ठाणे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ठाणे
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
जनसंख्या
घनत्व
1,818,872 (2011 के अनुसार )
क्षेत्रफल 147 km² (57 sq mi)
आधिकारिक जालस्थल: [http://thanecity.gov.in thanecity.gov.in]

Erioll world.svgनिर्देशांक: 19°10′21″N 72°57′25″E / 19.172431, 72.957019 ठाणे एक महाराष्ट्र प्रांत में स्थित शहर है। ठाणे मुंबई के उत्तरीय छोर पर तथा भूतपूर्व थाना, दक्षिण-पश्चिम भारत के महाराष्ट्र राज्य के उल्हास नदी के मुहाने पर, मुंबई के पूर्वोत्तर में स्थित है। । यह ठाणे जिले का मुख्यालय भी है। यह पहले मुंबई का एक आवासीय उपनगर था। इसपर पुर्तग़ालियों, मराठों और अंग्रेज़ों का अधिकार रह चुका है। 16 अप्रैल 1853 में मुंबई और ठाणे के बीच भारत की पहली रेल पटरी शुरू हुई। समुद्र तल से सात मीटर की ऊंचाई पर बसा ठाणे, चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। इस शहर को श्री सथांनक के नाम से भी जाना जाता है। यह अब रसायन, इंजीनियरिंग उत्पाद एवं वस्त्र का विशाल औद्योगिक केंद्र बन गया है। यहाँ पर अनेक ऐतिहासिक भवन हैं, जिनमें एक क़िला और कई चर्च शामिल है।

इतिहास[संपादित करें]

भारतीय इतिहास के पन्नों पर ठाणे का महत्‍वपूर्ण स्‍थान है। ठाणे की उत्‍पत्ति और खोजकर्ता के बारे में कुछ खास पता नहीं चला। 135 ई. से 159 ई. के दौरान ग्रीक के जियोग्राफर पोटेलेमी द्वारा लिखे गए पत्रों में इस जगह को चेरसोनिसस कहा गया था। कुछ अन्‍य दस्‍तावेजों के अनुसार, 1321 ई. से 1324 ई. तक ठाणे को मुस्लिम साम्राज्‍य के अधीन बताया गया। इसके बाद पुर्तगालियों ने ठाणे में बसेरा बसाया। मराठों ने पुर्तगालियों को भगाकर खुद को वहां का शासक बना लिया लेकिन ब्रिटिश शासकों ने ठाणे पर कब्‍जा करके इसकी रूपरेखा ही बदल दी। 1863 में ठाणे को पहला नगर परिषद मिला।[1]

भौगोलिक स्थिति[संपादित करें]

उपवन झील

यह आंशिक रूप से साल्सेट द्वीप पर, मुंबई के उत्तर पूर्व में स्थित है और आंशिक रूप से ठाणे खाड़ी में मुख्य भूमि पर लगभग 147 वर्ग किलोमीटर के एक क्षेत्र में फैले शहर समुद्र तल से 7 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह शहर येऊर और पारसिक पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यह क्षेत्र राजनीतिक रूप से उल्हास नदी से अरब सागर के बीच दो भागों मे विभाजित है । दो सड़क पुल और एक रेल पुल शहर के दो भागों को जोड़ने का काम करती है । ठाणे शहर द्वीप के उत्तर-पूर्व कोने पर ठाणे खाड़ी पर स्थित है. राजनीतिक रूप से द्वीप का अधिकांश भाग मुंबई नगरपालिका में आता है. यह नगरपालिका दो भिन्न जिलों, मुंबई शहर और मुंबई उपनगरों में विभाजित है। द्वीप का उत्तरी भाग ठाणे जिले में आता है, जो वसई और ठाणे खाड़ियों पर से होता हुआ मुख्य इलाके तक फैला है। यह भारत के सबसे पुराने शहरों में से एक है ।

