संगुटिका (कंपनी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

संगुटिका दो या उससे अधिक निगमों का एक संयोजन है जो एक ही कारपोरेट संरचना के अंतर्गत, अक्सर एक पैरेंट कंपनी और विभिन्न (या बहुत सारी) अधीनस्थ कंपनियों को शामिल करती हुई, पूरी तरह से भिन्न व्यापार में सलग्न होती हैं। प्राय: संगुटिका एक बहु-औद्योगिक कंपनी होती है। संगुटिका अक्सर बड़ी और बहुराष्ट्रीय होती है।

आधुनिकीकरण[संपादित करें]

संगुटिका 1960 के दशक में कम ब्याज दर और बार-बार होने वाले बियर/बुल मार्केट के कारण लोकप्रिय थी, जो लाभ पर कंपनियों को खरीदने का अवसर देती थी, कभी-कभी अस्थायी तौर पर एक दम सिमटी हुई दर पर भी. 1960 के दशक से प्रसिद्ध उदाहरणों में लिंग-टेम्को-वॉट, आईआईटी निगम, लिट्टॉन इंडस्ट्रीज, टेक्सट्रॉन, टेलेडायन, गल्फ एवं वेस्टर्न इंडस्ट्रीज और ट्रांसअमेरिका शामिल हैं। जब तक लक्ष्य कंपनी के पास ऋण पर ब्याज की तुलना में अधिक लाभ होता है, संगुटिका का निवेश पर प्रतिफल (आरओआई) विकास करता हुआ दिखता है। इसके अलावा, संगुटिका में मुद्रा बाजार या पूंजी बाजार से उनके सामुदायिक बैंक के छोटे फर्म की तुलना में उधार लेने की अधिक क्षमता होती है।

कई सालों के लिए यह कंपनी के शेयर मूल्य में वृद्धि करने के लिए पर्याप्त था, क्योंकि कंपनियां प्राय: विधिक रूप से अपने आरओआई को महत्व देती थीं। संगुटिकारकों का आपस में आक्रामक रवैये ने निवेशकों को, जिन्होंने व्यापार में एक शक्तिशाली और प्रकट रूप में न रोके जाने योग्य बल को देखा, शेयर खरीदने के लिए उकसाया. अपने शेयर के मूल्यों के आधार पर उच्च शेयर कीमतों ने उन्हें और अधिक ऋण जुटाने के लिए प्रेरित किया और उससे से भी अधिक कंपनियों को खरीदने की प्ररणा दी. इसने एक श्रृंखलाबद्ध प्रतिक्रिया को दिशा दी, जिसने उन्हे तेजी से आगे बढ़ने की ओर प्ररित किया।

हालांकि, यह विकास कुछ हद तक भ्रामक था। मुद्रास्फिति की कमी को पूरा करने के लिए जैसे ही ब्याज दर बढ़ना शुरू हुआ, संगुटिकाओं का लाभ रूक गया। निवेशकों ने भी देखा कि समूह के अंदर कंपनियां उतनी तेजी से नहीं बढ़ रही थी जैसा कि खरीदने के पहले होता था, जबकि कंपनी को खरीदने के पीछे यह तर्क था कि सहक्रियता उन्हें अधिक कार्यकुशलता की ओर ले जाएगी. 1960 के उत्तरार्ध तक वे बाजार के दबाव में थी और उन्होंने इपने शेयरों को व्यापक तौर पर बेचा। कंपनियों को चालू रखने के लिए संगुटिकाओं को हाल में खरीदी गई कंपनियों को बेचने के लिए बाध्य किया गया और 1970 के दशक के मध्य तक उनमें से अधिकतर सिमट गईं.[कृपया उद्धरण जोड़ें] संगुटिका की सनक बाद में चलकर कंपनी की कोर योग्यता जैसे अपेक्षाकृत नए विचार पर केन्द्रित हो गई।

