शिक्षा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शिक्षा में ज्ञान, उचित आचरण और तकनीकी दक्षता, शिक्षण और विद्या प्राप्ति आदि समाविष्ट हैं। इस प्रकार यह कौशलों (skills), व्यापारों या व्यवसायों एवं मानसिक, नैतिक और सौन्दर्यविषयक के उत्कर्ष पर केंद्रित है।[1]

औपचारिक शिक्षा के शामिल है व्यावसायिक शिक्षकों (professional teachers) द्वारा नियमशील अनुदेश, शिक्षण और प्रशिक्षण इन में शामिल हैं अध्यापन (pedagogy) और पाठ्यक्रम (curricula) के विकास का विनियोग एक उदार शिक्षा परंपरा में, शिक्षक अपने पाठ के लिए मनोविज्ञान, दर्शनशास्त्र, सूचना प्रौद्योगिकी, भाषा विज्ञानं, जीव विज्ञान और समाजशास्त्र (sociology) सहित अलग अलग विषयों से प्रेरणा लेते हैं व्यवसायों के विशेषीकृत शिक्षक जैसे खगोल भौतिकी (astrophysics), कानून, या प्राणीशास्त्र शायद एक सीमित क्षेत्र में ही सिखाएं आमतौर पर उच्च शिक्षा के संस्थानों में प्रोफेसरों के रूप में जो विशिष्ट कुशलता चाहें, जैसे की उद्धरण के लिए वेह कुशलता जो पायलट (pilot) बन्नने के लिए आवश्यक है, उन के लिए व्यापार के क्षेत्र में विशेषीकृत अनुदेश का अधिक अवसर है अंततः, इस कारणवश अनौपचारिक क्षेत्र में बे हद्द सारे शैक्षिक अवसर हैं, समाज संग्रहालय (museums) और पुस्तकालयों जैसे संस्थाओं को बढ़ावा देता है। अनौपचारिक शिक्षा में शामिल है शिक्षा जो जीवन में व्यवसाय (profession) के व्यापारिक परिपाटी से प्राप्त की हुई हो सहित ज्ञान और सीखी गई कुशलता जो जीवन के दौरान और सुधरता है,

शिक्षा का अधिकार एक मूलभूत मानव अधिकार है १९५२ से यूरोपीय मानवाधिकार लोक संमति (European Convention on Human Rights) के अनुछेद २ का पहला प्रोटोकॉल सभी हस्ताक्षरकर्ता दलों को शिक्षा के अधिकार की गारंटी करने के लिए मजबूर करता है विश्व स्तर, पर संयुक्त राष्ट्र संघ' १९६६ के अंतरराष्ट्रीय आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक संश्राव (International Covenant on Economic, Social and Cultural Rights) के तहत यह अधिकार अपने अनुच्छेद १३ के द्वारा इस अधिकार की गारंटी देता है

औपचारिक शिक्षा की प्रणालियाँ[संपादित करें]

शिक्षा प्रणालियों शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए, अक्सर बच्चों और युवाओं के लिए स्थापित की जाती है एक पाठ्यक्रम (curriculum) छात्रों को क्या पता होना चाहिए, बोध और शिक्षा के परिणाम के रूप में करने के लायक समझ को परिभाषित करता है।अध्यापन का पेशा, सीख प्रदान करता है जो विद्या प्राप्ति और नीतियों की एक प्रणाली, नियमों, परीक्षाओं, संरचनाओं और वित्तपोषण को सक्षम बनाता है और वित्तपोषण शिक्षकों को अपनी प्रतिभा के उच्चतम् क्षमता से पढ़ने में मदद करती haiकभी कभी शिक्षा प्रणाली सिद्धांतों या आदर्शों एवं ज्ञान को बढ़ावा देने के लिए प्रयोग की जाती है जिसे सामाजिक अभियंत्रिका (social engineering) कहा जाता है विशेषतम अधिनायकवादी राज्यों और सरकार में यह वयवस्था के राजनीतिक दुरुपयोग को बढ़ावा दे सकता है

  • शिक्षा एक व्यापक अवधारणा है, जो छात्रों में कुछ सीख सकने के सभी अनुभवों का हवाला देते हुए
  • अनुदेश शिक्षक अथवा अन्य रूपों द्वारा वितरित शिक्षण को कहते है जो अभिज्ञात लक्ष्य की विद्या प्राप्ति को जान बूझ कर सरल बनने को लिए हो
  • शिक्षण एक असल उपदेशक की क्रियाओं को कहते है जो शिक्षण को सुझाने के लिए आकल्पित किया गया हो
  • प्रशिक्षण विशिष्ट ज्ञान, कौशल, या क्षमताओं की सीख के साथ शिक्षार्थियों को तैयार करने की दृष्टि से संदर्भित है, जो कि तुरंत पूरा करने पर लागू किया जा सकता है

प्राथमिक शिक्षा[संपादित करें]

खुली हवा में प्राथमिक स्कूल. शिक्षक (पुजारी) कक्षा को साथ बुकारेस्ट को बाहरी इलाके में, लगभग १८४२

