साथी (1991 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
साथी
साथी.jpg
साथी का पोस्टर
निर्देशक महेश भट्ट
निर्माता मुकेश दुग्गल
लेखक रोबिन भट्ट
अभिनेता आदित्य पंचोली,
मोहसिन ख़ान,
वर्षा उसगांवकर
संगीतकार नदीम-श्रवण
छायाकार प्रवीण भट्ट
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1991
देश भारत
भाषा हिन्दी

साथी 1991 की महेश भट्ट द्वारा निर्देशित हिन्दी भाषा की अपराध पर केन्द्रित नाटकीय फिल्म है। इसमें आदित्य पंचोली, मोहसिन ख़ान और वर्षा उसगांवकर मुख्य भूमिकाओं में हैं। अन्य कलाकारों में अनुपम खेर और परेश रावल हैं जिन्होंने नकारात्मक भूमिकाएँ अदा की। यह फिल्म आदित्य पंचोली के करियर की सबसे सफल फिल्म रही।[1]

संक्षेप[संपादित करें]

जब वो छोटे थे, सूरज (आदित्य पंचोली) और अमर (मोहसिन ख़ान) ने अपने पिता को पुलिस निरीक्षक द्वारा क्रूरता से पीटना हुआ देखा। दोनों बड़े हो जाते हैं और छोटे-छोटे अपराधी बन जाते हैं। इससे उन्हें बड़े गैंगस्टर पाशा (परेश रावल) मिलता है। वे अलग-अलग रास्ते चले जाते हैं क्योंकि अमर गिरोह की गतिविधियों से नफरत करता है, खासकर नशीली दवाएं। दूसरी ओर सूरज अमीर बनना चाहता है। सूरज पाशा को मारता है और एक बड़ा गिरोह का नेता बन जाता है। अमर भयभीत है कि अपराध की दुनिया में सूरज खो गया है और मानवता भूल गया है। फिल्म के समापन में, सुल्तान (अनुपम खेर) सूरज को फोन करता है और उससे अमर को मारने के लिए कहते हैं, जिससे उसने मना कर दिया। उस दिन बाद में, सूरज का पीछा पुलिस ने किया (इंस्पेक्टर कोटवाल ने इंस्पेक्टर खान को ऐसा करने का आदेश दिया था) और वो घायल हो गया है, जबकि उसके अंगरक्षक की हत्या हो गई। सूरज उस जगह तक पहुंचता है जहां अमर और सूरज बचपन में जाते थे। अमर, जिसने अपने दोस्त की आवाज़ को महसूस किया, उस जगह पर पहुँच गया। इंस्पेक्टर कोटवाल वहां पहुंचते हैं और अमर उन्हें बताता है कि सूरज आत्मसमर्पण करना चाहता है। इंस्पेक्टर कोटवाल बताते हैं कि वह वास्तव में सुल्तान हैं, असली डॉन और सूरज को मारने का प्रयास करते हैं। अमर सूरज को बचाता है और यह सोचकर कि उसने सुल्तान को मार दिया, सूरज की तरफ लौटता है। तभी, सुल्तान, जो मरा नहीं था, पीछे से आता है और अमर को चाकू से भोंकने का प्रयास करता है। सूरज अमर की रक्षा करने के लिए सामने आ जाता है और सुल्तान द्वारा मारा जाता है, जिसे अंत में अमर द्वारा मारा जाता है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

संगीत नदीम-श्रवण द्वारा रचित। "हुई आँख नम" एल्बम का सबसे लोकप्रिय गीत अनुराधा पौडवाल द्वारा गाया गया था। "जिंदगी की तलाश में" आज भी एक हिट गीत है। साउंडट्रैक पर अन्य सफल गीत "याराना यार का" और "आज हम तुम ओ सनम" हैं।

साथी
साउंडट्रैक नदीम श्रवण द्वारा
जारी 1991
संगीत शैली फिल्म साउंडट्रैक
लंबाई 41:25
लेबल टी-सीरीज़
निर्माता नदीम श्रवण
नदीम श्रवण कालक्रम

साजन
(1991)
साथी
(1991)
फूल और काँटे
(1991)

सभी नदीम-श्रवण द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."जिंदगी की तलाश में"समीरकुमार सानु5:51
2."हुई आँख नम"नवाब आरज़ूअनुराधा पौडवाल5:04
3."आज हम तुम ओ सनम"समीरजॉली मुखर्जी, अनुराधा पौडवाल4:20
4."याराना यार का"हसरत जयपुरीकुमार सानु, विपिन सचदेव4:01
5."ऐसा भी देखो वक्त"सुरेंद्र साथीकुमार सानु, अनवर हुसैन4:54
6."हर घड़ी बेखुदी"समीरउदित नारायण, अनुराधा पौडवाल5:40
7."मोहब्बत को दुनिया"समीरकुमार सानु, देबाशीष दासगुप्त5:36
8."तेरा नाम सबके लब पे"समीरअनुराधा पौडवाल6:08

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "4 जनवरी: आज आप अपना बर्थडे इनके साथ शेयर कर रहे हैं". द क्विंट (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 30 जून 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साथी इंटरनेट मूवी डेटाबेस पर