अन्य मामलों में, संगुटिका का निर्माण विविधिकरण के वास्तविक हितों के लिए किया गया था बनिस्बत कागज के ऊपर आरओआई के उपरोक्त हेरफेर के अभिविन्यास युक्त कंपनी केवल उपार्जन कर सकती हैं, या अन्य सेक्टरों में नई शाखाएं चालू कर सकती हैं जब उन्हे यह विश्वास हो कि इससे लाभ या स्थिरता में बढ़ोतरी होगी. 1980 के दशक के दौरान नकदी के आवेग के साथ, जनरल इलेक्ट्रिक भी वित्तीय या वित्तीय सेवाओं की ओर मुड़ गया, जो 2005 में कंपनी के 45% शुद्ध आय के लिए जिम्मेदार था। जीई भी एनबीसी यूनिवर्सल के अधिकांश का मालिक है, जो एनबीसी टेलीविज़न नेटवर्क और विभिन्न केबल नेटवर्क पर अधिकार रखता है। कुछ मायनों में, जीई 1960 के दशक के टिपिकल संगुटिकाओं से इस मायने में अलग है कि कंपनी उच्च स्तर की लाभकारी नहीं थी और जब ब्याज दर बढ़ गया, उन्होने इसे अपने लाभ के लिए इस्तेमाल किया, मानो ऋण का उपयोग कर नए उपस्कर खरीदना जीई से लीज लेने की अपेक्षा कम खर्चीला था। यूनाइटेड टेक्नोलॉजीज (United Technologies) ने खुद को एक बहुत ही सफल संगुटिका के उदाहरण के रूप में सिद्ध किया है।

सफल संगुटिका का एक अन्य उदाहरण एक होल्डिंग कम्पनी वारेन बफेट की बर्कशायर हैथअवे है, जो बीमा अनुषमगों से प्राप्त अपने अधिशेषों का इस्तेमाल विभिन्न उत्पादन वाले एवं सेवा व्यापारों में निवेश के लिए करती है।

अन्तर्राष्ट्रीय[संपादित करें]

प्रथम विश्व युद्ध के अंत के कारण जर्मनी में एक छोटा आर्थिक संकट पैदा हुआ जिसने विविध व्यापारों को कम कीमत पर खरीदने के लिए उद्यमियों को प्ररित किया। सबसे सफल, ह्यूगो स्टिन्नस, ने 1920 के दशक के यूरोप में स्टिन्नस इंटरप्राइजेज नामक सबसे शक्तिशाली निजी वित्तीय संगुटिका की स्थापना की- जिसने उत्पादन, खनन, होटल, जहाज निर्माण, अखबार तथा अन्य वित्तीय कंपनियों के संकलन जैसे विविध क्षेत्रों को अंगिकार किया।

जानी - मानी और सबसे अच्छी ब्रिटिश संगुटिका हैंसन पीएलस थी। इसने अमेरिका के उपरोक्त उदाहरण से अलग टाइमस्केल का अनुसरण किया, क्योंकि यह 1964 में स्थापित की गयी थी और 1995 और 1997 के बीच अलग से सूचीबद्ध चार अलग कंपनियों को मिलाकर एक संगुटिका में तब्दील हो गई।

जापान में, एक अलग संगुटिका मॉडल, केईरेट्सू, विकसित हुई. समूह के पश्चिमी मॉडल जहां विभिन्न सहायक युक्त एक एकल निगम से निर्मित और उसी निगम के द्वारा नियंत्रित होते हैं वहीं केईरेट्सू इंटरलॉकिंग शेयरधारकों द्वारा तथा एक बैंक के एक केंद्रीय भूमिका से जुड़े हैं। मित्सुबिशी को जापान में एक सबसे अच्छी संगुटिका के रूप में जाना जाता है, जो टेलीविजन जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स के उत्पादन से लेकर ऑटोमोबाइल विनिर्माण तक पहुंच गई है।