प्राथमिक (या मौलिक) शिक्षा औपचारिक, संरचित शिक्षा के प्रथम वर्षों से बने होते हैं सामान्यतः, प्राथमिक शिक्षा में शामिल हैं छह या सात स्कूली वर्ष जो पाँच या छे साल से आरम्भ होते हैं, हालांकि इस में अन्तर राष्ट्र अथवा अन्तर राज्य भेद हो सकता है विश्व स्तर पर, अग्भाग ७०% प्राथमिक-उम्र के बच्चों का प्राथमिक शिक्षा में दाखिला हो रहा है और यह अनुपात बढ़ रहा है।[2].यूनेस्को को 'शिक्षा सभी के लिए' कार्यक्रमों को अंतर्गत, अधिकाँश देशों ने २०१५ तक प्राथमिक शिक्षा की प्राप्ति का आश्वासन दिया है और कुछ देशों में तो बच्चों की प्राथमिक शिक्षा अनिवार्य प्रतिबद्ध है।प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा (secondary education) के बीच का विभाजन कुछ अनियन्त्रित है, लेकिन यह आमतौर पर ग्यारह या बारह साल की उम्र में होता है कुछ शिक्षा प्रणालियों में मिडल स्कूल (middle school) अलग से होते हैं और माध्यमिक शिक्षा के अंतिम चरण में संक्रमण लगभग चौदह वर्ष की उम्र के आसपास होता है जो विद्यालय प्राथमिक शिक्षा प्रदान करते हैं, उन्हें ज़्यादातर प्राथमिक विद्यालय को नाम से संदर्भित किया जाता haiइन देशों को प्राथमिक विद्यालय अक्सर प्रारम्भिक विद्यालय (infant school) एवं कनिष्ठ विद्यालय (junior school) में विभाजित किया जाता hai

माध्यमिक शिक्षा[संपादित करें]

विश्व की सबसे समकालीन शिक्षा प्रणालीयों (educational system) में माध्यमिक शिक्षा औपचारिक शिक्षा के द्वितीय वर्षों से अनुकूल है जो किशोरावस्था (adolescence) के दौरान होती है यह आम तौर पर नाबालिगों (minor) के लिए अनिवार्य, व्यापक प्राथमिक शिक्षा (primary education) से वैकल्पिक, चयनात्मक तृतीयक (tertiary) "पश्च-माध्यमिक" अथवा उच्च (higher) शिक्षा (जैसे विश्वविद्यालय, वयस्कों (adult) के लिए व्यावसायिक स्कूल (vocational school) के संक्रमण को कहेते हैं व्यवस्था पर निर्भर, इस अवधि में पाठशालाओं को माध्यमिक, हाई स्कूल (high school)s, व्यायामशाला (gymnasium)s, लिसेयुम (lyceum)s, मिडिल स्कूल (middle school)s, कॉलेज (college)s, या व्यावसायिक पाठशाला कहा जा सकता है इन शब्दों के सही अर्थ दो अलग प्रणालियों में भिन्न हैं प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा के बीच का सटीक सीमा भी अलग अलग देशों में भिन्न है यहाँ तक कि उन के भीतर, भी अन्तर है, लेकिन आमतौर पर स्कूली शिक्षा के सातवे से दसवें वर्ष के आसपास है।माध्यमिक शिक्षा मुख्य रूप से किशोर वर्षों के दौरान होता है। अमरीका और कैनाडा में प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा को एक साथ क-१२ (K-12) सम्भोदित किया जाता है और न्यू ज़अलंद में इसे साल १-१३ कहा जाता है माध्यमिक शिक्षा का उद्देश्य सामान्य ज्ञान (common knowledge), देने के लिए, उच्च शिक्षा (higher education) के लिए या सीधे किसी पेशे (profession) के लिए तैयार करने के लिए प्रशिक्षण है सकता है

उच्च शिक्षा[संपादित करें]

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय उच्च शिक्षा का एक संस्थान है।

उच्च शिक्षा, जिसे तृतीयक, तीसरे चरण, या पोस्ट माध्यमिक शिक्षा भी कहा जाता है, गैर अनिवार्य शिक्षा का स्तर है जो माध्यमिक शिक्षा (secondary education) जैसे हाई स्कूल (high school), माध्यमिक विद्यालय (secondary school), या जिम्नेसियम (gymnasium) की पूर्ति करता है तृतीयक शिक्षा सामान्य रूप से अवर (undergraduate) और स्नातकोत्तर शिक्षा (postgraduate education), साथ ही व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण (vocational education and training) शामिल करते हैं कॉलेज (College)s और विश्वविद्यालयों तृतीयक शिक्षा प्रदान करने के मुख्य संस्थान हैं।सामूहिक, ये कभी कभी तृतीयक संस्थाओं के रूप में जाने जाते हैं आम तौर पर तृतीयक शिक्षा के परिणामवश प्रमाणपत्र (certificate)s, डिप्लोमा (diploma)s, या शैक्षिक डिग्री (academic degree) मिलते हैं

उच्च शिक्षा में, अनुसंधान और विश्वविद्यालयों के सामाजिक सेवा गतिविधियाँ शामिल हैं और शिखा के दायरे में शामिल हैं दोनों पूर्वस्नातक (undergraduate) स्तर (जिसे कभी कभी तृतीयक (tertiary education) शिक्षा कहते हैं) और स्नातक (graduate) (या स्नातकोत्तर) स्तर निर्दिष्ट (जिसे कभी कभी स्नातक पाठशाला (graduate school) कहते हैं) उस देश में उच्च शिक्षा में आम तौर पर एक डिग्री स्तर के या स्थापना डिग्री (foundation degree) योग्यता की दिशा में काम शामिल है ज़्यादातर विकसित देशों में जनसंख्या का एक अधिकतम अनुपात (५०% तक) अपने जीवन के किसी न किसी समय पर उच्च शिक्षा प्राप्त करते हैं इसी कारणवश उच्च शिक्षा राष्ट्रीय अर्थव्यवस्थाओं (economies) के लिये एक महत्वपूर्ण उद्योग और प्रशिक्षित कर्मियों के स्रोत के रूप में अर्थव्यवस्थाओं के लिये आवश्यक है

