युत्पत्ति के बार में अलग अलग परिकल्पनाये हैं। सबसे व्यापक और पुरानी परिकल्पना के अनुसार, इसका मतलब है "परदेश" हैं, जबकि हाल ही के कुछ अध्ययन में इसका एक अलग ही अर्थ "मातृभूमि" या "क्षेत्र, देश" का दावा किया जा रहा हैं।[4] अधिकतर इंग्लिश बोलने बाले देशो में इसे "द यूक्रेन" के नाम से ही जाना जाता हैं।


इतिहास[संपादित करें]

"Reply of the Zaporozhian Cossacks to Sultan Mehmed IV of the Ottoman Empire." Painted by Ilya Repin from 1880 to 1891.

19वी शताब्दी,प्रथम विश्व युद्ध, और क्रांति[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: प्रथम विश्व युद्ध

19 वीं सदी में, ऑस्ट्रिया और रूस के बीच में यूक्रेन की स्थिति एक ग्रामीण क्षेत्र जैसी ही थी। इन देशो में होते तेजी से शहरीकरण और आधुनिकीकरण के बीच यूक्रेन में भी राष्ट्रवाद, बुद्धिजीवीवर्ग का उदय हुआ जिनमे प्रमुख नाम राष्ट्रीय कवि तारस शेवचेन्को (1814-1861) तथा राजनीतिक विचारक मिखाइलो द्राहोमनोव (1841-1895) का रहा। रूस-तुर्की युद्ध (1768-1774) के बाद, रूस के शासको ने यूक्रेन में रह रहे तुर्कीयों की जन्संख्या में कमी लाने के लिए, विशेष कर क्रीमिया में जर्मन आव्रजन को प्रोत्साहित किया, जिसका लाभ आगे चल कर कृषिक्षेत्र में हुआ

19 वीं सदी की शुरुआत में, यूक्रेन से रूसी साम्राज्य के सुदूर क्षेत्रों में लोगो का पलायन किया गया था। 1897 की जनगणना के मुताबिक, साइबेरिया में 223,000 और मध्य एशिया में 102,000 यूक्रेनियन थे।[5] जबकि 1906 में ट्रांस-साइबेरियन रेलवे के उद्घाटन के बाद अतिरिक्त 1.6 मिलियन लोगो को यूक्रेन के बाहर बसाया गया। यूक्रेन के बाहर यूक्रेनी की इतनी बड़ी आबादी के कारण, सुदूर पूर्वी क्षेत्र, "ग्रीन यूक्रेन" के रूप में जाना जाने लगा।

19वीं सदी में राष्ट्रवादी और समाजवादी पार्टियों का उदय हुआ। ऑस्ट्रियन गैलिसिया, हैब्सबर्ग्ज़ की अपेक्षाकृत उदार नियम के तहत, राष्ट्रवादी आंदोलन का केंद्र बन गया।

प्रथम विश्व युद्ध में यूक्रेन ने केन्द्रीय शक्तियों, की ओर से ऑस्ट्रिया के तहत, तथा ट्रिपल इंटेंट, की ओर से रूस के तहत में प्रवेश किया। 35 लाख यूक्रेनियन, इम्पीरियल रूसी सेना के साथ लड़ाई लड़ी है, जबकि 250,000 ऑस्ट्रो-हंगेरियन सेना के लिए लड़ाई लड़ी। ऑस्ट्रो-हंगेरियन अधिकारियों रूसी साम्राज्य के खिलाफ लड़ने के लिए यूक्रेनी सेना की स्थापना की। जिसे यूक्रेनी गैलिशियन् सेना का नाम दिया गया, जोकि विश्व युद्ध के बाद भी (1919-23) में बोल्शेविक और पोल्स के खिलाफ लड़ाई लड़ते रहे। यहाँ तक की ऑस्ट्रिया में रुशियो के साथ उदार भावना रखने वालो को कठोरता के साथ दमन किया गया।[6]

1918 में यूक्रेन

प्रथम विश्व युद्ध ने दोनों साम्राज्यो को नष्ट कर दिया। जहाँ 1917 की रूसी क्रांति में बोल्शेविक के तहत सोवियत संघ के संस्थापना हुई, वही यूक्रैन में भी, उग्र कम्युनिस्ट और समाजवादी प्रभाव के बीच स्वाधीनता के लिए एक यूक्रेनी राष्ट्रीय आंदोलन उभरा। कई यूक्रेनी राज्यों का उथान हुआ जिसकी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता यूक्रेनी पीपुल्स रिपब्लिक (UNR ) के रूप में हुई यूक्रेन के उन राज्यो में जहा कभी रूसी साम्राज्य का राज था वह यूक्रेनी सोवियत समाजवादी गणराज्य (या सोवियत यूक्रेन) की स्थापना; जबकि पूर्व ऑस्ट्रो-हंगेरियन साम्राज्य के क्षेत्र में पश्चिम यूक्रेनी पीपुल्स रिपब्लिक और हुतसुल गणराज्य का गठन हुआ। आगे चल कर 22 जनवरी, 1919 को कीव में सेंट सोफिया स्क्वायर पर यूक्रेनी पीपुल्स रिपब्लिक और पश्चिम यूक्रेनी पीपुल्स रिपब्लिक के बीच जलूक अधिनियम (एकीकरण अधिनियम) के तहत समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। जिसने आगे चल कर गृहयुद्ध को जन्म दिया

रूसी गृहयुद्ध के समय ही एक बागी आंदोलन जिसे ब्लैक आर्मी नाम दिया गया जो आगे चल कर "यूक्रेन के क्रांतिकारी विद्रोही सेना" कहलाई, जिसका नेतृत्व नेस्टर मखनो कर रहे थे[7] जो की यूक्रेनी क्रांति के दौरान 1918 से 1921 तक स्वशासित राज्य के निर्माड़ के लिए, ट्रोट्स्की के सफ़ेद सेना से, देनीकिन के नेतृत्व में जबकि तसर्रिस्ट के नेतृत्व में लाल सेना से लड़ते रहे हालकि इनका प्रयास अगस्त 1921 में उत्तरार्द्ध में ख़तम हो चूका था।