दक्षिण कोरिया में, शाइबोल एक ऐसी संगुटिका है जो एक परिवार के स्वामित्व में तथा उसी के द्वारा परिचालित है। एक शाइबोल दाय भी है, क्योंकि शाइबोल्स के अधिकतर वर्तमान अध्यक्ष अपने पिता या दादा के उतराधिकारी हैं। सैमसंग, एलजी और हुंडई किया अटोमोटिव समूह कुछ विख्यात कोरिअन शाइबोल्स हैं।

भारत में लाइसेंस राज (1947-1990) के युग ने कई संगुटिकाओं का निर्माण किया, जैसे - टाटा ग्रुप (Tata Group), किरलोसकर ग्रुप (Kirloskar Group),इसार ग्रुप (Essar Group), रिलायंस एडीए ग्रुप (Reliance ADA Group), रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries), आदित्य बिड़ला ग्रुप (Aditya Birla Group) तथा भारती इंटरप्राइजेज (Bharti Enterprises).

फायदे[संपादित करें]

  • निवेश जोखिम में कटौती विविधीकरण का परिणाम है। एक सहायक कंपनी द्वारा सामना की जा रही मंदी को, उदाहरण के लिए, दूसरे प्रभाग में स्थिरता, या विस्तार द्वारा भी प्रतिभारित किया जा सकता है। दूसरे शब्दों में, यदि बर्कशायर हैथअवे का निर्माण सामग्री व्यापार एक साल बुरे हाल में है, तो उसकी हानि को बीमा कारोबार द्वारा पूरी कर के उसे एक अच्छा वर्ष बनाया जा सकता है। लाभ को इस तथ्य के द्वारा परिष्कृत किया जा सकता है कि व्यापार चक्र उद्योगों को विभिन्न तरीकों से प्रभावित करता है।[1]
  • संगुटिका एक आंतरिक पूंजी बाजार निर्मित करती है, यदि बाह्य पूंजी बाजार पर्याप्त रूप में विकसित नहीं है। आंतरिक बाजार के माध्यम से, संगुटिका के विभिन्न भाग अधिक प्रभावी ढंग से पूंजी को आवंटित करते हैं।
  • अपने से अधिक रियायती कंपनियों को हस्तगत कर संगुटिका आय वृद्धि को दर्शा सकती है। वास्तव में, टेलेडायन, जीई और बर्कशायर हैथअवे ने एक समय उच्च आय वृद्धि प्रकट किया था।[2]

नुकसान[संपादित करें]

  • सहक्रियाएं भ्रामक होती हैं।
  • प्रबंधन के अतिरिक्त स्तर लागत में वृद्धि करते हैं।[3]
  • लेखा प्रकटीकरण कम उपयोगी जानकारी है, बजाय अलग से प्रत्येक व्यापार के लिए कई नंबर समूहीकृत खुलासा कर देते है। संगुटिका खातो की जटिलता के कारण प्रबंधकों, निवेशकों और नियामकों को उनके विश्लेषण में कठिनाई होती है, तथा प्रबंधको के लिए चीजों को छुपाना आसान हो जाता है।
  • सांस्कृतिक संघर्ष मूल्य को नष्ट कर सकते हैं।[4][5]
  • जड़ता नवीनता के विकास को रोकती है।[6]
  • ध्यान की कमी और असंबंधित व्यवसायों को समान रूप से अच्छी तरह से प्रबंधित करने में असमर्थता.[7]

कुछ लोग संगुटिका स्टॉक के कम लागत को (यह तथ्य संगुटिका छूट के रूप में जाना जाता है) इन नुकसानों के साक्ष्य के रूप में पेश करते हैं, जबकि अन्य ट्रेडर यह विश्वास करते हैं कि यह प्रवृति बाजार की अक्षमता है जो इन शेयरों की सही ताकत को अवमूल्यित कर देती है।[8]

मीडिया संगुटिका[संपादित करें]

1999 की अपनी किताब नो लोगो में नाओमी केलिन ने मिडिया कंपनियों के बीच सहक्रिया के उद्देश्य के लिए तथा संगुटिका बनाने के लिए डिजाईन की गई कमपनियों के बीच विलयन एवं अभिग्रहण के विभिन्न उदाहरणों को प्रस्तुत किया।