.प्रौढ़ शिक्षा कई रूप लेती है, औपचारिक कक्षा निर्देशन से लेकर आत्म शिक्षण

वैकल्पिक शिक्षा[संपादित करें]

वैकल्पिक शिक्षा (Alternative education) गैर पारंपरिक शिक्षा भी कहलाता है अथवा शैक्षिक विकल्प एक व्यापक शब्द है जो शिक्षा के पारंपरिक शिक्षा (traditional education) के अतिरिक्त सभी शिक्षा रूपों का उल्लेख करने के लिए उपयोग किया जा सकता है इस में न केवल शिक्षा के वेह रूप शामिल हैं जो विशेष जरूरतों वाले छात्रों के लिए बनाया गया हो (किशोर गर्भावस्था से ले कर बौद्धिक विकलांगता तक) बल्कि शिक्षा के वेह रूप भी शामिल हैं जो आम दर्शकों के लिए बनाए गए हैं और वैकल्पिक शिक्षा के दर्शनशास्त्र और तरीकों का प्रयोग करें

उत्तरार्द्ध प्रकार का विकल्प अक्सर शिक्षा सुधार (education reform) परिणाम है और विभिन्न दर्शनशास्त्रों (philosophies) में जड़े हैं जो सामान्यतः मूलरूप से पारंपरिक अनिवार्य शिक्षा (compulsory education) से भिन्न हैं जब की कुछ लोग मजबूत राजनीतिक, विद्वत्तापूर्ण (scholarly), या दार्शनिक रुझान रखते हैं, दूसरे अध्यापकों और विद्यार्थियों (student) के अधिक अनौपचारिक संघ हैं जो परंपरागत शिक्षा (traditional education) के कुछ पहलुओं से असंतुष्ट हैं वेह विकल्प जिन में चार्टर school (charter school), विकल्पिक पाठशालाएं (alternative school) स्वतंत्र पाठशालाएं (independent school) और घर पर शिक्षण (home-based learning) शामिल हैं, वेह, व्यापक रूप से भिन्न हैं, लेकिन अक्सर चोटी कक्षा, छात्रों और शिक्षकों के बीच निकट संबंधों और सामुदायिक भावना (sense of community) जैसे मूल्यों पर ज़ोर देते हैं

भावुक / मानव शिक्षा[संपादित करें]

क्योंकि अक्रियात्मक शिक्षण अधिक से अधिक के मानदंड और मानक बनता जा रहा है, कम्पनीयां और व्यक्ति सामान्य शिक्षा को कम मान्यता देते हैं ठोस अच्छे शिक्षित व्यक्ति / कार्यकर्ता के रूप में अधिकतम शिक्षित और सफल उद्यमीयों में उच्च संचार कौशल के साथ मानवीयता और "भावनात्मक बुद्धिमत्ता" है

कुछ स्थानों पर, खासकर अमरीका में, वैकल्पिक जैसे शब्द शिक्षण के उस रूप का उल्लेख करते हैं जो "खतरे में" छात्रों के लिए हैं, उदहारण के लिए मैसाचुसेट्स (Massachusetts)शिक्षा विभाग (Department of Education).[3] द्वारा परिभाषित

शीर्षक[संपादित करें]

प्रक्रिया[संपादित करें]

पाठ्यक्रम[संपादित करें]

अकादमिक अनुशासन (academic discipline) jaankaari के एक शाखा है जो विश्वविद्यालय, या कुछ अन्य ऐसी विधि के द्वारा औपचारिक रूप से सिखाई जाए (taught) कार्यात्मक रूप स विषय आम तौर पर शैक्षिक पत्रिकाओं (academic journal) जिन में अनुसंधान (research) प्रकाशित होते हैं और सीखे समाजों (learned societies) जिन के यह पेशावर सदस्य हैं, उन के द्वारा परिभाषित और मन्यित होते हैं प्रोफ़ेसर मानते हैं की स्कूली शिक्षा 80% मनोवैज्ञानिक, 20% शारीरिक प्रयास है।

आमतौर पर प्रत्येक अनुशासन के कई उप विषय या शाखाएं हैं और अक्सर भेद की रेखाएं मनमाने और अस्पष्ट होती हैं शैक्षणिक विषयों का व्यापक क्षेत्रों के उदाहरण में शामिल है प्राकृतिक विज्ञानs, गणित, कंप्यूटर विज्ञान (computer science), सामाजिक विज्ञान (social sciences), मानविकी (humanities) और प्रयुक्त विज्ञान{[4]

शैक्षिक मूल्यांकन[संपादित करें]

अध्ययन रूपत्मक्ताएं[संपादित करें]