पोलैंड ने पोलिश-यूक्रेनी युद्ध में पश्चिमी यूक्रेन को हराया, लेकिन कीव में बोल्शेविक के खिलाफ विफल रहे। रीगा की शांति के अनुसार, पश्चिमी यूक्रेन को पोलैंड में सम्मलित कर लिया गया, जिसे मार्च 1919 में यूक्रेनी सोवियत समाजवादी गणराज्य के रूप में मान्यता प्राप्त हुई। सोवियत सत्ता की स्थापना के साथ ही, यूक्रेन के आधे क्षेत्र, में पोलैंड, बेलारूस और रूस का अधिकार हो गया, जबकि दनिएस्टर नदी के बाएं किनारे पर मोलदावियन स्वायत्तता राष्ट्र का निर्माड़ हो गया। यूक्रेन दिसंबर 1922 में सोवियत समाजवादी गणराज्य संघ के एक संस्थापक सदस्य बन गया।[8]

द्वितीय विश्व युद्ध[संपादित करें]

सितंबर 1939 में पोलैंड पर आक्रमण के बाद, जर्मन और सोवियत सेना ने पोलैंड के क्षेत्र को आपस में बाट लिया। इस प्रकार, यूक्रेनी जनसंख्या बहुल पूर्वी गालिसिया और वोल्होनिया क्षेत्र फिर से यूक्रेन के बाकी हिस्सों के साथ जुड़ गया। और इतिहास में पहली बार, यह राष्ट्र एकजुट हुआ था।[9][10]

1940 में, सोवियत संघ ने बेस्सारबिया और उत्तरी बुकोविना पर अपना कब्ज़ा किया। यूक्रेनी एसएसआर ने बेस्सारबिया के उत्तरी और दक्षिणी जिलों, उत्तरी बुकोविना और हर्त्सा क्षेत्र को अपने में शामिल तो कर किया, लेकिन मोल्डावियन स्वायत्त सोवियत समाजवादी गणराज्य के पश्चिमी भाग को नव निर्मित मोल्डावियन सोवियत समाजवादी गणराज्य को सौंप दिया। यूएसएसआर को उसके विजित इन क्षेत्रो पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 1947 के पेरिस शांति संधियों द्वारा मान्यता दिया गया।

22 जून 1941 को जर्मन सेना ने सोवियत संघ पर हमला किया, और करीब चार वर्ष के युद्ध की शुरुआत हो गई। शुरूआत में धुरी राष्ट्र ने बढ़त बनाई पर लाल सेना ने उन्हें रोक दिया। कीव के युद्ध में, इसके भयंकर प्रतिरोध के कारण, शहर को "हीरो शहर" के रूप में प्रशंसित किया गया। 600,000 से ज्यादा सोवियत सैनिक (या सोवियत की पश्चिमी मोर्चा का एक चौथाई) मारे गए या बंदी बना लिया गए।[11][12] यद्यपि अधिकांश यूक्रेनियन, लाल सेना और सोवियत प्रतिरोध के साथ-साथ में लड़े,[13] पश्चिमी यूक्रेन में एक स्वतंत्र यूक्रेनी विद्रोही सेना आंदोलन (यूपीए, 1942) आगे आया। कुछ यूपीए प्रभागों ने स्थानीय पोल्स जातीय का नरसंहार भी किया, जिससे प्रतिहिंसा का माहौल खड़ा हो गया। युद्ध के बाद भी, यूपीए 1950 के दशक तक यूएसएसआर से लड़ते रहा। इसी समय, यूक्रेनी लिबरेशन आर्मी, एक और राष्ट्रवादी आंदोलन सेना, नाजियों के के साथ-साथ लड़ती रही।

कीव में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान हुआ नुकसान, 19 सितंबर 1941 से 6 नवंबर 1943 तक यहाँ नाजी जर्मनी का कब्जा रहा।

सोवियत सेना के लिए लड़ते यूक्रेनियनों की संख्या, 4.5 मिलियन से 7 मिलियन के करीब थी।[13] [14] यूक्रेन में प्रो-सोवियत कट्टरपंथी गोरिल्ला प्रतिरोध की संख्या 47,800 अपने अधिग्रहण के शूरूआत में से लेकर 1944 में अपने चरम पर 500,000 तक होने का अनुमान है। जिनमे लगभग 50% संख्या स्थानीय यूक्रेनियन की थी। आम तौर पर, यूक्रेनी विद्रोही सेना के आंकड़े अविश्वसनीय होते हैं, पर इनकी संख्या 15,000 से लेकर 100,000 सैनिकों तक के बीच रही होगी।[15][16]

यूक्रेनी एसएसआर में अधिकांश भर्ती, यूक्रेन (Reichskommissariat) के भीतर से ही की गई थी, ताकि इसके संसाधनों और जर्मन आबादी का उपयोग (शोषण) किया जा सके। कुछ पश्चिमी यूक्रेनियन द्वारा, जो 1939 में ही सोवियत संघ में शामिल हुए थे, जर्मनी का मुक्तिदाता के रूप में स्वागत किया गया। हलाकि क्रूर जर्मन शासन ने अंततः अपने ही समर्थकों को खिलाफत की ओर मोड़ दिया, जिन्होंने कभी स्टालिनिस्ट नीतियों के खिलाफ खड़े होकर इनका साथ दिया था।.[17] नाजियों ने सामूहिक खेत व्यवस्था को संरक्षित रखने के बजाय, यहूदियों के खिलाफ नरसंहार चालू कर दिया,यहाँ से जर्मनी में काम करने के लिए लाखों लोगों को भेज गया, और जर्मन उपनिवेशण के लिए एक वंशानुक्रम कार्यक्रम शुरू किया गया उन्होंने कीव नदी पर भोजन के परिवहन को अवरुद्ध कर दिया।[18]

द्वितीय विश्व युद्ध की अधिकतर लड़ाई पूर्वी मोर्चो पर हुई। कुछ अनुमानों के अनुसार, लगभग 93% जर्मन की जनहानि यहाँ हुई थी।[19] युद्ध के दौरान यूक्रेनी आबादी का कुल नुकसान का अनुमान 5 से 8 मिलियन के बीच था,[20][21] जिनमे नाजियों द्वारा मारे गए, लगभग डेढ़ लाख यहूदि भी शामिल थे।[22] अनुमानित 8.7 मिलियन सोवियत सैनिकों जोकि नाजियों के खिलाफ लड़ाई में उतरे थे,[23][24][25] में 1.4 मिलियन स्थानीय यूक्रेनियन थे। विजय दिवस, दस यूक्रेनी राष्ट्रीय छुट्टियों में से एक के रूप में मनाया जाता है।[26]

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद[संपादित करें]