ठाणे झीलों के शहर के रूप में भी जाना जाता है। इस शहर में 35 के आसपास झीलें हैं ।[2] उनमें से सबसे सुंदर तलाव पाली और मसूण्डा तलाव के रूप में जाना जाता है।[3] इन झीलों में नौकायन और पानी स्कूटर की सुविधा प्रदान की गयी है। गडकरी रंगायतन के पास स्थित झील, ठाणे में मनोरंजन के लिए एक बहुत लोकप्रिय केंद्र है जो एक नाटक थिएटर के पास है । ऐसी कहावत है कि मसूण्डा तलाव के तट पर स्थित कोपिनेश्वर मंदिर पूरे ठाणे जिले में पाया जानेवाला सबसे पुराना मंदिर है । यह 1750 ई. में चिमाजी अप्पा द्वारा निर्मित है । [3]उपवन झील येऊर पहाड़ियों पर स्थित एक सुंदर जगह है । ठाणे का हर हर गंगे झरना भारत का सबसे बड़ा और कृत्रिम झरना है। यहां आने वाले श्रद्धालु वर्ग के लिए अम्‍बरनाथ मंदिर दर्शनीय है जो हेंमदवाथी शैली में बना हुआ है।यहां का संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान भी आकर्षक साइट है जो वन्‍य जीव प्रेमियों और प्रकृति पसंद लोगों को खासा पंसद आता है। काशी मीरा यहां का मनोरम गंतव्‍य स्‍थल है।

यहाँ की अन्य झीलों में शामिल है :

  • मसूण्डा झील तलाव पाली.
  • कचराली झील, पचपकड़ी
  • मखमली झील
  • अम्बे घोंसाली झील
  • सिद्धेश्वर झील
  • जेल झील
  • जोशी झील
  • वागले झील
  • उपवन झील
  • यशस्वी नगर झील
  • कौसा झील
  • खरेगांव झील
  • रैला देवी झील
  • रेवाले झील
  • ब्रामहला-कोलवाड़ झील
  • हरियाली-चेंदानी कोलीवाड़ा झील

मौसम[संपादित करें]

यहाँ की जलवायु उष्णकटिबंधीय मानसून है, जो उष्णकटिबंधीय गीला और शुष्क जलवायु के बीच स्थित है । यहाँ हमेशा उच्च वर्षा की स्थिति बनी रहती है जबकि अत्यधिक तापमान की स्थिति बहुत ही कम होती है । सामान्य स्थिति में यहाँ का तापमान 22 से डिग्री सेल्सियस से 36 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है, सर्दियों में तापमान 12 डिग्री सेल्सियस से 20 डिग्री सेल्सियस के बीच, जबकि गर्मियों में तापमान 36 डिग्री सेल्सियस से 41 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है । कुल वर्षा में से, 80% वर्षा अक्टूबर.-जून. के दौरान होता है। यहाँ की औसत वार्षिक वर्षा 2000-2500 मिमी है और नमी 61-86% है । यहाँ सर्वाधिक नमी जुलाई के महीने में और सर्वाधिक शुष्कता सर्दियों में देखी जा सकती है ।


ठाणे के लिए मौसम जानकारी
महीना जनवरी फ़रवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितम्बर अक्तूबर नवम्बर दिसम्बर वर्ष
औसत अधिकतम °C (°F) 30.6
(87.1)
31.3
(88.3)
32.7
(90.9)
33.1
(91.6)
33.3
(91.9)
31.9
(89.4)
29.8
(85.6)
29.3
(84.7)
30.1
(86.2)
32.9
(91.2)
33.4
(92.1)
32.0
(89.6)
31.7
(89.1)
औसत न्यूनतम °C (°F) 16.4
(61.5)
17.3
(63.1)
20.6
(69.1)
23.7
(74.7)
26.1
(79)
25.8
(78.4)
24.8
(76.6)
24.5
(76.1)
24.0
(75.2)
23.1
(73.6)
20.5
(68.9)
18.2
(64.8)
22.1
(71.8)
बर्फ़/वर्षा mm (इंच) 3.1
(0.122)
1.0
(0.039)
1.5
(0.059)
2.3
(0.091)
25.1
(0.988)
541.3
(21.311)
922.0
(36.299)
539.7
(21.248)
326.9
(12.87)
93.2
(3.669)
19.1
(0.752)
2.3
(0.091)
2,477.5
(97.539)
स्रोत: Government of Maharashtra