पिछले दो दशकों में शिक्षण शैली (learning styles) के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर कार्य हुआ है दुन्न और dunn[5] ने लगभग उसी समय प्रासंगिक स्तिमुली की पह्चान, जो शिक्षण को प्रभावित करती है और पाठशाला के वातावरण से छेड़छाड़ करती है पर ध्यान केंद्रित किया जब जोसफ रेंज़ुल्ली (Joseph Renzulli)[6] ने बदलती शिक्षण रणनीतियों की सिफारिश की हॉवर्ड गार्डनर (Howard Gardner)[7] ने व्यक्तिगत प्रतिभा या योग्यताओं को अपने एकाधिक ज्ञान (Multiple Intelligences) सिद्धांत से बतलाया ज़ंग (Jung) के कामों के आधार पर मायर्स-ब्रिग्स प्रकार सूचक (Myers-Briggs Type Indicator) और Keirsey स्वभाव सॉर्टर (Keirsey Temperament Sorter)[8] ने यह समझने पर अपना ध्यान केंद्रित किया की कैसे लोगों के व्यक्तित्व उनके बातचीत के तरीके को प्रभावित करते हैं और सीखने के माहौल के भीतर यह एक दूसरे को कैसे प्रभावित करते हैं डेविड कोल्ब (David Kolb) और अन्थोनी ग्रेकोर्क (Anthony Gregorc) के प्रकार चित्रकार[9] समान किंतु सरलीकृत दृष्टिकोण को मानते हैं

आजकल शिक्षा को अलग अलग शिक्षण विधियों में विभाजित करना लौकिक है शिक्षण के तौर तरीके[10] शायद सबसे आम हैं[11]

  • kinesthetic (Kinesthetic):स्वयं कर्मी अनुभूतित कार्य और गतिविधियों में लगने पर आधारित शिक्षण
  • चाक्षुक (Visual): अवलोकन पर आधारित शिक्षण और क्या सीखा जा रहा है यह देखना
  • श्राव्निक (Auditory) : शिक्षण जो निर्देश / जानकारी सुनने पर आधारित हो

कहा जाता है की उनके पसंदीदा शिक्षण तौर तरीके पर आधारित, विभिन्न शिक्षण तकनीकों की विभिन्न स्तरों से प्रभावशीलता होती है[12] इस सिद्धांत का एक परिणाम है कि कारगर शिक्षण विभिन्न शैक्षिक विधियां प्रस्तुत करे जो सभी तीन शिक्षण तौर तरीके दर्शाए ताकि विद्यार्थीयों के पास अपने लिए कारगर शिक्षण विधि का चुनाव कर सकें[13]

शिक्षण[संपादित करें]

शिक्षकों के पास विषयों को भली भाँती समझने की क्षमता होनी चाहिए ताकि वेह एक नई पीढ़ी कों उस का सार संप्रेषित कर सकें लक्ष्य है की एक सुदृढ़ ज्ञान का आधार स्थापित किया जाए जिस की आधारशिला पर छात्र अपने जीवन के अलग अलग अनुभवों का निर्माण कर सकें पीढी दर् पीड़ी ज्ञान बांटना छात्रों के विकास में कारगर साबित होता है और उन्हें समाज के उपयोगी सदस्यों में विकसित होने में मदद करता है अच्छे शिक्षक अच्छा निर्णय, अनुभव और ज्ञान कों प्रासंगिक ज्ञान में अनुवादित कर सकते हैं जो छात्र समझ सकें, याद रख सकें और औरों कों बाँट सकें एक पेशे के रूप में, शिक्षण कार्य के बहुत कार्य संबंधित तनाव (WRS) है[14] जो ब्रिटेन जैसे कुछ देशों में किसी भी पेशे, के सर्वोच्च में सूचीबद्ध हैं।इस समस्या कों तेज़ी से मान्यता प्राप्त हो रही है और सहायक प्रणालियों की जगह बनायी जा रही है[15]

तकनीक[संपादित करें]

तकनीक शिक्षा के क्षेत्र में तेजी से बढ़ता प्रभावशाली कारक है।कम्प्यूटर और मोबाइल फोन व्यापक रूप से विकसित देशों में स्थापित शिक्षा प्रथाओं को पूरक करने और शिक्षण के नए तरीके विकसित करने जैसे ऑनलाइन शिक्षा (online education) (दूरस्थ शिक्षा का एक प्रकार).यह क्षात्रों को अपनी पसंद के अध्ययन के चुनाव का अवसर देता है कंप्यूटर के प्रचुरोद्भवन का अर्थ प्रोग्रामिंग और ब्लॉगिंग की वृद्धि भी है मल्टीमीडिया (Multimedia) सहित, तकनीक शक्तिशाली उपकरण प्रदान करती है, जिस की मांग है की छात्रों कों samjha जाए और यह छात्रों का ध्यान खींचने के नए साधन प्रदान करती है जैसे आभासी शिक्षण वातावरण (Virtual learning environments). तकनीक का प्रयोग न केवल प्रशासनिक कर्तव्यों में, बल्कि छात्रों की शिक्षा में भी तेज़ी से बढ़ रहा है PowerPoint (PowerPoint) और interactive whiteboard (interactive whiteboard) कक्षा में छात्रों का ध्यान खींच रहा है प्रौद्योगिकी छात्रों के मूल्यांकन में भी प्रयोग किया जा रहा है।एक उदाहरण की है दर्शकों की प्रतिक्रिया प्रणाली (Audience Response System) (Ars) है, जो तत्काल प्रतिक्रिया परीक्षणों और कक्षा चर्चा को सक्षम बनाता है

सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (ICTs) संवाद करने के उपकरणों और संसाधनों का एक "विविध सेट है, जो स्टोर, प्रसार और जानकारी को प्रबंधित बनाने में उपयोग किया जाता है।"[16] इन प्रौद्योगिकियों में कंप्यूटर, इंटरनेट, प्रसारण प्रौद्योगिकियों (रेडियो और टेलीविजन) और टेलीफोन शामिल हैं।कंप्यूटर और इंटरनेट शिक्षा में कैसे औपचारिक और अनौपचारिक आरोपण में सभी स्तरों पर सुधार कर सकते हैं, इस विषय में रूचि बढ़ रही है[17] पुराने सूचना और संचार प्रौद्योगिकीयां जैसे रेडियो और टेलीविजन कों दूरस्थ शिक्षा के लिए चालीस वर्षों से अधिक इस्तेमाल किया गया है हालांकि प्रिंट सबसे सस्ता, सबसे अधिक सुलभ है और इसलिए दोनों विकसित दोनों और विकासशील देशों में सबसे प्रभावी वितरण प्रणाली है[18]

विकासशील देशों में कंप्यूटर का उपयोग अधिक लागत और सीमित अवसंरचना का कारणवश अगर है भी तो अभी बुनियादी स्तर पर ही है आमतौर पर, विभिन्न प्रौद्योगिकियोँ एकमात्र वितरण प्रणाली की उपेक्षा संयोजन में उपयोग के जाती हैं उदाहरण के लिए, Kothmale सामुदायिक रेडियो इंटरनेट श्रीलंका में एक ग्रामीण समुदाय को सूचनाएं साझा करने और शिक्षा के अवसर प्रदान करने के लिए रेडियो प्रसारण और कंप्यूटर और इंटरनेट प्रौद्योगिकी दोनों का उपयोग करता है।[19] यूनाइटेड किंगडम (इंग्लैंड) का मुक्त विश्वविद्यालय (UKOU) १९६९ में दुनिया में पहली मुक्त और दूरस्थ अध्ययन के लिए समर्पित स्थापित शिक्षा संस्था अभी भी रेडियो, टेलीविजन द्वारा पूरक भारी मुद्रण सामग्री पर निर्भर है और हाल फिलहाल वर्षों में ऑनलाइन प्रोग्रम्मिंग पर[20] इसी तरह, भारत में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, मुद्रण, अभिलिखित ऑडियो और वीडियो, रेडियो और टेलीविजन प्रसारण और ऑडियो कॉन्फ्रेंसिंग प्रौद्योगिकियों[21] के मेल का उपयोग करता है

"computer-assisted learning" (CAL) (कंप्यूटर सहायताप्राप्त शिक्षण) शिक्षण में प्रौद्योगिकी के उपयोग का वर्णन करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

इटली

के बोलोना विश्वविद्यालय (University of Bologna), का एक चित्रण

डीटर लेंजें  (Dieter Lenzen),  बर्लिन के मुक्त विश्वविद्यालय  (Freie Universität Berlin) के अध्यक्ष के अनुसार शिक्षा का इतिहास या तो लाखों साल पहले यान फिर १७७० के अंत में आरम्भ में शुरू हुआ शिक्षा विज्ञानं शैक्षिक परंपराओं से अलग नहीं किया जा सकता है जो पहले से ही विद्यमान था शिक्षा पौराणिक सभ्यताओं के अवशेष और सफलता  संघर्ष की स्वाभाविक प्रतिक्रिया थी वयस्कों ने अपने समाज के बच्चों को ज्ञान और कौशल में प्रशिक्षित किया जिन में उन्हें निपुणता हासिल करनी थी और अंततः आगे फेलाना था संस्कृति का विकास और प्रजाति के रूप में मानवता संचारण के इस अभ्यास पर निर्भर था साक्षर समाजों से पूर्व मौखिक रूप से और नकल के माध्यम से हासिल किया गया था कहानी कथन एक पीढ़ी से दूसरी तक जारी rahaaमौखिक भाषा प्रश्न के लिखित प्रतीकों और पत्रों में विकसित हुआ।ज्ञान की गहराई और विस्तार जो संरक्षित और आगे फैलाया जा सके, उस की जल्द ही अधिक वृद्धि हुई जब संचारण, व्यापार, भोजन की व्यवस्था, धार्मिक प्रथाओं आदि जैसे बुनियादी कौशल से परे, संस्कृतियाँ अपने ज्ञान का विस्तार करने लगे औपचारिक शिक्षा जनसमूह और स्कूली शिक्षा, अंततः फलने लगे इस सन्दर्भ में मिस्र में विद्यालय शिक्षा पहले से ही मौजूद थी ३००० और ५०० ईसा पूर्व सालों में 

दर्शनशास्त्र[संपादित करें]

जॉन लोके (John Locke) का कार्य शिक्षा सम्बंधित कुछ विचार (Some Thoughts Concerning Education) १६९३ में लिखा गया था और अभी भी पश्चिमी दुनिया में पारंपरिक शिक्षा प्राथमिकताओं का खुलासा करता है

शिक्षा का दर्शनशास्त्र (philosophy of education) शिक्षा के उद्देश्य, प्रकृति और आदर्श के अध्ययन सामग्री (content) हैं संबंधित विषयों में शामिल हैं स्वयं ज्ञान (knowledge itself), बुद्धि की प्रकृति को जानना (the nature of the knowing mind) और मनुष्य विषय, प्राधिकारी की समस्याएँ और शिक्षा और समाज के बीच का रिश्ता.कम से कम Locke (Locke's) के समय से शिक्षण के दर्शनशास्त्र को विकासात्मक मनोविज्ञान (developmental psychology) और मानव विकास (human development). के सिद्धांतों से जोड़ा गया है

शिक्षा के लिए प्रस्तावित मौलिक उद्देश्यों में शामिल हैं:

शिक्षा के एक केंद्रीय जड़सूत्र में आमतौर पर शामिल है "ज्ञान का प्रदान होना "बुनियादी स्तर पर, यह उद्देश्य अंततः ज्ञान की प्रकृति, मूल और विस्तार से सम्बन्ध रखता है दर्शनशास्त्र की वेह शाखा जो इन और इन से सम्बंधित मुद्दों का व्याख्यान करती है उसे epistemology (epistemology) कहेते है अध्ययन का यह क्षेत्र अक्सर प्रकृति और ज्ञान के विभिन्न प्रकार के विश्लेषण पर जोर देता है और यह कैसे इसी तरह के विचारों जैसे सच्चाई (truth) और विश्वास (belief) से सम्बंधित है

जबकि शब्द gyan अधिकतम शिक्षा के इस सामान्य प्रयोजन को संप्रेषित करने के लिए प्रयोग किया जाता है, इसे सातत्यक चेतना के भाग के रूप में देखा जा सकता है विषिष्ट आंकडे (data) से उच्चतम स्तर तक के लिए.इस रौशनी में देखने पर, सांतत्यक में अतिव्यापी स्तरों के एक सामान्य पदानुक्रम का होना सोचा जा सकता है जानकारी को बेहतर समझने और याद रखने के लिए छात्रों में नई जानकारी को पुरानी जानकारी के टुकडों से जोड़ने की क्षमता होनी चाहिए इस सांतत्यक में शामिल हो सकते हैं आंकड़े (data), जानकारी (information), ज्ञान, बुद्धि (wisdom) और अनुभूति (realization).

आदर्श या समग्र शिक्षा [सीएफ़: संकल्पनात्मक तनाव-समझ और प्रबंधन: डॉ॰ श्रीनिवास कशालिकर] है सोचा समझा विकासवादी बदलाव जो एक और सभी के समग्र स्वास्थ्य का एक साथ कल्याण पर लक्षित हो .इस के लिए आवश्यकता है अपने शरीर के स्वस्थता का विकास, प्रवृत्ति के शोधन, भावनाओं का स्पष्टीकरण और गहन, मति की समृद्धी और सार्वभौमिक एकता का परिप्रेक्ष्य संज्ञानात्मक, भावात्मक और मनोसंचालित के अतिरिक्त, उत्तेजना की पूर्ति भी आवश्यक है

मनोविज्ञान[संपादित करें]

अमरीका के एक कक्षा प्रयोग से यह सामने आया की कम आय वाले परिवारों से छात्र यदि ३ या उस से अधिक सालों के लिए चोटी कक्षा में उपस्थित रहे, तो उन की उच् विद्यालय से क्रमागति की संभावना बढ़ जाती है[22]

शैक्षिक मनोविज्ञान (Educational psychology) अध्ययन है की कैसे मानव शैक्षिक वातावरण में सीखता है, शैक्षिक हस्तक्षेपों की प्रभावशीलता, शिक्षण के मनोविज्ञान और विद्यालयs के रूप में संगठन का सामाजिक मनोविज्ञान (social psychology)हालांकि शब्द "शैक्षिक मनोविज्ञान" और "स्कूल मनोविज्ञान" का प्रयोग अक्सर आपस में बदल दिया जाता है, संभावना है की शोधकर्ता और कल्पनात्मक शैक्षिक मनोवैज्ञानिकों के रूप में पहचाने जाएँ, जबकि पाठशाला या पाठशाला सम्बंधित वातावरण में कर्मी स्कूल मनोविज्ञानी (school psychologist) के नाम से जाने जाते हैं शैक्षिक मनोविज्ञान सामान्य एवं उप जनसंख्या में शिक्षा प्राप्ति की प्रक्रियाओं जैसे गुनी (gifted) और बच्चे जिन में विशेष विकलांगताएं (disabilities). हो से सम्बंधित है

शैक्षिक मनोविज्ञान आंशिक रूप से अन्य विषयों के साथ अपने संबंधों के सन्दर्भ से समझा जा सकता haiयह मुख्या रूप से दवाई और जीव विज्ञान. से अनुरूपी सम्बंधित मनोविज्ञान से सूचित किया जाता है शैक्षिक मनोविज्ञान आगे शैक्षिक अध्ययन में अनुदेशात्मक डिजाइन (instructional design), शैक्षिक प्रौद्योगिकी (educational technology), पाठ्यक्रम विकास, संगठनात्मक सीखने (organizational learning), विशेष शिक्षा (special education) और कक्षा प्रबंधन (classroom management). सहित विशिष्टताओं की एक विस्तृत श्रृंखला को सूचित करता है शैक्षिक मनोविज्ञान संज्ञानात्मक विज्ञान (cognitive science) और विज्ञान शिक्षण (learning sciences). से सीखता भी है और उन में योगदान भी देता है विश्वविद्यालयों में शैक्षिक मनोविज्ञान के विभाग आम तौर पर शिक्षा के संकायों के भीतर, संभवतः परिचयात्मक मनोविज्ञान पाठ्यपुस्तकों में शैक्षिक मनोविज्ञान सामग्री (लुकास, Blazek, & Raley, 2006) के प्रतिनिधित्व के अभाव के लिए लेखांकन करते हैं।

शिक्षा का आर्थिक प्रभाव[संपादित करें]

