पूर्वांचल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
उत्तर प्रदेश के क्षेत्र

पूर्वांचल उत्तर-मध्य भारत का एक भौगोलिक क्षेत्र है जो उत्तर प्रदेश के पूर्वी छोर पर स्थित है। यह उत्तर में नेपाल, पूर्व में बिहार, दक्षिण मे मध्य प्रदेश के बघेलखंड क्षेत्र और पश्चिम मे उत्तर प्रदेश के अवध क्षेत्र द्वारा घिरा है। इसे एक अलग राज्य बनाने के लिए लंबे समय राजनीतिक मांग उठती रही है। वर्तमान में इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व उत्तर प्रदेश विधानसभा में 117 विधायकों द्वारा होता है तो वहीं इस क्षेत्र से 23 लोकसभा सदस्य चुने जाते हैं।

पूर्वांचल के मुख्यतः तीन भाग हैं- पश्चिम में पूर्वी अवधी क्षेत्र, पूर्व में पश्चिमी-भोजपुरी क्षेत्र और उत्तर में नेपाल क्षेत्र। यह भारतीय-गंगा मैदान पर स्थित है और पश्चिमी बिहार के साथ यह दुनिया में सबसे अधिक घनी आबादी वाला क्षेत्र है। उत्तर प्रदेश के आसपास के जिलों की तुलना में मिट्टी की समृद्ध गुणवत्ता और उच्च केंचुआ घनत्व के कारण कृषि के लिए अनुकूल है। भोजपुरी क्षेत्र में प्रमुख भाषा या बोली है। हालाँकि इस क्षेत्र में हिंदी और भोजपुरी के अलावा अवधी तथा बघेलखंडी पश्चिमी और दक्षिणी क्षेत्रों में बोली जाती हैं।।

1991 में उत्तर प्रदेश की सरकार ने पूर्वांचल विकास निधि की स्थापना की जिसका उद्देश्य था क्षेत्रीय विकास परियोजनाओं के लिये धन इकट्ठा करना जिससे भविष्य में संतुलित विकास के जरिए स्थानीय जरूरतों को पूरा करते हुए क्षेत्रीय असमानताओं का निवारण हो सके। लेकिन आजादी के 70 सालों बाद तक भी नहीं हो सका। सिर्फ पूर्वांचल के पिछड़ेपन के नाम पर वोटों की सियासत की जा रही है। हर चुनाव में विकास की बातें की जाती है मगर वोट लेने के बाद सभी राजनीतिक दल पूर्वांचल की बदहाली को भुला देते हैं। यही वजह है कि अब अलग राज्य की मांग तेजी से उठने लगी है।

परिचय[संपादित करें]

पूर्वांचल उत्तर प्रदेश के सबसे पिछड़े क्षेत्रों मे से एक के है। इसकी वजह जाति आधारित राजनीति तथा एक विशाल जनसंख्या है। पूर्वांचल के प्रमुख मुद्दों मे बुनियादी सुविधाओं की कमी, उचित ग्रामीण शिक्षा और रोजगार का अभाव, कानून व्यवस्था को चिह्नित किया गया है। पूर्वांचल सांस्कृतिक रूप से समृद्ध क्षेत्र है।

1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम के नायक मंगल पांडे इसी क्षेत्र के बलिया के मूल निवासी थे।

संत रविदास नगर, भदोही और मिर्जापुर एशिया में कालीन निर्माण में प्रमुख खिलाड़ी रहे हैं। इलाहाबाद इसका प्रमुख और बड़ा शहर है। जिला वाराणसी भारतीय पर्यटन और विशेष रूप से साडी के निर्माण का केंद्र है। सोनभद्र पूर्वांचल का एक जिला, ७०००MW बिजली का उत्पादन करता है, जो उत्तर प्रदेश के राज्य में कुल बिजली उत्पादन के लगभग आधा है और भारत क सबसे बड़ा और केवल चूना पत्थर की प्रमुख खदान है। वाराणसी और कुशीनगर कुल उत्तर प्रदेश में आने के पर्यटकों के ६५% से अधिक लोगो को आकर्षित करता है। मिर्जापुर और सोनभद्र प्राकृतिक संसाधनों के साथ बहुत समृद्ध हैं। सब के बावजूद पूर्वांचल अभी भी राज्य में सबसे पिछड़े क्षेत्रो मे से एक है। जिसका मुख्य कारण राज्य सरकार और केन्द्र सरकार द्वारा उचित ध्यान की कमी है। गोरखपुर को पूर्वांचल की राजधानी कहा जाता है।