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

2011 की जनगणना के अनुसार [4]ठाणे की आबादी 2,486,941 है। ठाणे शहर की औसत साक्षरता दर पुरुष और महिला साक्षरता 94.19 है, जिसमें से 91.36 प्रतिशत और 88.14 प्रतिशत है। ठाणे शहर का लिंग अनुपात 1000 पुरुषों पर 882 महिलाएं है। लड़कियों के बाल लिंग अनुपात 2011 की जनगणना भारत रिपोर्ट से प्रति व्यक्ति के रूप में 186259 हैं । बच्चों के लिंगानुपात की दृष्टि से ठाणे शहर में 1000 लड़कों पर 900 लड़कियां है. इसप्रकार 88,242 लड़कियां हैं, जबकि 98,017 लड़कों । ठाणे शहर की कुल आबादी के 10.24% बच्चे हैं । [5]

संस्कृति[संपादित करें]

पड़ोसी शहर मुंबई की तरह, यह शहर भी एक महानगरीय संस्कृति से जुड़ा हुआ है,हालांकि ठाणे, मुख्य रूप से मराठी संस्कृति का हिस्सा है। मुंबई के पास के शहर होने के कारण और विशाल आवासीय उफान की वजह से, देश-विदेश के विभिन्न राज्यों के शहरों से आप्रवासियों की एक बड़ी संख्या यहाँ देखी जा सकती है। शहर का चेहरा आजकल तेजी से महानगरीय होता जा रहा है। मराठी के अलावा, पाकिस्तान सहित विभिन्न क्षेत्रों से उत्तर भारतीय, दक्षिण भारतीय, सिंधी, गुजराती और मारवाड़ी और अन्य लोगों की काफ़ी बड़ी आबादी मुख्य रूप से यहाँ है क्योंकि मुंबई के लिए अपनी निकटता के कारण लोग ठाणे में अपना प्रवास बना रखें हैं। ठाणे एक तरफ येऊर पहाड़ियों से घिरा है और मुंबई की तुलना में कूलर मौसम के कारण कई खूबसूरत झीलों से सजा हुआ है ।यहाँ गणेश चतुर्थी, दीवाली, गुड़ी पड़वा, होली, दुर्गा पूजा, महाशिवरात्रि और शिवाजी जयंती के रूप में समारोह महान उत्साह के साथ मनाया जाता है। ठाणे में गोकुलाष्टमी त्योहार के दौरान दही हांडी खेल के विजेताओं के लिए 1 लाख रुपए (25,000 अमेरिकी डॉलर) की राशि उच्च पुरस्कार प्रदान किया जाता है।

मनोरंजन[संपादित करें]

मनोरंजन की दृष्टि से ठाणे शहर में कुछ मल्टीप्लेक्स के साथ-साथ दो ​​सिनेमाघरों, अर्थात्, गडकरी रंगायतन और हीरानंदानी मीडोज के पास स्थित एक नए डा. काशीनाथ घाणेकर सभागार शामिल हैं। दोनों का स्वामित्व और प्रबंधन ठाणे नगर निगम के अंतर्गत हैं। इसके अलावा ठाणे में मल्टीप्लेक्स / फिल्म थिएटर निम्नलिखित है:

  • आइनॉक्स मल्टीप्लेक्स, कोरम मॉल
  • सिनेमा स्टार मल्टीप्लेक्स, हाई स्ट्रीट मॉल
  • सिनेमैक्स मल्टीप्लेक्स, अनंत काल मॉल
  • सिनेमैक्स मल्टीप्लेक्स, वंडर मॉल
  • गोल्ड डिजिटल, प्रभात मॉल
  • वंदना टॉकीज
  • मल्हार टॉकीज
  • आनंद टॉकीज (ठाणे पूर्व)
  • गणेश टाकीज आदि ।

