लहू के दो रंग (1979 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
लहू के दो रंग
लहू के दो रंग1.jpg
लहू के दो रंग का पोस्टर
निर्देशक महेश भट्ट
निर्माता सीरू दरयाणी
भगवान एस॰ सी॰
लेखक सूरज सनिम
अभिनेता विनोद खन्ना,
शबाना आज़मी,
डैनी डेन्जोंगपा,
हेलन
संगीतकार बप्पी लहरी
छायाकार प्रवीण भट्ट
प्रदर्शन तिथि(याँ) 28 सितंबर, 1979
देश भारत
भाषा हिन्दी

लहू के दो रंग 1979 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसका निर्देशन महेश भट्ट ने किया और विनोद खन्ना, हेलन, डैनी डेन्जोंगपा, शबाना आज़मी, रंजीत और प्रेमा नारायण ने अभिनय किया। फिल्म के संगीत और बोल क्रमशः बप्पी लहरी और फारूक क़ैसर द्वारा हैं।

फिल्म की कहानी, पटकथा और संवाद सूरज सनिम ने लिखे हैं। फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर "हिट" का दर्जा दिया गया था।

संक्षेप[संपादित करें]

शमशेर सिंह (विनोद खन्ना) अंग्रेजों से लड़ने के लिए सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व वाली भारतीय सेना का हिस्सा है। हांगकांग में उसे पकड़ने के लिए जब अंग्रेज पीछे होते हैं, उसे सूज़ी (हेलन) द्वारा बचाया गया और मदद की गई। उसके प्यार में पड़कर सूज़ी शमशेर के बच्चे के साथ गर्भवती हो जाती है। लेकिन वह शमशेर को भारत वापस जाने की अनुमति देती है और उसे और उसके बच्चे को भारत ले जाने के लिए वापस आने को कहती है। भारत में, शमशेर पहले से ही लाडजो (इन्द्रानी मुखर्जी) से शादी कर चुका है। इन दोनों का एक बेटा है जिसका नाम राज है।

शमशेर के दोस्त शंकर (रंजीत) ने मैक (मैक मोहन) की मदद से उन सभी को धोखा दिया और शमशेर को मार डाला। लेकिन मैक भी शंकर को धोखा देता है और लूटे गए सोने को शंकर को बताए बिना कहीं छिपा देता है।

बरसों बाद शमशेर का बेटा राज सिंह (विनोद खन्ना) भी पुलिस बल में शामिल हो जाता है और इंस्पेक्टर बन जाता है। वह अब अपने पिता के हत्यारों को खोजने में रुचि रखता है। मैक, जो अपनी कैद का समय पूरा करता है, रिहा हो जाता है। उसको शंकर द्वारा पकड़ लिया जाता है। शंकर ने अब अपना नाम देवी दयाल रख लिया है। मैक, देवी दयाल को खुलासा करता है कि सोना एक कार में दफन है जो एक गहरी झील के तल पर है। सोने को निकालने के लिए, वे उत्कृष्ट गोताखोर सूरज (डैनी डेन्जोंगपा) को काम पर रखता है। सूरज शमशेर और सूज़ी का नाजायज़ बेटा है और इस बात से नाराज़ है कि उसकी माँ सूज़ी को शमशेर ने कैसे धोखा दिया और कैसे वह उन्हें लाने के लिए कभी नहीं लौटा।

हत्या के एक मामले को सुलझाने की अपनी खोज पर, राज दार्जिलिंग जाता है, जहाँ वह रोमा (शबाना आज़मी) से मिलता है और उससे प्यार कर बैठता है। सूरज भी अपनी नये काम के लिये दार्जिलिंग में हैं, जिसे देवी दयाल ने उसे दिया है। सूरज को भी रोमा से प्यार हो जाता है, लेकिन वह उसे बताने में बहुत संकोच करता है। रोमा, राज को बताती है कि किस तरह उसकी माँ को देवी दयाल ने ड्रग्स का आदी बना दिया था। घटनाओं की एक श्रृंखला सभी रहस्यों को उजागर करती है और राज और सूरज अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए एकजुट होते हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत फारूक कैसर द्वारा लिखित; सारा संगीत बप्पी लहरी द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."मुस्कुराता हुआ गुल खिलाता हुआ"किशोर कुमार6:50
2."माथे की बिंदिया बोले" (I)अनुराधा पौडवाल, मोहम्मद रफी6:07
3."हम से तुम मिले"डैनी डेन्जोंगपा, चंद्रानी मुखर्जी4:19
4."जिद ना करो अब तो रुको" (महिला)लता मंगेशकर4:24
5."जिद ना करो अब तो रुको" (पुरुष)येशुदास4:25
6."मस्ती में जो निकली मुँह से"किशोर कुमार, सुलक्षणा पंडित4:32
7."चाहिये थोड़ा प्यार"किशोर कुमार5:25
8."माथे की बिंदिया बोले" (II)मोहम्मद रफी, अनुराधा पौडवाल4:05

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता और नामांकित व्यक्ति पुरस्कार वितरण समारोह श्रेणी परिणाम
हेलन फिल्मफेयर पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कार जीत

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]