यूक्रेन को युद्ध से भारी क्षति हुई थी, और इसे पुनर्वास के लिए अधिक प्रयासों की आवश्यकता थी। 700 से अधिक शहरों और कस्बे और 28,000 से अधिक गांव नष्ट हो चुके थे।[27] 1946-47 में आये सूखे और युद्धकाल में नष्ट हुए बुनियादी सुविधाओं के कारण आये अकाल से स्थिति और बिगड़ गई। अकाल से हुए मौत की संख्या लाखो में थी।[28][29][30] 1945 में, यूक्रेनी एसएसआर संयुक्त राष्ट्र संगठन के संस्थापक सदस्यों में से एक था।[31] युद्ध के बाद के नए विस्तारित सोवियत संघ में जाति संहार को बढ़ावा मिला। 1 जनवरी 1953 तक, 20% से अधिक वयस्कों के "विशेष निर्वासन" में रूस के बाद यूक्रेनियन का ही स्थान था।[32] इसके अलावा, यूक्रेन के 450,000 से अधिक जर्मन मूल और 200,000 से अधिक क्रीमिया तातारों को निर्वासन के लिए मजबूर किया गया।[32]

1953 में स्टालिन की मृत्यु के बाद, निकिता ख्रुश्चेव सोवियत संघ के नए नेता बने। 1938-49 में यूक्रेनी एसएसआर कम्युनिस्ट पार्टी के प्रमुख सचिव रह चुके ख्रुश्चेव यहाँ के गणराज्य से भली-भांति परिचित थे; संघ के नेता बनते ही, उन्होंने यूक्रेनी और रूसी राष्ट्रों के बीच दोस्ती को बढ़ावा दिया। 1954 में, पेरेसास्लाव की संधि की 300 वीं वर्षगांठ को व्यापक रूप से मनाया गया। क्रीमिया को रूसी एसएफएसआर से यूक्रेनी एसएसआर को स्थानांतरित कर दिया गया।[33] 1950 तक, यूक्रेन ने उद्योग और उत्पादन में युद्ध के पूर्व के स्तर को पार कर लिया।[34] 1946-1950 की पंचवर्षीय योजना के दौरान, सोवियत बजट का लगभग 20%, सोवियत यूक्रेन में निवेश किया गया था, जोकि युद्ध-पूर्व योजना से 5% अधिक था। नतीजतन, यूक्रेनी जनबल 1940 से 1955 तक 33.2% बढ़ गया, जबकि इसी अवधि में औद्योगिक उत्पादन में 2.2 गुना की वृद्धि हुई।

सोवियत यूक्रेन जल्द ही औद्योगिक उत्पादन में यूरोप को पीछे छोड़ दिया[35], और साथ ही सोवियत में हथियार उद्योग और उच्च तकनीक अनुसंधान का एक महत्वपूर्ण केंद्र बन गया। इस तरह की एक महत्वपूर्ण भूमिका के परिणामस्वरूप स्थानीय अभिजात वर्ग को एक बड़ा प्रभाव हासिल हो गया। सोवियत नेतृत्व के कई सदस्य यूक्रेन से आए, जिसमे सबसे खास तौर पर लियोनिद ब्रेझ़नेव थे। बाद में जिन्होंने ख्रुश्चेव को हटा कर 1964 से 1982 तक सोवियत नेता बन रहे। कई प्रमुख सोवियत खिलाड़ी, वैज्ञानिक और कलाकार यूक्रेन से आए थे।

26 अप्रैल 1986 को, चेर्नोबिल परमाणु ऊर्जा संयंत्र के एक रिएक्टर में विस्फोट हुआ, परिणामस्वरूप चेर्नोबिल दुर्घटना, इतिहास का सबसे खराब परमाणु रिएक्टर दुर्घटना मन जाता हैं।[36] दुर्घटना के समय, 7 मिलियन लोग उस क्षेत्रों में रहते थे, जिसमें यूक्रेन के 2.2 मिलियन लोग शामिल थे।[37] दुर्घटना के बाद, एक नया शहर स्लावुतच, प्रदूषित क्षेत्र के बाहर बनाया गया और संयंत्र के कर्मचारियों का वह बसाया गया, जिसे आगे चल कर सन 2000 में सेवा मुक्त कर दिया गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक रिपोर्ट के अनुसार 56 मौते प्रत्यक्ष से दुर्घटना के समय हुई, तथा आगे चल कर 4,000 अतिरिक्त मृत्यु कैंसर के कारण हुई।[38]

स्वतंत्रता[संपादित करें]

Protesters at Independence Square on the first day of the Orange Revolution

२०१४ की क्राँति एवं रूस का सैन्य दखल[संपादित करें]

नवंबर २०१२ में यूरोपीय संघ के साथ अंतिम समय में एक व्यापारिक समझौता रद्द कर रूस के साथ जाने पर के बाद यूक्रेन की राजधानी कीव में सरकार विरोधी प्रदर्शन शुरू हो गए। लाखों लोगों ने इंडिपेंडेंट स्क्वेयर पर प्रदर्शन किया। पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई जिसमें 70 से अधिक मारे गए और लगभग 500 घायल हो गए।[39] 23 फ़रवरी 2014 को यूक्रेन के तत्कालीन राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच के ऊपर महाभियोग लगाए जाने के बाद यूक्रेन की संसद ने स्पीकर ओलेक्जेंडर तुर्चिनोव को अस्थायी रूप से राष्ट्रपति के कार्यो की जिम्मेदारी सौंप दी।[40][41] यानुकोविच देश छोड़कर भाग गए।

26 फ़रवरी 2014 को हथियारबंद रूस समर्थकों ने यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप में संसद और सरकारी बिल्डिंगो पर को कब्जा कर लिया।[39] रूसी सैनिकों ने क्रीमिया के हवाई अड्डों, एक बंदरगाह और सैन्य अड्डे पर भी कब्जा कर लिया जिससे रूस और यूक्रेन के बीच आमने-सामने की जंग जैसे हालात बन गए।[42] २ मार्च को रूस की संसद ने भी राष्ट्रपति पुतिन के यूक्रेन में रूसी सेना भेजने के निर्णया का अनुमोदन कर दिया।[43] दुनिया भर में इस संकट से चिंता छा गई और कई देशों के राजनयिक अमले हरकत में आ गए। यही नहीं, 3 मार्च को दुनिया भर के शेयर बाजार गिर गए। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनके यूरोपीय सहयोगियों ने रूस के कदम को अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए खतरा बताया।[44] उन्होंने फोन पर रूसी राष्ट्रपति से डेढ़ घंटा बात की।[45]। 4 मार्च को रूस के राष्ट्रपति ने सेनाएँ वापिस बुलाने की घोषणा कर दी।[46]

भूगोल[संपादित करें]