उपरोक्त के अलावा ठाणे के पास मुलुंड में मल्टीप्लेक्स के एक जोड़े हैं। उद्यान टीएमसी और वन विभाग की एक संयुक्त पहल पर वर्ष-2011 में यहाँ एक वनस्पति उद्यान का उदघाटन किया गया ।[6] यह बारा बंगला क्षेत्र के निकट कोपरी में स्थित है और शिवसेना नेता दत्ता जी साल्वी के नाम पर है । यह बच्चों के मनोरंजन की दृष्टि से बेहद उपायुक्त जगह है । इसके अलावा ओवाला, येऊर में हंस क्लब और संयुक्त-21 पर ब्लू रूफ क्लब जैसे तैराकी, व्यायामशाला, खेल और रेस्तरां सुविधाओं से युक्त तीन संपूर्ण क्लब हैं। संयुक्त 21 भी ठाणे में पहला है जो एक डिस्कोथेक है, जहां भोजन और रहने की सुविधा के लिए, चार सितारा होटल, मसाले और सॉस भोजनालय, ओरिएंटल स्पाइस, ब्लू लौ, डिस्कोथेक है। यहाँ कई झीलों में शाम के समय में भीड़ बहुत होती है और लोग प्रकृति का आनंद लेते हैं ।

विद्यालयों की सूची[संपादित करें]

  • न्यू इंग्लिश स्कूल
  • अल्फा अकादमी
  • भारतरत्न श्रीमती इंदिरा गांधी विद्यामंदिर
  • आर जे ठाकुर स्कूल और कॉलेज
  • सरस्वती शिक्षा समिति की हाई स्कूल और जूनियर कॉलेज
  • श्रीमती सुलोचनादेवी सिंघानिया स्कूल
  • बिलाबोंग हाई इंटरनैशनल स्कूल
  • हीरानंदानी फाउंडेशन स्कूल
  • वसंत विहार स्कूल
  • सेंट जॉन बैपटिस्ट हाई स्कूल और जूनियर कॉलेज
  • होली क्रॉस कॉन्वेंट हाई स्कूल
  • लोढ़ा वर्ल्ड स्कूल
  • लोकपुरम पब्लिक स्कूल
  • न्यू गर्ल्स स्कूल
  • एस वी पी टी सरस्वती विद्यालय हाई स्कूल और जूनियर कॉलेज
  • पी ई एस टी के नूबनेस उच्च विद्यालय
  • लिटिल फ्लावर हाई स्कूल
  • लिटिल एंजल्स इंग्लिश मीडियम हाई स्कूल
  • कश्मीर जोशी इंग्लिश मीडियम हाई स्कूल
  • बेडेकर विद्यालय
  • बी एस एम के अंग्रेजी मीडियम स्कूल
  • ठाणे पुलिस स्कूल, आदि ।

इतिहास के पन्नों मे ठाणे[संपादित करें]

1855 में बंबई से थाने जाती एक यात्री गाड़ी। चित्र में गाड़ी दपूरी पुल के ऊपर से गुजर रही है, यही वो पुल है जो 1854 में बन कर तैयार हुआ था और जिसने मुंबई को ठाणे से जोड़ा था।

16 अप्रैल 1853 को 3:35 बजे ग्रेट इंडियन पेनिनसुला रेलवे की पहली रेलगाड़ी बंबई (अब मुम्बई) के बोरी बंदर से थाने (अब ठाणे) जाने के लिए रवाना हुई।[7] रेलगाड़ी को इस 21 मील (33.8 किमी) के सफर को तय करने में 57 मिनट का समय लगा।[8] 14 डिब्बों वाली इस रेलगाड़ी जिनमें 400 यात्री सवार थे को, तीन लोकोमोटिव जिनका नाम सुल्तान, सिंध और साहिब था, खींच रहे थे। भारत का पहला रेल पुल जो ठाणे कोल (ठाणे क्रीक) पर स्थित है सन 1854 में बन कर तैयार हुआ था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाह्य सूत्र[संपादित करें]