मायावती, मुलायम और अमर सिंह जैसे राजनेता उत्तर प्रदेश से अपने धूर्त राजनीतिक लाभ के लिए जाति और धार्मिक समीकरण के आधार पर इस क्षेत्र को उत्कीर्ण करने के लिए प्रयास कर रहे हैं। पूर्वांचल क्षेत्र संगठित अपराध और भ्रष्टाचार के केंद्र रूप में अपमानित है, इसकि वजह आम जनता के लिए पर्याप्त शिक्षा और रोजगार के अवसरों के अभाव है। भारत के किसी भी क्षेत्र के लोगों से अधिक शोषण ब्रिटिशों ने इस क्षेत्र के लोगों का किया क्योंकि इस क्षेत्र के लोगों मजबूत राष्ट्रवादी हैं और देशभक्ति की भावना थी और ब्रिटिश राज के खिलाफ कड़ा विरोध किया।

पूर्वांचल के जिले[संपादित करें]

इलाहाबाद प्रमुख शहर और जिला, यह मौजूदा समय में यूपी की न्यायिक राजधानी है।इलाहाबाद हाईकोर्ट यहीं पर हैं। यूपी लोकसेवा आयोग का दफ्तर यहां हैं। संगम नगरी की नाम से प्रसिद्ध है। हर 12 वर्ष में यहां दुनिया का सबसे बड़ा कुंभ मेला लगता है। इलाहाबाद पूर्वांचल का एकमात्र ऐसा जिला है जिसका लगभग आधा हिस्सा तीन तहसीलें बुंदेलखंड में आती हैं। मेजा, कोरांव और बारा तहसील बुंदेलखँड में आती है। हंडिया तहसील पूर्वांचल में आती है। हंडिया में दो विधानसभा सीटें हैं, 258 हंडिया औऱ 259 प्रतापपुर जो कि भदोही लोकसभा में आती हैं।

वाराणसी[संपादित करें]

दरभंगा घाट वाराणसी

वाराणसी शहर उत्तरी भारत की मध्य गंगा घाटी में, भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के पूर्वी छोर पर गंगा नदी के बायीं ओर के वक्राकार तट पर स्थित है। यहां वाराणसी जिले का मुख्यालय भी स्थित है। वाराणसी शहरी क्षेत्र — सात शहरी उप-इकाइयों का समूह है और ये ११२.२६ वर्ग कि॰मी॰ (लगभग ४३ वर्ग मील) के क्षेत्र फैला हुआ है।[49] शहरी क्षेत्र का विस्तार (८२°५६’ पूर्व) - (८३°०३’ पूर्व) एवं (२५°१४’ उत्तर) - (२५°२३.५’ उत्तर) के बीच है।[49] उत्तरी भारत के गांगेय मैदान में बसे इस क्षेत्र की भूमि पुराने समय में गंगा नदी में आती रहीं बाढ़ के कारण उपत्यका रही है।
वाराणसी में विभिन्न कुटीर उद्योग कार्यरत हैं, जिनमें बनारसी रेशमी साड़ी, कपड़ा उद्योग, कालीन उद्योग एवं हस्तशिल्प प्रमुख हैं। बनारसी पान विश्वप्रसिद्ध है और इसके साथ ही यहां का कलाकंद भी मशहूर है। वाराणसी में बाल-श्रमिकों का काम जोरों पर है।
बनारसी रेशम विश्व भर में अपनी महीनता एवं मुलायमपन के लिये प्रसिद्ध है। बनारसी रेशमी साड़ियों पर बारीक डिज़ाइन और ज़री का काम चार चांद लगाते हैं और साड़ी की शोभा बढ़ाते हैं। इस कारण ही ये साड़ियां वर्षों से सभी पारंपरिक उत्सवों एवं विवाह आदि समारोहों में पहनी जाती रही हैं। कुछ समय पूर्व तक ज़री में शुद्ध सोने का काम हुआ करता था।
वाराणसी के उच्चतर माध्यमिक विद्यालय इंडियन सर्टिफिकेट ऑफ सैकेंडरी एजुकेशन (आई.सी.एस.ई), केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सी.बी.एस.ई) या उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यू.पी.बोर्ड) से सहबद्ध हैं।

