राजतरंगिणी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राजतरंगिणी, कल्हण द्वारा रचित एक संस्कृत ग्रन्थ है। इसका शाब्दिक अर्थ है - राजाओं की नदी और भावार्थ है - राजाओं का इतिहास या समय-प्रवाह । यह कविता के रूप में है। इसमें कश्मीर का इतिहास वर्णित है जो महाभारत काल से आरम्भ होता है। इसका रचना काल सन ११४७ से ११४९ तक बताया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

वाह्य सूत्र[संपादित करें]