भैरव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ब्रिटिश संग्रहालय में रखी भैरव की प्रतिमा


भैरव, भगवान शिव का एक स्वरूप। इसमें शिव को उनके रौद्र रूप (भयावह रूप) में दिखाया गया है। भैरव, नेपाल के सबसे प्रमुख देवताओं में से हैं। वे हिन्दू एवं बौद्ध दोनों द्वारा समान रूप से आदर किये जाते हैं। भैरव के दोन रुप है काल भैरव गोरा भैरव राजस्यान मे भैरव को भैरुनाथ बाबजी के नाम से कहा जाता है राजस्यान मे भैरव उत्पती उदयपुर मे कुहे मे बँधे है कहा जाता है कि कुहे पर पानी भरने आने वाली औरतो को पँत्तर मार के उनकी मटकिया भोडतता था ईसालिऐ उसे कुहे मे बाँध लिया है। राजसँमद जिले मे भैरनाथ का मँदिर है

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]