जौनपुर[संपादित करें]

प्रवेश के भीतर, अटाला मस्जिद, जौनपुर

जौनपुर जिला वाराणसी प्रभाग के उत्तर-पश्चिम भाग में स्थित है। इसकी भूमिक्षेत्र २४.२४०N से २६.१२०N अक्षांश और ८२.७०E और ८३.५०E देशांतर के बीच फैली हुई है। गोमती और सई मुख्य नदियाँ हैं। इनके अलावा, वरुण, पिली और मयुर आदि छोटी नदियाँ हैं। मिट्टी मुख्य रूप से रेतीली, चिकनी बलुई है। जौनपुर अक्सर बाढ़ की आपदा से प्रभावित रहता है। जौनपुर जिले मे खनिजों की कमी है। जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल ४०३८ किमी है।
जौनपुर जिला की वास्तविक जनसंख्या ४,४७६,०७२ (भारतीय जनगणना २०११) है। जिनमे २,२१७,६३५ पुरुष तथा २,२५८,४३७ महिलाएँ है।
जिले का आर्थिक विकास मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर है। इस का मुख्य कारण जिले में भारी उद्योग का अभाव है। कई उद्योग वाराणसी-जौनपुर राजमार्ग के साथ आ रहे हैं।

भदोही[संपादित करें]

भदोही के गोपीगंज में कालीन का प्रदर्शन करता एक विक्रेता

भदोही, उत्तर प्रदेश का एक जिला है। यह कालीन निर्माण के लिये प्रसिद्ध है। उत्‍तर प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र के प्रमुख जनपद वाराणसी से 1996 में बना भदोही जिला आम जन के द्वारा 'कालीन नगरी' नाम से जाना जाता है। इलाहाबाद, जौनपुर, वाराणसी, मीरजापुर की सीमाओं को स्‍पर्श करता यह जिला अपने कालीन उद्योग के कारण विश्‍व में अत्‍यन्‍त प्रसिद्ध है। भारत के भौगोलिक मानचित्र पर यह जिला मध्‍य गंगा घाटी में 25.09 अक्षांश उत्‍तरी से 25.32 उत्‍तरी अक्षांश तक तथा 82.45 देशान्‍तर पूर्वी तक फैला है। 1056 वर्ग कि॰मी॰ क्षेत्रफल वाले इस जिले की जनसंख्‍या 10,77630 है। ज्ञानपुर, औराई, भदोही तीन तहसील मुख्‍यालयों के अधीन डीघ, अमोली, सुरियावां, ज्ञानपुर औराई और भदोही विकास खण्‍ड कर्यालय है। इलाहाबाद की 2 विधानसभा सीटें हंडिया और प्रतापपुर के साथ मिलकर संसदीय क्षेत्र बनाने वाले इस जनपद मे 3 विधान सभा क्षेत्र ज्ञानपुर औराई और भदोही हैं। इस जनपद का मुख्‍य व्‍यवसाय कालीन है।

मिर्ज़ापुर[संपादित करें]

मिर्ज़ापुर उत्तर प्रदेश राज्य का एक शहर है। यह मिर्ज़ापुर जिला का मुख्यालय है। पर्यटन की दृष्टि से मिर्जापुर काफी महत्वपूर्ण जिला माना जाता है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता और धार्मिक वातावरण बरबस लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचती है। मिर्जापुर स्थित विन्ध्याचल धाम भारत के प्रमुख तीर्थस्थलों में से एक है। इसके अतिरिक्त, यह जिला सीता कुण्ड, लाल भैरव मंदिर, मोती तालाब, टंडा जलप्रपात, विन्धाम झरना, तारकेश्‍वर महादेव, महा त्रिकोण, शिव पुर, चुनार किला, गुरूद्वारा गुरू दा बाघ और रामेश्‍वर आदि के लिए प्रसिद्ध है। मिर्जापुर वाराणसी जिले के उत्तर, सोनभद्र जिले के दक्षिण और इलाहाबाद जिले के पश्चिम से घिरा हुआ है।

