सुखोई एसयू-7

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुखोई एसयू-7
Su-7
1991 में पोलिश सुखोई एसयू-7 का फोटो
प्रकार लड़ाकू और बॉम्बर/जमीन पर हमले वाला विमान
उत्पत्ति का देश Flag of the Soviet Union.svg सोवियत संघ
उत्पादक सुखोई
प्रथम उड़ान 7 सितंबर 1955
आरंभ 1959
स्थिति कोरियाई पीपुल्स आर्मी एयर फोर्स मे अभी भी सीमित सेवा में
प्राथमिक उपयोक्तागण सोवियत वायु सेना
भारतीय वायु सेना
निर्मित 1957–1972
निर्मित इकाई 1,847 (मुख्य रूप से सुखोई एसयू-7बी श्रृंखला)
के रूप में विकसित किया गया सुखोई एसयू-17

सुखोई एसयू-7 (Sukhoi Su-7) (नाटो पदनाम नाम: फिटर-ए) 1955 में सोवियत संघ द्वारा विकसित एक स्वस्त्र पंख, सुपरसोनिक लड़ाकू विमान था। यह सामरिक, निम्न स्तरीय डॉफफायटर के रूप में डिजाइन किया गया था, लेकिन इस भूमिका में यह सफल नहीं हुआ। दूसरी ओर, सुखोई एसयू-7 के बाद 1960 के दशक की शुरू सुखोई एसयू-7बी श्रृंखला मुख्य सोवियत लड़ाकू-बमवर्षक और जमीन पर हमले वाला विमान बन गया। सुखोई एसयू-7 अपनी सादगी में असभ्य था, लेकिन इसकी कमियों में कम दूरी और कम हथियार लोड शामिल थे।

संचालन इतिहास[संपादित करें]

मिस्र[संपादित करें]

1967 के छह दिवसीय युद्ध में सुखोई एसयू-7 को मिस्र के साथ युद्ध देखा गया। और इज़राइली जमीन बल पर हमला करने के लिए मिस्र द्वारा यम किपपुर युद्ध में सुखोई एसयू-7 का उपयोग देखा गया।

भारत[संपादित करें]

भारतीय वायु सेना (आईएएफ) ने पाकिस्तान के साथ 1971 के युद्ध में व्यापक रूप से सुखोई एसयू-7 का इस्तेमाल किया। छह स्क्वाड्रन के कुल 140 विमान ने युद्ध के दौरान लगभग 1,500 आक्रमणपूर्ण उड़ानों की उड़ान भरी। भारतीय वायु सेना ने अपने सुखोई एसयू-7 के साथ एक बहुत ही उच्च परिचालन गति को बरकरार रखा। भारतीय वायु सेना ने छह पायलट प्रति दिन की दर से रोजाना अभियास करते थे। चौदह सुखोई एसयू-7 1971 के युद्ध के दौरान खो गए थे। युद्ध के बाद, यह पाया गया कि विमान को उच्च क्षतिपूर्ति थी, भारी क्षति प्राप्त करने के बावजूद सुखोई एसयू-7 उड़ान भरने मे सक्षम रहे। और कई पायलेट उच्च क्षतिपूर्ति हुए विमान से सुरक्षित रूप से वापिस आए थे। उदाहरण के लिए, विंग कमांडर एच.एस.मंगट के सुखोई एसयू-7 को पाकिस्तानी वायुसेना के जे-6 विमान ने एक सिडवाइंडर मिसाइल से बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया था। प्रभाव इतना गंभीर था कि आधा पतवार गायब हो हया, लिफ्ट, एलियलेन और फ्लैप गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गए, और आधा मिसाइल चुट पाइप में फंस गया था। लेकिन फिर भी पायलट सुरक्षित रूप से सुखोई एसयू-7 के साथ अपने बेस पर वापस आए थे।

ऑपरेटर्स[संपादित करें]

सुखोई एसयू-7 के सैन्य ऑपरेटर
World operators of the Su-7.png
नीला = वर्तमान गहरा लाल = पूर्व

वर्तमान ऑपरेटर्स[संपादित करें]

Flag of North Korea.svg उत्तर कोरिया
  • उत्तर कोरियाई वायु सेना

पूर्व ऑपरेटर्स[संपादित करें]

Flag of Afghanistan.svg अफ़्गानिस्तान
  • अफगान वायु सेना
Flag of Algeria.svg अल्जीरिया
  • अल्जीरियाई वायु सेना
Flag of the Czech Republic.svg चेकोस्लोवाकिया
  • चेकोस्लोवाक वायु सेना
Flag of Egypt.svg मिस्र
  • मिस्र की वायु सेना
Flag of India.svg भारत
भारतीय वायु सेना सुखोई एसयू-7 भारतीय वायु सेना अकादमी संग्रहालय में संरक्षित
  • भारतीय वायु सेना – सुखोई एसयू-7 140 को 1968 में वितरित किया गया था, जिससे छह स्क्वाड्रनों को बनाया गया था। अतिरिक्त 14 आहरण प्रतिस्थापन प्रदान किए गए थे। अंतिम इकाइi को 1986 में सेवानिवृत्त किया गया था।[1]
Flag of Iraq.svg इराक
  • इराकी वायु सेना
Flag of Poland.svg पोलैंड
  • पोलिश वायु सेना
Flag of the Soviet Union.svg सोवियत संघ
  • सोवियत वायु सेना
Flag of Syria.svg सीरिया
  • सीरियाई वायु सेना

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Rakshak, Bharat. "Su-7." IAF History. Retrieved; 28 January 2011.