603,628 वर्ग किलोमीटर (233,062 वर्ग मील) के क्षेत्रफल और 2782 किलोमीटर (1729 मील) लम्बी तटरेखा के साथ, यूक्रेन दुनिया का 46वां सबसे बड़ा देश है (मेडागास्कर से पहले, दक्षिण सूडान के बाद)। यह पूर्णतः यूरोपियाई सीमा के अंदर आने वाला सबसे बड़ा देश है एवं यूरोप का दूसरा सबसे बड़ा देश है। [अ][47]


मिट्टी[संपादित करें]

उत्तर-पश्चिम से दक्षिण तक यूक्रेन की मिट्टी तीन प्रमुख भागो में विभाजित किया जा सकता है: बलुआ पॉडजॉलीज़ेड मिट्टी क्षेत्र, अत्यंत उपजाऊ काली मिटटी(Chernozem) का मध्यक्षेत्र, तथा भूरा और लवणता उक्त मिट्टी के क्षेत्र।[48]

इनमे से सबसे प्रमुख काली मिटटी हैं जोकि यूक्रेन के दो तिहाई हिस्सो में पाई जाती हैं। यह अत्यंत ही उपजाऊ मिटटी होती है इसे दुनिया कि सबसे उपजाऊ क्षेत्रों में से एक माना जाता हैं और "पाव का टोकरी" के नाम से प्रसिद्ध हैं।[49]

जैव विविधता[संपादित करें]

यूक्रेन जानवरों, कवक, सूक्ष्मजीवों और पौधों की विभिन्नतओ का घर है।

जीव-जंतु[संपादित करें]

speckled ground squirrel
चित्तीदार जमीनी गिलहरी पूर्व यूक्रेनी मैदान में पाए जाते है
White storks danube
व्हाइट स्टॉर्क दक्षिण-पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी यूक्रेन के मूलतः पाए जाते हैं

यूक्रेन का प्राणि क्षेत्र दो भागो में बता हुआ हैं पहला पश्चिमी क्षेत्र जहा यूरोप कि सीमा स्थित हैं यहाँ मिश्रित वनों की विशिष्ट प्रजातियों देखने को मिलती हैं और दूसरा पूर्वी यूक्रेन की ओर का क्षेत्र हैं जहां मैदान में रहने वाली प्रजातियों पनपती हैं देश के वन क्षेत्रों में जंगली बिल्ली, भेड़िये, जंगली सूअर और नेवला मुख्य रूप से पाए जाते है इनके अलावा यह अन्य की प्रकार के जीव पाया जाते हैं, वही कार्पेथियन पहाड़ियां जोकि कई स्तनधारियों का घर हैं जिनमे भूरे भालू, ऊदबिलाव तथा मिंक प्रमुख हैं

कवक[संपादित करें]

कवक की 6,600 से अधिक ज्ञात प्रजातियों को यूक्रेन में दर्ज किया गया है, लेकिन अभी कई संख्या में अज्ञात प्रजातिया भी है।

जलवायु[संपादित करें]

यूक्रेन के कोपेन जलवायु वर्गीकरण का नक्शा।

यूक्रेन में ज्यादातर समशीतोष्ण जलवायु रहती है, इसके अपवाद क्रिमीआ के दक्षिणी तट हैं जहाँ उपोष्णकटिबंधीय जलवायु है।[50] यहाँ की जलवायु अटलांटिक महासागर से आने वाली मामूली गर्म तथा नम हवा से प्रभावित होती है। औसत वार्षिक तापमान 7 °C (41.9–44.6 °F) उत्तर की ओर, से लेकर 11–13 °C (51.8–55.4 °F)दक्षिण में रहती हैं।[51] वर्षण (बूंदा बांदी, बारिश, ओले के साथ वर्षा, बर्फ, कच्चा ओला और ओलों इत्यादि) का वितरण भी असमान्य है; यह पश्चिम और उत्तर में सबसे अधिक जबकि पूर्व और दक्षिण पूर्व में सबसे कम है। पश्चिमी यूक्रेन में, विशेष रूप कार्पथियान पहाड़ों में वर्षा 1,200 मिलीमीटर (47.2 में) के आसपास प्रतिवर्ष होता है जबकि क्रिमीआ और काला सागर के तटीय क्षेत्रों के आसपास 400 मिलीमीटर होती है।

राजनीति[संपादित करें]

यूक्रेन एक गणराज्य है जिसमे अलग विधायी, कार्यकारी और न्यायिक शाखाओं के साथ एक मिश्रित अर्द्ध संसदीय, अर्द्ध राष्ट्रपति प्रणाली लागु हैं।

शासन प्रणाली[संपादित करें]

24 अगस्त 1991 में अपनी स्वतंत्रता के साथ ही यूक्रेन ने 28 जून 1996 को संविधान लागु कर अर्द्ध-राष्ट्रपति गणतंत्र की पद्धति अपना ली, हलाकि 2004 में इसमें कई संशोधन किये गए जिससे इसका झुकाओ संसदीय प्रणाली की और बढ़ गया, हलाकि इसका विरोध सारे देश में किया गया और अंत में यूक्रेनी कोर्ट ने 30 सितंबर 2010 को सारे संविधान में किये गए संशोधनों को ख़ारिज कर पुनः 1996 वाले संविधान को लागु कर दिया 2004 का संवैधानिक संशोधन तथा 2010 पर कोर्ट के आदेश पर राजनीतिक बहस का एक प्रमुख विषय बन गया कि न तो 1996 के संविधान और न ही 2004 के संविधान, "संविधान पूर्ववत करें" करने की क्षमता प्रदान करता हैं, 21 फरवरी 2014 को राष्ट्रपति विक्टर यानुकोवायच और विपक्षी नेताओं के बीच पुनः 2004 के संविधान की वापसी के लिये एक समझौता हुआ। यह समझौता यूरोपीय संघ की मध्यस्थता के बाद हुआ, जिसके बाद सारे देश में विरोध पनपने लगा। नवम्बर 2013 में शुरू हुआ हिंसक झड़प एक सप्ताह तक चला जिसमें कई प्रदर्शनकारी मारे गए। इस सौदे में 2004 के संविधान में देश के लौटने , गठबंधन सरकार का गठन , जल्दी चुनाव का आवाहन तथा जेल से पूर्व प्रधानमंत्री यूलिया Tymoshenko की रिहाई भी शामिल थी। समझौते के एक दिन बाद, यूक्रेन की संसद ने समझौता खारिज कर दिया और अपनी वक्ता ऑलेक्ज़ेंडर Turchynov को अंतरिम राष्ट्रपति और Arseniy Yatsenyuk को यूक्रेन के प्रधानमंत्री के रूप में स्थापित किया।

विदेश संबंध[संपादित करें]

प्रशासनिक विभाग[संपादित करें]