महाकाली, मिर्ज़ापुर

मिर्जापुर की स्थिति 25.15, 82.58 पर है। यहां की औसत ऊंचाई है 80 मीटर (265 फीट)।

पूर्वांचल भाषा संगम

[1]

प्रमुख आकर्षण[संपादित करें]

गाज़ीपुर[संपादित करें]

गाजीपुर, पूर्वांचल का पुराना जिला एवं नगर है। इसका प्राचीन नाम गाधिपुरी था जो कि लगभग सन १३३० में सैय्यद मसूद ग़ाज़ी नामक एक मुल्स्लिम शासक द्वारा बदल दिया गया। गाजीपुर, अंग्रेजों द्वारा १८२० में स्थापित, विश्व में सबसे बड़े अफीम के कारखाने के लिए प्रख्यात है। यहाँ हथकरघा तथा इत्र उद्योग भी है। ब्रिटिश भारत के गवर्नर जनरल लॉर्ड कार्नवालिस की मृत्यु यहीं हुई थी तथा वे यहीं दफन हैं। शहर उत्तर प्रदेश-बिहार सीमा के बहुत नजदीक स्थित है। यहाँ की स्थानीय भाषा भोजपुरी है। यह पवित्र शहर बनारस के ७० की मी पूर्व में स्थित है

प्रमुख आकर्षण[संपादित करें]

  • रामलीला मैदान
  • धामूपुर
  • सैदपुर भितरी
  • महाहर धाम
  • कॉर्नवालिस मकबरा
  • पवहारी बाबा आश्रम
  • लठिया, जमानिया
  • दुल्लहपुर

गोरखपुर[संपादित करें]

गोरखपुर, पूर्वांचल का प्रमुख जिला एवं नगर है। यह गोरखपुर जिला, और गोरखपुर कमीशनरी तथा पूर्वोत्तर रेलवे का प्रशासनिक मुख्यालय है। यह नगर गीता प्रेस एवं गोरखनाथ मन्दिर के लिये विशेष रूप से प्रसिद्ध है। यह महान संत परमहंस योगानन्द का भी जन्म स्थान है। शहर में भी कई ऐतिहासिक बौद्ध स्थल है। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय, गोरखपुर पूर्वाचल का प्रसिद्ध विश्वविद्यालय है। यहां पर 2 विश्विद्यालय हैं। यहां पर 2 मेडिकल कॉलेज भी हैं। यहां पर एयरफोर्स बेस स्टेशन भी है,जो कि 1963 में बनाया गया था। ये 6 सेंतुरारी में 16 जनपद में से एक था जिसे माला के नाम से जानते थे।चौरी चौरा कांड यही पर हुआ था। यहां पर मिया साहेब का इमामबाड़ा भी है ,जिसमे सोने और चांदी की ताझिया रखी हुई है। इमामबाड़े में एक धुनि है जो कई दसको से जल रही।

कुशीनगर[संपादित करें]

महापरिनिर्वाण प्राप्त बुद्ध की छवि, कुशीनगर

कुशीनगर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला एवं एक एक छोटा सा कस्बा है। इस जनपद का मुख्यालय कुशीनगर से कोई १५ किमी दूर पडरौना में स्थित है। कुशीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग २८ पर गोरखपुर से कोई ५० किमी पूरब में स्थित है। महात्मा बुद्ध का निर्वाण यहीं हुआ था। यहाँ अनेक सुन्दर बौद्ध मन्दिर हैं। इस कारण से यह एक अन्तरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल भी है जहाँ मुख्यत: विश्व भर के बौद्ध तीर्थयात्री भ्रमण के लिये आते हैं। कुशीनगर कस्बे के और पूरब बढ़ने पर लगभग २० किमी बाद बिहार राज्य आरम्भ हो जाता है।

देवरिया[संपादित करें]