  • टाइम वार्नर ने इंटरनेट एक्सेस तथा कंटेंट, फिल्म, तथा केबल व्यवस्था एवं टेलीविज़न सहित आपस में जुड़े व्यापारों की एक श्रृंखला को शामिल किया। उनकी संपत्ति के विविध पोर्टफोलियो ने पार संवर्धन और पैमाने की अर्थव्यवस्थाओं की अनुमति दी.
  • एक उद्धृत कंपनी, क्लियर चैनल कम्युनिकेशंस (Clear Channel Communications), एक बिंदु पर विभिन्न टीवी और रेडियो स्टेशनों एवं बिलबोर्ड संचालन के साथ ही पूरे अमेरिका के बड़े संगीत कार्यक्रम स्थानों की भारी संख्या तथा यू.के एवं विश्व के अन्य देशों की सम्पति की विविध पोर्टफोलियो की मालिक थी। एक संस्था के पास सौदेबाजी अधिकार की एकाग्रता ने इसकी सभी व्यापारिक इकाइयों को बेहतर सौदे प्राप्त करने की अनुमति दी. उदाहरण के लिए, रेडियो स्टेशनों पर प्लेलिस्टिंग के वादे का उपयोग (कथित तौर पर, कभी कभी, काली सूची के खतरे के साथ युग्मित) मनोरंजन विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले कलाकारों की ओर से किए गए बेहतर सौदों को सुरक्षित करने के लिए किया गया। इन नीतियों को अनुचित और एकाधिकारिक भी मानकर इनपर हमला किया गया है, लेकिन यह संगुटिका रणनीति के लिए स्पष्ट लाभकारी रही हैं। 21 दिसम्बर 2005 को क्लियर चैनल ने लाइव नेशन के अतिरिक्त उत्पादन को पूरा किया तथा 2007 में कंपनी ने अपने टेलीविज़न स्टेशनों को अन्य कंपनियों में स्पीन-ऑफ किया, जिसमें साफ चैनल की कम ही रूचि थी। लाइव नेशन का कार्यक्रम और संगीत-स्थानों पर स्वामित्व है जिसपर पहले क्लीयर चैनल क्मयुनिकेशन्स का स्वामित्व था।

खाद्य संगुटिका[संपादित करें]

अन्य उद्योगों की तरह इसी प्रकार कई कम्पनियां हैं जिन्हें संगुटिका कहा जा सकता है।

  • फिलिप मॉरिस समूह - फिलिप मॉरिस समूह जो कभी अल्ट्रिया समूह की पैरेंट कंपनी थी, फिलिप मॉरिस इंटरनेशनल तथा क्राफ्ट फूड्स का संयुक्त सलाना कारोबार $ 80 बिलियन था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. {http://www.solvency-ii-association.com/Solvency_ii_For_European_Financial_Conglomerates.htm बीमा या पुनर्बीमा समूह या संस्थाएं से वित्तीय संगुटिका के बहुत अलग एकल अनुपालन आवश्यकताएं है। शेयरधारक मूल्य में वृद्धि करने के लिए वहां बहुत महत्वपूर्ण अवसर है जो इस्तेमाल किया जा सकता है}
  2. http://www.investopedia.com/articles/basics/06/conglomerates.asp
  3. Dearbail Jordan and Robin Pagnamenta (September 25, 2007). "BP to strip out four layers of management". The London Times.
  4. "Culture clash: The risks of mergers". बीबीसी न्यूज़. 17 जनवरी 2000.
  5. Michelle C. Bligh (2006). "Surviving Post-merger 'Culture Clash': Can Cultural Leadership Lessen the Casualties?". Leadership. 2 (4): 395–426. डीओआइ:10.1177/1742715006068937. |work= और |journal= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)
  6. "Innovation and Inertia". Stanford University's Entrepreneurship Center.
  7. http://moneyterms.co.uk/conglomerate/
  8. संगुटिका को छूट

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]