सेना[संपादित करें]

सोवियत संघ के विघटन के बाद, यूक्रेन को अपने विरासत में 780,000 सैन्य बल, के साथ दुनिया में तीसरी सबसे बड़ी परमाणु हथियार शस्त्रागार मिला है। मई 1992 में, यूक्रेन ने लिस्बन में अपने सभी परमाणु हथियारों को नष्ट करने हेतु रूस को सौपने और परमाणु अप्रसार संधि पर एक गैर परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्र के रूप में शामिल होने के सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए। यूक्रेन ने 1994 में संधि की पुष्टि की, और 1996 तक देश में उपस्थित सभी परमाणु हथियारों से मुक्त हो गया।[52] यूक्रेन, वर्तमान में अनिवार्य भरती आधारित सैन्य को एक पेशेवर स्वयंसेवक सेना में के रूप में परिवर्तित करने के लिए योजना बना रही है।[53]

यूक्रेन शांति अभियानों में एक बड़ी भूमिका निभा रहा है। यूक्रेनी सैनिक, यूक्रेनी-पोलिश बटालियन के रूप में कोसोवो में तैनात किए गए हैं।[54]एक यूक्रेनी सैनिक टुकड़ी को लेबनान में "अनिवार्य संघर्ष विराम समझौते" को लागू करने के लिए संयुक्त राष्ट्र अंतरिम सेना के भूमिका के रूप में तैनात किया गया था। 2003-05 में, यूक्रेनी की सैनिक इकाई को पोलिश नियंत्रण में इराक में बहुराष्ट्रीय बल के रूप में तैनात किया गया था।

अपनी स्वतंत्रता के बाद से ही, यूक्रेन अपने आप को एक तटस्थ राष्ट्र घोषित करता रहा हैं। 1994 तक देश की रूस, नाटो, और अन्य सीआईएस देशों के साथ सीमित सैन्य साझेदारी है। 2000 के दशक में यूक्रेन सरकार का नाटो की ओर झुकाव बढ़ गया और 2002 में आपस में प्रगण सहयोग स्थापित करने हेतु नाटो-यूक्रेन कार्य योजना पर हस्ताक्षर किए गए। अभी तक रूस के दवाब के कारण यूक्रेन के नाटो में जुड़ने के आसार काम ही दिखाई देते रहे हैं। हलाकि 2008 बुखारेस्ट शिखर सम्मेलन के दौरान नाटो ने घोषणा की कि यूक्रेन, जब परिग्रहण के लिए सभी मानदंडों को पूरा कर लेगा, वह अंततः नाटो का सदस्य बन जाएगा।[55]

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

निगमों[संपादित करें]

परिवहन[संपादित करें]

ऊर्जा[संपादित करें]

इंटरनेट[संपादित करें]

यूक्रेन इंटरनेट के क्षेत्र में बड़ी तेजी से बढ़ रहा है जोकि 2007-08 के वित्तीय संकट से अप्रभावित रहा है। जून, 2014 तक, वहाँ 18.2 करोड़ डेस्कटॉप इंटरनेट उपयोगकर्ताओं थे, जोकि कुल वयस्क आबादी का 56% है. इस क्षेत्र का केंद्र-बिंदु, 25 से 34 वर्षीय आयु वर्ग,की और हैं जोकि जनसंख्या का 29% प्रतिनिधित्व करता है।[56] दुनिया के सबसे तेजी से इंटरनेट का उपयोग करने वाले शीर्ष दस देशों के बीच, यूक्रेन 8 वें स्थान पर है।[57]

पर्यटन[संपादित करें]

येनिकले किला,केर्च (क्रिमीआ)

यूक्रेन, विश्व पर्यटन संगठन श्रेणी के अनुसार आने वाले पर्यटकों की संख्या से यूरोप में 8 वें स्थान पर है,[58] क्योंकि यहाँ कई पर्यटकों के आकर्षणो का केंद्र हैं: पहाड़ स्कीइंग, लंबी पैदल यात्रा और मछली पकड़ने के लिए शैलानी यहाँ बड़ी मात्रा में आते हैं काला सागर का तट गर्मियों में गंतव्य के रूप में लोकप्रिय हैं ; विभिन्न पारिस्थितिक तंत्र की प्रकृति भंडार; चर्चों, महल खंडहरो, पार्क स्थलों तथा विभिन्न आउटडोर गतिविधि के लिए प्रशिद्ध हैं अपनी कई ऐतिहासिक स्थलों तथा आतिथ्य बुनियादी सुविधाओं के साथ कीव, लविवि , ओडेसा और कम्यानेट्स-पोडिलसकइ यूक्रेन के प्रमुख पर्यटन केंद्रों में से एक हैं। क्रीमिया की अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार पर्यटन हुआ करता था लेकिन 2014 में रूसी विलय के बाद आगंतुक संख्या में एक बड़ी गिरावट आई है।[59]

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

जनसंख्या में गिरावट[संपादित करें]

शहरीकरण[संपादित करें]

यूक्रेन में कुल 457 शहर हैं, जिनमे से १७६ ओब्लास्ट वर्ग, 279 छोटे रायोन-स्तरीय शहरों, और दो शहर विशेष कानूनी दर्ज है।

'यूक्रेन में सबसे बड़े शहर या कस्बे'

श्रेणी नाम क्षेत्र जन्संख्या
1 कीव कीव (शहर) 2,814,258

भाषा[संपादित करें]

धर्म[संपादित करें]

स्वास्थ्य[संपादित करें]

शिक्षा[संपादित करें]

संस्कृति[संपादित करें]

यूक्रेन रूढ़िवादी ईसाई धर्म, को की देश में प्रमुख धर्म हैं से बहुत प्रभावित हैं। यूक्रेन की संस्कृति अपने पूर्वी और पश्चिमी पड़ोसी देशो से भी बहुत प्रभावित है इसका उदाहरण वहा की स्थापत्य कला, संगीत और कला में देखने को मिल सकता हैं। कम्युनिस्ट युग का यूक्रेन के कला और लेखन पर काफी गहरा प्रभाव रहा हैं। 1932 में स्टालिन ने सोवियत संघ में समाजवादी यथार्थवाद राज्यनीति का गठन किया जिसने वहा के रचनात्मकता पर बुरा असर डाला। 1980 के दशक glasnost (खुलापन) पेश किया गया और सोवियत कलाकार और लेखक फिर से खुद को अभिव्यक्त करने के लिए स्वतंत्र हो गए।