ह्द्फ्लिउह्॑एब फ्युएर्ल्फ्हेरिउप बो;इफु[ए'र फेरोउ; है की शिक्षा के उच् स्तर, आर्थिक विकास के उच्च स्तर की प्राप्ति के लिए अनिवार्य है[23] सिद्धांत में यह माना जाता है की गरीब देश अमीर देशों की तुलना में अधिक तेज़ी से बढ़ते है क्योंकि वेह आमिर देशों द्वारा पहले से ही परखी हुई अग्रणी तकनीक को आसानी से अपना सकते हैं किंतु अर्थशास्त्रियों का यह कहना है की अगर विश्व के सबसे आमिर और गरीब देशों में शिक्षा के स्तर में बहुत अन्तर हो, तो तकनीक जो अर्थव्यवस्था की बढ़त को तीव्र करती है, के आदान प्रदान में बहुत मुश्किलें आएँगी और इसी कारणवश दुनिया के सब से गरीब अर्थव्यवस्थाएं स्थिर ही रह जायेंगी

शिक्षा का समाजशास्त्र[संपादित करें]

रूस में यूरोप के किसी भी अन्य देश से अधिक शैक्षिक स्नातक है।

शिक्षा का समाजशास्त्र (sociology of education) वेह अध्ययन है जो बताये की कैसे सामाजिक संस्थायें सेना शैक्षिक प्रक्रियाओं और परिणामों को प्रभावित करती है और शैक्षिक प्रतिक्रियाएं सामाजित संस्थाओं और सेना को प्रबावित करते हैं बहुत लोग शिक्षा को वेह माध्यम मानते हैं जिस के द्वारा अक्षमता पर काबू पाया जा सके और सभी के लिए अधिक समानता, धन और दर्जा पाया जा सके शिक्षार्थियों को प्रगति और बेहतरी की आकांक्षाओं से प्रेरित किया जा सकता है।शिक्षा उस जगह को माना जाता है जहाँ बच्चे अपनी योग्यता और संभाव्य के अनुसार विकसित हो सकें[24] शिक्षा का उद्देश्य अपनी पूरी क्षमता के लिए हर व्यक्ति को विकसित करने के लिए किया जा सकता है।इस्तमाल किए गए समाजशास्त्रीय प्रतिमान (sociological paradigm) के अनुसार शैक्षिक समाजीकरण (socialization) प्रक्रियाओं के लक्ष्य और मतलब की समझ

विकासशील देशों में शिक्षा[संपादित करें]

विश्व का शिक्षा सूचकांक संकेत नक्शा (२००७ / २००८ के अनुसार मानव विकास रिपोर्ट (Human Development Report))

कुछ विकासशील देशों में, समस्याओं की संख्या और गंभीरता स्वाभाविक रूप से अधिक हैं।अधिक सुदूर या कृषि क्षेत्रों में लोग कभी कभी शिक्षा के महत्व से अनजान रह जाते हैंकई देशों में एक सक्रिय शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) और विदेशी भाषा सीखने जैसे कई विषयों, में, शिक्षा की डिग्री वास्तव में औद्योगीकृत देशों से तुलनात्मक अधिक उच् है; उदाहरण के लिए, बहुत से विकासशील देशों में छात्रों के लिए यह असामान्य नहीं है कि वेह यथोचित कई विदेशी भाषाओं में निपुण हो, जबकि विकसित देशों में यह एक दुर्लभ वस्तु है जहाँ अधिकतं जनसँख्या एक ही भाषा का उचारण करने में सक्षम हैं

वेह माता पिता जो शिक्षा के किसी भी दीर्घकालिक लाभ कि उपेक्षा अल्पावधि में बच्चों से पैसा बनाने कि उम्मीद करते है, उन के कारणवश आर्थिक दबाव होता है बाल श्रम और गरीबी पर फिल्हाली अध्ययन यह दर्शाते है की जब गरीब परिवार बुनियादी जरूरतों की पूर्ति की एक निश्चित सीमा पहुँच जाए तो माता पिता अपने बच्चों को पाठशाला में दाखिल कर देते हैं एक बार दहलीज पार कर दी गई तो यह पाया गया है कि यह एक सच्चाई है, बावजूद इसके कि इस बीच इसी बाल श्रम के संभावित आर्थिक मूल्य में वृद्धि हुई है अन्य समान व्यवसायों (profession) के अपक्षा शिक्षकों को कम भुगतान मिलता है

अपेक्षाकृत उच्च जनसंख्या घनत्व वाले देशों में अच्छे विश्वविद्यालयों की कमी और अच्छे विश्वविद्यालयों में स्वीकृति दर की कमी स्पष्ट है।कुछ देशों में सामान्य, अत्यधिक संचारित, अटल केंद्रीकृत कार्यक्रम है जो शिक्षण के सभी पहलुओं को नियंत्रित करते हैं

  • वैश्वीकरण (globalization) के कारण पाठयक्रम गतिविधियों में छात्रों पर दबाव बढ़ा
  • शिक्षा के आशुरचना के लिए छात्रों के एक निश्चित प्रतिशत को (आमतौर पर स्कूलों में, 10 वीं कक्षा के बाद) हटाना

भारत ऐसी प्रौद्योगिकियों को विकसित कर रहा है जिस में टेलीफोन और इन्टरनेट लीनों की आवश्यकता नही रहेगी इसके बजाय, भारत ने एडुसैट (EDUSAT) नामक, एक शिक्षा उपग्रह का शुभारंभ किया जिस की पहुँच बहुत कम कीमत पर देश के अधिकतं भाग में होगी MIT के एक समूह ने कई प्रमुख निगमों की मदद द्वारा १०० डॉलर का लैपटॉप ($100 laptop) विकसित करने का बेडा उठाया है यह लैपटॉप २००६ के अंत या २००७ तक उपलब्ध हो जाने चाहिए कीमत पर बेचे जाने वाले लैपटॉप विकासशील देशों में बच्चों को एक डिजिटल शिक्षा का अवसर प्रदान करेगा और दुनिया में डिजीटल विभाजन को रोक देगा