श्याम मंदिर, देवरिया

देवरिया भारत के उत्तर प्रदेश प्रान्त का एक शहर एवं जिला मुख्यालय है।
देवरिया जनपद में मुख्य रूप से हिन्दी भाषा बोली जाती है। देवरिया जनपद की कुल जनसंख्या की लगभग ९६ प्रतिशत जनता हिन्दी, लगभग ३ प्रतिशत जनता उर्दू और एक प्रतिशत जनता के बातचीत का माध्यम अन्य भाषाएँ हैं। बोली की बात करें तो ग्रामीण जनता के साथ-साथ अधिकांश शहरी जनता भी प्रेम की बोली भोजपुरी बोलती है। कुल जनसंख्या की दृष्टि से इस जनपद में लगभग चौरासी प्रतिशत हिन्दू, लगभग पंद्रह प्रतिशत मुस्लिम और एक प्रतिशत अन्य धर्म को मानने वाले हैं। इस जनपद की जनता आपस में प्रेम-भाव से रहते हुए सबके दुख-सुख में सहभागी बनती है। या यूँ कहें "देवरिया जनपद रूपी उपवन को हिंदू, मुस्लिम, सिख, इसाई, बौद्ध आदि पुष्प अपनी सुगंध से महकाते हैं और ये सुगंध आपस में मिलकर पूरे भारत को गमकाती है।"

आजमगढ़[संपादित करें]

आजमगढ़ उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले का मुख्यालय है। इस शहर की स्थापना लगभग 1665 ई. में विक्रमजीत के पुत्र अजम खान ने करवाई थी। शहर की पूर्व दिशा पर तमसा नदी के तट पर अजम खान ने एक किले का निर्माण करवाया था। आजमगढ़ के चक्रपानपुर में पी. जी. आई. अस्पताल का निर्माण हुआ है जो शहर से लगभग 20 कि.मी. कि दूरी पर स्थित है यहां कि मुख्य भाषा भोजपुरी है

मऊ[संपादित करें]

मऊ उत्तर प्रदेश के मऊ जिला का मुख्यालय है। इसका पूर्व नाम मऊनाथ भंजन (उर्दु:امئو نات بنجن)) था। अवन्तिकापुरी, गोविन्द साहिब, दत्तात्रेय, दोहरी घाट, दुर्वासा, मेहनगर, मुबारकपुर, महाराजगंज, नि‍जामाबाद और आजमगढ़ मऊ के प्रमुख स्थलों में से है। यह जिला लखनऊ के दक्षिण-पूर्व से 282 किलोमीटर और आजमगढ़ के पूर्व से 56 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह शहर तमसा नदी के किनारे बसा है। तमसा नदी शहर के बीच से निकलती/गुजरती है। भामऊ जिले के इतिहास को लेकर कई भ्रम है। सामान्यत: यह माना जाता है कि मऊ शब्द तुर्किश शब्द से लिया गया है जिसका अर्थ गढ़, पांडव और छावनी होता है। वस्तुत: इस जगह के इतिहास के बारे में कोई ऐतिहासिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है। माना जाता है प्रसिद्ध शासक शेर शाह सूरी के शासन काल के दौरान इस क्षेत्र में कई आर्थिक विकास करवाए गए। वहीं मिलिटरी बेस और शाही मस्जिद के निर्माण में काफी संख्या में श्रमिक और कारीगर मुगल सैनिकों के साथ यहां आए थे। स्वतंत्रता आन्दोलन के समय में भी मऊ की महत्वपूर्ण भूमिका रही

महाराजगंज[संपादित करें]

भारत-नेपाल सीमा के समीप स्थित महाराजगंज उत्तर प्रदेश राज्य का एक जिला है। इसका जिला मुख्यालय महाराजगंज शहर मे स्थित है। पहले इस जगह को कारापथ के नाम से जाना जाता था। यह जिला नेपाल के दक्षिण , गोरखपुर जिले के उत्तर, कुशीनगर जिले के पश्चिम और सिद्धार्थ नगर व संत कबीर नगर जिले के पूर्व मे स्थिति है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह काफी महत्वपूर्ण स्थल है।

बस्ती[संपादित करें]

यह भारत के उत्तर प्रदेश प्रान्त का एक शहर और बस्ती जिला का मुख्यालय है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह स्थान काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। बस्ती जिला संत कबीर नगर जिले के पश्चिम में और गोण्डा के पूर्व में स्थित है। क्षेत्रफल की दृष्टि से भी यह उत्तर प्रदेश का सातवां बड़ा जिला है। प्राचीन समय में बस्ती को 'कौशल' के नाम से जाना जाता था।