ईस्टर एग की परंपरा, जो की वहा pysanky के रूप में जाना जाता हैं, यूक्रेन की जड़ों में बसा हुआ है। यहाँ पर रंग-बिरंगे ईस्टर एग बनाये जाते हैं जोकि वहा के पारंपरिक विरासत हैं

बुनाई और कढ़ाई[संपादित करें]

यूक्रेनी कढ़ाई के कुछ नमूने

दस्तकार वस्त्र कला, यूक्रेनी संस्कृति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं विशेषकर यूक्रेनी शादी की परंपराओं में। यूक्रेनी कढ़ाई, बुनाई और फीता बनाने पारंपरिक कला वहा के लोक पोशाक और पारंपरिक समारोह में देखा जा सकता है। राष्ट्रीय पोशाक बुना जाता है और इसे अत्यधिक सजाया जाता हैं। हस्तनिर्मित करघे के साथ बुनाई अभी भी Krupove गांव, जोकि Rivne Oblast में स्थित हैं प्रचलित है। यह गांव राष्ट्रीय शिल्प निर्माण के दो मशहूर हस्तियों का जन्मस्थान है। नीना Myhailivna और Uliana Petrivna, जिनकी पहचान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हैं। इस पारंपरिक ज्ञान को सहेजने के लिए गांव में एक स्थानीय बुनाई केंद्र, एक संग्रहालय तथा बुनाई स्कूल खोलने की योजना बनाई जा रही है।

साहित्य[संपादित करें]

यूक्रेनी साहित्य का इतिहास 11 वीं सदी से है, उस समय के लेखन मुख्य रूप से पूजन पद्धति संबंधी थे तथा पुराने चर्च स्लावोनिक भाषा में लिखा गया था। साहित्यिक गतिविधि को मंगोल आक्रमण के दौरान अचानक गिरावट का सामना करना पड़ा। यूक्रेनी साहित्य फिर से 14 वीं सदी में विकसित होना शुरू किया और 16 वीं सदी छाप की शुरूआत के बाद , Cossack युग की शुरुआत के साथ में काफी फला-फूला, वहा की कला में रूसी और पोलिश कलाओ का प्रभुत्व दिखा। यह उन्नति 17वीं और 18वीं शताब्दी में वापस स्थगित हो गए, जब यूक्रेनी भाषा में प्रकाशित करने को गैरकानूनी और निषिद्ध कर दिया गया। बहरहाल, 18वीं सदी में आधुनिक साहित्यिक यूक्रेनी फिर से उभर कर सामने आया।

वास्तुकला[संपादित करें]

संगीत और सिनेमा[संपादित करें]

कॉसैक मैमे, कोब्जा(एक प्रकार का वाद्ययंत्र) बजाते हुए

संगीत एक लंबे इतिहास के साथ यूक्रेनी संस्कृति का एक प्रमुख हिस्सा है। पारंपरिक लोक संगीत से, पारंपरिक और आधुनिक रॉक संगीत तक, यूक्रेन कई अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त संगीतकारों का घर है। जिनमे किरिल कराबिट्स, ओकेयन एलजी और रुस्लाना शामिल हैं। पारंपरिक यूक्रेनी लोक संगीत के धुन ने पश्चिमी संगीत और आधुनिक जैज़ संगीत को भी प्रभावित किया हैं। 1960 के दशक के मध्य से, पश्चिमी-प्रभावित पॉप संगीत की लोकप्रियता यूक्रेन में बढ़ रही है। लोक गायक और हार्मोनियम वादक मारियाना सदोवस्का प्रमुख कलाकार हैं।

यूक्रेन का यूरोपीय सिनेमा पर भी प्रभाव है यूक्रेनी निर्देशक अलेक्जेंडर दोवजहेंको, अक्सर महत्वपूर्ण सोवियत फिल्म निर्माताओं में याद किये जाते है। उन्होंने अपनी खुद की सिनेमाई शैली का आविष्कार किया, यूक्रेनी काव्य सिनेमा, जोकि उस समय के समाजवादी मार्गदर्शक सिद्धांतों से एकदम अलग थे। महत्वपूर्ण और सफल प्रस्तुतियों के बावजूद, यहाँ के फिल्म उद्योग में यूरोपीय और रूसी प्रभाव को लेकर अक्सर बहस होती रहती है। यूक्रेनी निर्माता, अंतरराष्ट्रीय सह-निर्माण में सक्रिय हैं और यूक्रेनी अभिनेता, निर्देशक और चालक दल नियमित रूप से रूसी (पूर्व में सोवियत) फिल्मों में दिखाई देते रहते हैं।

पत्रकारिता[संपादित करें]

खेल[संपादित करें]

यूक्रेनी फुटबॉलर एंड्री शेवचेन्को यूरो 2012 में स्वीडन के खिलाफ गोल कर उत्सव मनाते हुए

यूक्रेन को सोवियत के शारीरिक शिक्षा पर जोर से काफी लाभ हुआ। इस तरह की नीतियों से यहाँ कई स्टेडियम, स्विमिंग पूल, जिम्नॅशिअम और कई अन्य पुष्ट सुविधाएं विरासत में यूक्रेन को मिले। यहाँ का सबसे लोकप्रिय खेल फुटबॉल है। यहाँ के शीर्ष पेशेवर लीग में Vyscha LIHA ( "प्रीमियर लीग") का नाम है।

कई यूक्रेनियन्स ने सोवियत राष्ट्रीय फुटबॉल टीम के लिए भी खेला हैं यहाँ की राष्ट्रीय टीम 2006 के फीफा विश्व कप में क्वार्टर फाइनल तक पहुंचे, और अंततः चैंपियन इटली से हार का सामना करना पड़ा

यूक्रेनियन का मुक्केबाजी में भी अच्छा प्रदर्शन रहा हैं जिनमे Vitali और Wladimir क्लिट्सचको भाइयों को विश्व हैवीवेट चैंपियन का दर्ज हासिल है।

शतरंज यूक्रेन में एक लोकप्रिय खेल है। यहाँ के Ruslan Ponomariov पूर्व विश्व चैंपियन रह चुके है। यहाँ यूक्रेन में 85 ग्रैंडमास्टर तथा 198 अंतर्राष्ट्रीय मास्टर्स हैं।

यूक्रेन 1994 के शीतकालीन ओलंपिक में अपने ओलंपिक करियर की शुरुआत की। अब तक ओलंपिक में यूक्रेन शीतकालीन ओलंपिक की तुलना में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक (पांच मैचों में 115 पदक) में बहुत अधिक सफल रहा है। यूक्रेन वर्तमान में स्वर्ण पदकों की संख्या से 35 वें स्थान पर है।

भोजन[संपादित करें]