अफ्रीका में NEPAD (NEPAD) ने e-school कार्यक्रम (e-school programme) की संरचना करी जिस के तहेत सभी ६००,००० प्राथमिक और उच्च विद्यालयों को अगले १० सालों में कंप्यूटर उपकरण, शिक्षण सामग्री और इन्टरनेट उपयोग प्रदान होगा The Church of Jesus Christ of Latter-day Saints (The Church of Jesus Christ of Latter-day Saints), जैसे निजी समूह सतत शिक्षा कोष (Perpetual Education Fund) जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से प्रगतिशील देशों में अधिक व्यक्तियों की शिक्षा प्राप्ति की ओर काम कर रहे हैं अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के समर्थन के साथ शुरू nabuur.com नामक अंतर्राष्ट्रीय विकास एजेंसी इंटरनेट का उपयोग परियोजना सामाजिक विकास के मुद्दों पर व्यक्तियों द्वारा सहयोग में मद्दद करता है

अंतरराष्ट्रीयकरण[संपादित करें]

शिक्षा सही मायने में अंतरराष्ट्रीय बनता जा रहा है।न केवल सामग्री अंतरराष्ट्रीय माहौल से प्रभावित हो रही हैं, लेकिन सभी स्तरों पर छात्रों में आदान प्रदान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है उदाहरण के लिए यूरोप का सुकरात-इरास्मस कार्यक्रम यूरोपीय विश्वविद्यालयों में आदान प्रदान को बढ़ावा देता है सोरोस संस्थान मध्य एशिया और पूर्वी यूरोप के कई छात्रों को अनेक अवसर प्रदान करता है।बिना परवाह किए के एक प्रणाली दूसरी से बेहतर है यां नहीं, कुछ विद्वान यह बहस करते हैं की शिक्षा के एक अलग अनुभव को अंतरराष्ट्रीय शिक्षण का सबसे मेहेत्वपूर्ण सुशोभना तत्त्व माना जा सकता है[25]

इसे भी देखें[संपादित करें]


संदर्भ[संपादित करें]

  1. शिक्षण - मरिअम वेबस्टर ऑनलाइन शब्दकोष से परिभाषा
  2. यूनेस्को, शिक्षा सभी को लिए - मॉनीटरिंग रिपोर्ट २००८, प्राथमिक शिक्षा का नेट नामांकन दर
  3. मैसाचुसेट्स के शिक्षा विभाग की वैकल्पिक शिक्षा की परिभाषा
  4. विषयों का उदाहरण ...
  5. दुन्न और दुन्न
  6. रेंज़ुल्ली का जीवनी लेखक
  7. थॉमस आर्मस्ट्रांग की वेबसाइट एकाधिक समझों का विस्तृतीकरण
  8. किर्सेय वेब साइट
  9. चित्रकार प्रकार विवरण
  10. स्वस्सिंग, र. ह., बर्बे, व. बी., & मिलोने, म. न. (१९७९). स्वस्सिंग - बर्बे रूपात्मकता सूचकांक: ज़नेर - ब्लोसेर सूचकांक कित .कोलंबस, ओ ह : ज़नेर - ब्लोसेर .
  11. सीखने की विविध विधियान
  12. Barbe, W. B., & Swassing, R. H., with M. N. Milone.(१९७९). साधन ताकत के माध्यम से अध्यापन: अव्धार्नाएं और प्रथाएं .कोलंबस, ओ ह : ज़नेर - ब्लोसेर .
  13. लीर्निंग कर्वे वेबसाइट से रूपात्मकता अंकन सीखना
  14. शिक्षण में कार्य सम्बंधित तनाव
  15. इंग्लैंड एंड वेल्स के लिए अध्यापक सहायता
  16. शिक्षा में ICT (सूचना और संचार प्रौद्योगिकी)
  17. यूनाइटेड किंगडम (इंग्लैंड) का खुला विश्वविद्यालय आधिकारिक वेबसाइट
  18. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय आधिकारिक वेबसाइट
  19. फिन्, जे . डी ., गेर्बेर, स . बी ., बोय्द - ज़हारिअस, जे २००५ ).प्रारम्भिक वर्षों में चोटी कक्षाएं, शैक्षणिक उपलब्धियां और उच् विद्यालय से क्रमागति शैक्षिक मनोविज्ञान पत्रिका, ९७ , २१४ - २३३ .
  20. हनुशेक, आर्थिक परिणाम और पाठशाला गुणवत्ता
  21. स्चोफिएल्ड, क . (१९९९ )."शिक्षा के प्रयोजन ", क्वींसलैंड राज्य शिक्षा: 2010, [ऑनलाइन] URL: www.aspa.asn.au / दस्तावेज / eqfinalc.PDF [अक्तूबर २८, २००२ को प्रवेश]
  22. Dubois, H.F.W., Padovano, G., & Stew, G. (2006) अंतरराष्ट्रीय नर्स प्रशिक्षण में सुधार: एक अमेरिकी-इतालवी मामले का अध्ययन. अंतरराष्ट्रीय नर्सिंग की समीक्षा, 53(2): 110-116.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]