संत कबीर नगर[संपादित करें]

संत कबीर नगर जिला उत्तरी भारत के उत्तर प्रदेश राज्य 75 जिलों में से एक है। खलीलाबाद शहर जिला मुख्यालय है| संत कबीर नगर जिला बस्ती मंडल का एक हिस्सा है। यह जिला उत्तर में सिद्धार्थ नगर जिले से पूर्व में गोरखपुर जिले से दक्षिण में अम्बेडकर नगर जिले से और पश्चिम में बस्ती जिला द्वारा घिरा है। इस जिले का क्षेत्रफल 1659.15 वर्ग किलोमीटर है।यह तीन तहसीलो मे बटा है धनघटा,खलीलाबाद, मेहदावल । भगवान शिव का विश्वव प्रसिद्ध मंदिर श्री तामेश्वरनाथ धाम,अवधी के मसहूर कवि रंगपाल हरिहरपुर,विश्व प्रसिध्द संत कबीर की निर्वाण स्थली मगहर और बखिर पक्षी विहार झील,हैंसर आदि यहां के प्रमुख स्थलों में से हैं। घाघरा, राप्‍ती,आमी और कुआनो यहां की प्रमुख नदियां है। मगहर एक कस्बा है जो आमी नदी के किनारे स्थित है|मगहर में संत कबीरदास की मृत्यु हुई थी|जिनके नाम पर जिले का नाम पड़ा है|मेहदावल विधानसभा से ही उत्तर प्रदेश की प्रथम महिला विधायक श्रीमती सुचेता कृपलानी(पूर्व मुख्यमन्त्री) चुनी गयी थी।

सिद्धार्थ नगर[संपादित करें]

सिद्धार्थनगर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला है। जिले का मुख्यालय सिद्धार्थनगर है। प्राचीन काल के शाक्य गणराज्य की राजधानी भगवान बुद्ध जहां के राजकुमार थे "कपिलवस्तु" इसी जनपद में स्थित है। भगवान बुद्ध के वास्तविक नाम "सिद्धार्थ" के ऊपर ही इस जनपद का नाम सिद्धार्थनगर रखा गया है। इस जनपद में नौगढ़,शोहरतगढ़,इटवा, डुमरियागंज और बांसी 5 तहसीलें हैं। कपिलवस्तु, शोहरतगढ़, इटवा,डुमरियागंज और बांसी 5 विधानसभा क्षेत्र हैं। सिद्धार्थनगर के पूर्व में जनपद महराजगंज और संतकबीरनगर, पश्चिम में जनपद बलरामपुर, उत्तर में नेपाल देश और दक्षिण में जनपद बस्ती स्थित है। सिद्धार्थनगर का "कालानमक" चावल अपने स्वाद और सुगंध के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है।

बलिया[संपादित करें]

बलिया पूर्वांचल का प्रमुख जिला एवं नगर है। शहर की पूर्वी सीमा गंगा और घाघरा के संगम में निहित है। बलिया, गाजीपुर से 76 किलोमीटर और वाराणसी से 150 किलोमीटर स्थित है। पूर्वांचल के अन्य जिलों की भांति भोजपुरी यहाँ के लोगों की मुख्य बोली है।

भारत के स्वतन्त्रता संग्राम में बलिया बागी बलिया (विद्रोही बलिया) के रूप में अपना महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है। १९४२ के भारत छोड़ो आन्दोलन के समय बलिया ने एक छोटी अवधि के लिये ब्रिटिश शासन के जिला सरकार का तख्ता पलट किया और चित्तू पांडे के अधीन एक स्वतंत्र प्रशासन स्थापितकिया।

एक वार्षिक मेले के ददरी मेला, एक मैदान पर शहर की पूर्वी सीमा पर गंगा और सरयू नदियों के संगम पर मनाया जाता है। मऊ, आजमगढ़, देवरिया,गोरखपुर,गाजीपुर और वाराणसी के रूप में पास के जिलों के साथ नियमित संपर्क में रेल और सड़क के माध्यम से मौजूद है।