परंपरागत यूक्रेनी आहार में मुर्गी-सुअर का मांस, मांस, मछली और मशरूम शामिल है। यहाँ आलू, अनाज, ताजा, उबला हुआ या मसालेदार सब्जिया भी बहुत खाये जाते हैं। यहाँ का लोकप्रिय पारंपरिक व्यंजन, Varenyky (मशरूम, आलू, गोभी, पनीर, चेरी के साथ उबला हुआ पकौड़ी), nalysnyky (पनीर, खसखस, मशरूम, मछली के अंडे या मांस के साथ पेनकेक्स),और Pierogi (उबला हुआ आलू और पनीर या मांस के साथ भरा पकौड़ी) शामिल हैं। यूक्रेनी व्यंजन में चिकन कीव और कीव केक भी शामिल हैं। यूक्रेनियन पेय पदार्थो में फल जूस, दूध, छाछ, चाय और कॉफी, बीयर, वाइन और horilka शामिल हैं।

टिप्पणी[संपादित करें]

अ.^  रूस और कजाखस्तान पहले और दूसरे सबसे बड़े देश हैं लेकिन दोनों यूरोपीय और एशियाई महाद्वीपों में फैले हैं। रूस यूक्रेन से अधिक यूरोपियाई क्षेत्रफल रखने वाला एकमात्र देश है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; imf1 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  2. "Human Development Report 2015 Statistical Annex" (PDF). 14 December 2015. http://hdr.undp.org/sites/default/files/hdr_2015_statistical_annex.pdf. अभिगमन तिथि: 15 December 2015. 
  3. "Kievan Rus". The Columbia Encyclopedia। (2001-2005)।
  4. Hryhoriy Pivtorak. "Error: no |title= specified when using {{Cite web}}" (uk में). http://litopys.org.ua/pivtorak/pivtorak.htm. अभिगमन तिथि: 21 October 2015. 
  5. Rainer Münz, Rainer Ohliger (2003). "Diasporas and ethnic migrants: German, Israel, and post-Soviet successor". Routledge. p. 164. ISBN 0-7146-5232-6
  6. Horbal, Bogdan. "Talerhof". The world academy of Rusyn culture. http://www.rusyn.org/histalerhof.html. अभिगमन तिथि: 20 January 2008. 
  7. Cipko, Serge. "Makhno, Nestor". Encyclopedia of Ukraine. http://www.encyclopediaofukraine.com/display.asp?linkPath=pages\M\A\MakhnoNestor.htm. अभिगमन तिथि: 17 January 2008. 
  8. "Interwar Soviet Ukraine". Encyclopædia Britannica (fee required). Archived from the original on 2008-04-18. https://web.archive.org/web/20080418030322/http://www.britannica.com/eb/article-30078/Ukraine. अभिगमन तिथि: 12 September 2007. 
  9. Wilson, p. 17
  10. Subtelny, p. 487
  11. Roberts, p. 102
  12. Boshyk, p. 89
  13. "World wars". Encyclopedia of Ukraine. http://www.encyclopediaofukraine.com/display.asp?linkpath=pages\W\O\Worldwars.htm. अभिगमन तिथि: 20 December 2007. 
  14. "Losses of the Ukrainian Nation, p. 2" (Ukrainian में). Peremoga.gov.ua. Archived from the original on 15 May 2005. //web.archive.org/web/20050515091804/http://www.peremoga.gov.ua/index.php?2150005000000000020. अभिगमन तिथि: 16 December 2007. [मृत कड़ियाँ][मृत कड़ियाँ]
  15. Magocsi, p. 635
  16. "Ukrainian Insurgent Army". Encyclopedia of Ukraine. http://www.encyclopediaofukraine.com/display.asp?linkPath=pages\U\K\UkrainianInsurgentArmy.htm. अभिगमन तिथि: 20 December 2007. 
  17. "Ukraine – World War II and its aftermath". Encyclopædia Britannica. Archived from the original on 2010-02-27. https://web.archive.org/web/20100227142736/http://www.britannica.com/EBchecked/topic/612921/Ukraine/30080/Bukovina-under-Romanian-rule. अभिगमन तिथि: 28 December 2007. 
  18. Karel Cornelis Berkhoff. Harvest of despair: life and death in Ukraine under Nazi rule, Harvard University Press: April 2004. p. 164
  19. Rozhnov, Konstantin, "Who won World War II?", BBC. Citing Russian historian Valentin Falin. Retrieved 5 July 2008.
  20. "Losses of the Ukrainian Nation, p. 1" (Ukrainian में). Peremoga.gov.ua. Archived from the original on 25 October 2007. //web.archive.org/web/20071025001902/http://www.peremoga.gov.ua/index.php?3450000000000000010. अभिगमन तिथि: 16 December 2007. [मृत कड़ियाँ]
  21. Kulchytsky, Stalislav, "Demographic losses in Ukrainian in the twentieth century", Zerkalo Nedeli, 2–8 October 2004. Available online in Russian and in Ukrainian. Retrieved 27 January 2008.
  22. Smale, Alison (27 January 2014). "Shedding Light on a Vast Toll of Jews Killed Away From the Death Camps". The New York Times. https://www.nytimes.com/2014/01/28/world/europe/a-light-on-a-vast-toll-of-jews-killed-away-from-the-death-camps.html?_r=1. 
  23. "Losses of the Ukrainian Nation, p. 7" (Ukrainian में). Peremoga.gov.ua. Archived from the original on 15 May 2005. //web.archive.org/web/20050515100506/http://www.peremoga.gov.ua/index.php?2150005000000000070. अभिगमन तिथि: 16 December 2007. [मृत कड़ियाँ]
  24. Overy, p. 518
  25. Кривошеев Г. Ф., Россия и СССР в войнах XX века: потери вооруженных сил. Статистическое исследование (Krivosheev G. F., Russia and the USSR in the wars of the 20th century: losses of the Armed Forces. A Statistical Study) (रूसी)
  26. "Holidays". Ministry of Foreign Affairs of Ukraine. Archived from the original on 20 April 2006. https://web.archive.org/web/20060420145124/http://www.mfa.gov.ua/mfa/en/publication/content/290.htm. अभिगमन तिथि: 24 August 2008. 
  27. "Ukraine: World War II and its aftermath". Encyclopædia Britannica (fee required). Archived from the original on 29 September 2007. //web.archive.org/web/20070929133150/http://www.britannica.com/eb/article-30082/Ukraine. अभिगमन तिथि: 12 September 2007. 
  28. Кульчинский [Kulchytsky], Станислав [Stanislav] (2–8 October 2004), "Демографические потери Украины в XX веке" (Russian में), Zerkalo Nedeli (RU: [Demoscope]), http://www.demoscope.ru/weekly/2004/0173/analit06.php 
