पापा कहते हैं

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पापा कहते हैं
पापा कहते हैं.jpg
पापा कहते हैं का पोस्टर
निर्देशक महेश भट्ट
निर्माता महेश भट्ट
अमित खन्ना
लेखक मनोहर श्याम जोशी
अभिनेता जुगल हंसराज,
मयूरी कांगो,
सुहास जोशी,
अनुपम खेर,
रीमा लागू,
आलोक नाथ,
सोनी राज़दान,
टीकू तलसानिया
संगीतकार राजेश रोशन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 17 मई, 1996
देश भारत
भाषा हिन्दी

पापा कहते हैं 1996 में बनी हिन्दी भाषा की प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसका निर्देशन और निर्माण महेश भट्ट ने किया और मुख्य किरदार जुगल हंसराज, मयूरी कांगो और अनुपम खेर ने निभाए हैं। यह फिल्म मयूरी की दूसरी फिल्म है।[1] फिल्म बहुत बड़ी फ्लॉप रही थी। इसको इसके संगीत विशेषकर गीत "घर से निकलते ही" के लिये याद किया जाता है।[2]

संक्षेप[संपादित करें]

स्वीटी (मयूरी कांगो) अपनी मां (नवनी परिहार), दादी (सुहास जोशी) और दादा (टीकू तलसानिया) के साथ रहती है। वह बहुत विद्रोही, भावनात्मक और अनुभूत है और स्कूल में अपने सहपाठियों के साथ अच्छी तरह से नहीं मिलती-घुलती है। वह सब जानती है कि उसे घर पर अपने पिता के बारे में बात करने की अनुमति नहीं है। उसे पता चला कि वह सेशेल्स में है और वहां भाग जाती है।

जब वह सेशेल्स में जाती है तो वह अपने पिता को नहीं ढूंढ पाती, जिसे वह मिलने के लिए उत्सुक रही है। एक लिंक है समुद्री पुरातात्विक श्री गांधीभाई की मृत्यु। केवल वही जानते थे कि उसके पिता कहां हैं। संयोग से, उसके पिता उसी होटल में हैं, जिसमें वह है। वह एक और औरत, स्वाती सिन्हा के साथ रह रहे है (सोनी राज़दान), जिसने एक और पुरुष को तलाक दे दिया था। एक किशोर बेटी आने और उसके जीवन और मामलों में बाधा डालने के लिए उसके पिता बहुत रोमांचित नहीं हैं। सेशेल्स में, स्वीटी रोहित दीक्षित (जुगल हंसराज) से मिलती है और वे एक दूसरे के प्यार में पड़ते हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

"घर से निकलते ही" के अलावा "पहला प्यार का पहला" और "ये जो थोड़े से है पैसे" अन्य लोकप्रिय गीत हैं।

सभी गीत जावेद अख्तर द्वारा लिखित; सारा संगीत राजेश रोशन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."घर से निकलते ही"उदित नारायण7:22
2."हम दुल्हन वाले"कुमार सानु, पूर्णिमा6:43
3."मुझ से नाराज हो तो"सोनू निगम5:25
4."प्यार में होता है क्या"कुमार सानु, अलका याज्ञनिक5:24
5."पहला प्यार का पहला"कविता कृष्णमूर्ति4:59
6."ये जो थोड़े से है पैसे"कुमार सानु5:23

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1997 जावेद अख्तर ("घर से निकलते ही") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार जीत
उदित नारायण ("घर से निकलते ही") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित
राजेश रोशन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार नामित

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "फिल्‍म 'पापा कहते हैं' कि इस मशहूर Actress की हुई दर्दनाक हालत". पंजाब केसरी. 19 जून 2018. अभिगमन तिथि 3 अगस्त 2018.
  2. "घर से निकलते ही क्या होता है? ट्विटर पर यूजर्स ने किए ऐसे ट्वीट्स, देखकर आ जाएगी हंसी". एनडीटीवी इंडिया. 15 मई 2018. अभिगमन तिथि 3 अगस्त 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]