रसड़ा - यहाँ से ३५ किलोमीटर पश्चिम में स्थित एक क़स्बा है। यहाँ नाथ बाबा का मंदिर है जो स्थानीय सेंगर राजपूतों के देवता हैं। इसके अलावा यहाँ दरगाह हज़रत रोशन शाह बाबा, दरगाह हज़रत सैयद बाबा और लखनेसर डीह के प्राचीन अवशेष दर्शनीय स्थल हैं।

उल्लेखनीय व्यक्तितव: मंगल पांडे - 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के नायक मगल पाण्डेय बलिया जिले के नगवां गाँव में जन्मे थे। चित्तू पाण्डेय - 1942 के आंदोलन में काँग्रेसी नेता जिनके नेतृत्व में बलिया में स्वतंत्र सरकार का गठन हुआ था। राम नगीना सिंह - 1952 प्रथम सांसद (प्रजातांत्रिक सोशलिस्ट पार्टी) बलिया गाजीपुर संयुक्त लोकसभा सीट | गौरी शंकर भइया - पूर्व मंत्री जयप्रकाश नारायण - नेता। चन्द्रशेखर- भारत के नवें प्रधानमन्त्री। जनेश्वर मिश्र - "छोटे लोहिया" के नाम से जाने जाने वाले समाजवादी नेता। गौरीशंकर राय - पूर्व मंत्री परशुराम चतुर्वेदी - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। हजारी प्रसाद द्विवेदी - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। डॉo उदयनारायण तिवारी - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। भगवतशरण उपाध्याय - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। विश्वनाथ उपाध्याय - स्वतंत्रता सेनानी डॉ0 कृष्णबिहारी मिश्र - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। डॉ0 कृष्णदेव उपाध्याय -प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। भैरव प्रसाद गुप्त - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। अमरकांत - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। डॉ0 केदारनाथ सिंह - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। दूधनाथ सिंह - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। डॉ0 रवीन्द्रनाथ श्रीवास्तव - प्रख्यात हिंदी साहित्यकार। काशीनाथ मिश्र - पूर्व मंत्री

सोनभद्र[संपादित करें]

सोनभद्र भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला है। जिले का मुख्यालय राबर्ट्सगंज है।
स्वतंत्रता मिलने के लगभग 10 वर्षों तक यह क्षेत्र (तब मिर्जापुर जिले का भाग) अलग-थलग था तथा यहां यातायात या संचार के कोई साधन नहीं थे। पहाड़ियों में चूना पत्थर तथा कोयला मिलने के साथ तथा क्षेत्र में पानी की बहुतायत होने के कारण यह औद्योगिक स्वर्ग बन गया। यहां पर देश की सबसे बड़ी सीमेन्ट फैक्ट्रियां, बिजली घर (थर्मल तथा हाइड्रो), एलुमिनियम एवं रासायनिक इकाइयां स्थित हैं। साथ ही कई सारी सहायक इकाइयां एवं असंगठित उत्पादन केन्द्र, विशेष रूप से स्टोन क्रशर इकाइयां, भी स्थापित हुई हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

पूर्वांचल के प्रमुख विश्वविद्यालय[संपादित करें]

महत्वपूर्ण सड़क, रेल और हवाई अड्डे[संपादित करें]

प्रमुख सड़कें[संपादित करें]

  • राष्ट्रीय राजमार्ग-२, ७, १९, २८, ५६, ९७
  • स्वर्णिम चतुर्भुज

रेलवे[संपादित करें]

पूर्वांचल के सभी जिले रेलवे से अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं। इलाहाबाद उत्तर मध्य रेलवे का मुख्य़ालय है जबकि गोरखपुर, पूर्वोत्तर रेलवे का मुख्यालय है।

विमानपत्तन[संपादित करें]

  • बमरौली विमान पत्तन इलाहाबाद
  • गोरखपुर विमानपत्तन
  • वाराणसी विमानपत्तन
  • मीरपुर विमानपत्तन

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

पूर्वांचल वेबसाइट
वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
जौनपुर

वाराणसी

  1. https://ibn7.in/state/new-delhi/item/143694-2017-10-02-13-42-31