  29. "Демографические потери Украины в XX веке [Demographic losses of Ukraine in the XX century]" (Russian में). Zerkalo Nedeli. Archived from the original on 21 July 2006. https://web.archive.org/web/20060721091917/http://www.zerkalo-nedeli.com/nn/show/514/47913/. अभिगमन तिथि: 8 January 2014. 
  30. "Error: no |title= specified when using {{Cite web}}" (uk में). Zerkalo Nedeli. Archived from the original on 2007-03-13. https://web.archive.org/web/20070313004842/http://www.zn.kiev.ua/ie/show/514/47913/. अभिगमन तिथि: 8 January 2014. [मृत कड़ियाँ]
  31. "Activities of the Member States – Ukraine". United Nations. http://www.un.org/depts/dhl/unms/ukraine.shtml. अभिगमन तिथि: 17 January 2011. 
  32. Malynovska, Olena (14 June 2006). "Migration and migration policy in Ukraine". http://www.niisp.org.ua/defa~177.php. 
  33. "The Transfer of Crimea to Ukraine". International Committee for Crimea. July 2005. http://www.iccrimea.org/historical/crimeatransfer.html. अभिगमन तिथि: 25 March 2007. 
  34. "Ukraine – The last years of Stalin's rule". Encyclopædia Britannica (fee required). Archived from the original on 15 January 2008. //web.archive.org/web/20080115052626/http://www.britannica.com/eb/article-30084/Ukraine. अभिगमन तिथि: 28 December 2007. 
  35. Magocsi, p. 644
  36. Remy, Johannes (1996). "'Sombre anniversary' of worst nuclear disaster in history – Chernobyl: 10th anniversary". UN Chronicle (Find articles). http://findarticles.com/p/articles/mi_m1309/is_n2_v33/ai_18795971. अभिगमन तिथि: 16 December 2007. 
  37. "Geographical location and extent of radioactive contamination". Chernobyl.info. Swiss Agency for Development and Cooperation. Archived from the original on 30 June 2007. https://web.archive.org/web/20070630071332/http://www.chernobyl.info/index.php?navID=2#Sources. अभिगमन तिथि: 8 January 2014. 
  38. "IAEA Report". In Focus: Chernobyl. https://www.iaea.org/newscenter/focus/chernobyl. अभिगमन तिथि: 31 May 2008. 
  39. "हथियाबंद प्रदर्शनकारियों के कब्जे में यूक्रेन की सरकारी बिल्डिंग". नवभारत टाईम्स. 27 फ़रवरी 2014. http://hindi.economictimes.indiatimes.com/articleshow/31115001.cms. अभिगमन तिथि: 4 मार्च 2014. 
  40. "Ukraine's Parliament Appoints Opposition Leader Acting PM". Novinite. Sofia News Agency. Archived from the original on 23 फ़रवरी 2014. http://web.archive.org/web/20081201194141/http://www.novinite.com/articles/158429/Ukraine's+Parliament+to+Appoint+Opposition+Leader+Acting+PM. अभिगमन तिथि: 3 मार्च 2014. 
  41. याहू समाचार, शीर्षक:ओलेक्जेंडर बने यूक्रेन के अंतरिम राष्ट्रपति, दिनांक:23 फ़रवरी 2014
  42. http://hindi.economictimes.indiatimes.com/world/other-countries/Ukraine-mobilizes-troops-after-Russias-declaration-of-war/articleshow/31350211.cms रूस-यूक्रेन में जंग की आहट
  43. http://hindi.economictimes.indiatimes.com/world/europe/putin-gets-russian-parliament-approval-to-attack-ukraine/articleshow/31232126.cms रूसी संसद ने दी यूक्रेन में आर्मी भेजने की इजाजत
  44. http://hindi.economictimes.indiatimes.com/world/europe/World-scrambles-as-Russia-tightens-grip-on-Crimea/articleshow/31348485.cms यूक्रेन संकट : दुनिया बोली रुको रूस
  45. http://hindi.economictimes.indiatimes.com/articleshow/31350003.cms यूक्रेन पर आमने-सामने
  46. http://hindi.economictimes.indiatimes.com/articleshow/31356242.cms पुतीन के यूटर्न के बाद सेंसेक्स 250 अंक चढ़ा, निफ्टी 6300 के करीब
  47. "Ukraine". CIA World Factbook. 13 दिसम्बर 2007. https://www.cia.gov/library/publications/the-world-factbook/geos/up.html. अभिगमन तिथि: 24 दिसम्बर 2007. 
  48. "Ukraine". Encyclopedia Britannica. http://www.britannica.com/place/Ukraine. 
  49. Magocsi, Paul R. A history of Ukraine: The land and its peoples. University of Toronto Press, 2010.
  50. "Ukraine". Country Pasture/Forage Resource Profiles. Food and Agriculture Organization. http://www.fao.org/ag/agp/AGPC/doc/Counprof/Ukraine/ukraine.htm. अभिगमन तिथि: 8 August 2016. 
  51. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; ebclimate नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  52. "The history of the Armed Forces of Ukraine". Ministry of Defence of Ukraine. http://www.mil.gov.ua/index.php?lang=en&part=history&sub=history. अभिगमन तिथि: 5 July 2008. 
  53. "White Book 2006" (PDF). Ministry of Defence of Ukraine. Archived from the original on 8 November 2007. https://web.archive.org/web/20071108143812/http://www.mil.gov.ua/files/white_book_eng2006.pdf. अभिगमन तिथि: 24 December 2007. 
  54. "Multinational Peacekeeping Forces in Kosovo, KFOR". Ministry of Defence of Ukraine. http://www.mil.gov.ua/index.php?lang=en&part=peacekeeping&sub=kfor_kosovo. अभिगमन तिथि: 24 December 2007. 
  55. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; NATOTAK नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  56. "Главные факты и цифры о digital-рынке Украины". http://www.imena.ua/blog/digital-in-ukraine/. अभिगमन तिथि: 2015-08-20. 
  57. "Pando Networks Releases Global Internet Speed Study". Pandonetworks.com. 22 September 2011. Archived from the original on 3 December 2012. https://web.archive.org/web/20121203080726/http://www.pandonetworks.com/company/news/pando-networks-releases-global-internet-speed-study. अभिगमन तिथि: 26 January 2014. 
  58. UNWTO World Tourism Barometer, volume 6, UNWTO (June 2008)
  59. Tourism takes a nosedive in Crimea bbc.co.uk, accessed 29 December 2015