जुनून (1992 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जुनून
जुनून.jpg
जुनून का पोस्टर
निर्देशक महेश भट्ट
निर्माता मुकेश भट्ट
लेखक रोबिन भट्ट
अभिनेता राहुल रॉय,
अविनाश वाधवन,
पूजा भट्ट
संगीतकार नदीम श्रवण
प्रदर्शन तिथि(याँ) 18 सितम्बर, 1992
देश भारत
भाषा हिन्दी

जुनून 1992 में बनी हिन्दी भाषा की डरावनी फिल्म है। इसको महेश भट्ट ने निर्देशित किया और मुख्य कलाकार राहुल रॉय, अविनाश वाधवन और पूजा भट्ट हैं। फिल्म सफल रही थी।[1] फिल्म में डराने के लिये मॉर्फिंग का प्रयोग किया गया है।

संक्षेप[संपादित करें]

नीता बॉम्बे, भारत में अपनी मां और पिता के साथ एक मध्यम वर्गीय जीवनशैली जीती है और एक अस्पताल में सर्जन के रूप में काम करती है। वह विवाह योग्य उम्र की है और रवि के नाम के एक संघर्षरत संगीतकार / गायक से प्यार करती है। ये उसकी माँ को पसंद नहीं है, जो चाहती है कि वह किसी ऐसे व्यक्ति से शादी करे जो अमीर हो। एक दिन एक बुरी तरह घायल पुरुष को अस्पताल में भर्ती कराया जाता है। उसे मृत घोषित किया जाता है, लेकिन वो नीता की मदद से ठीक हो जाता है और उसे छुट्टी दी जाती है। वह नीता के घर जाता है, खुद को अमीर विक्रम चौहान के रूप में पेश करता है और उसके माता-पिता से नीता का हाथ माँगता है। वह तुरंत स्वीकार करते हैं। लेकिन नीता रवि से शादी करना चाहती है और उसके साथ भागने की योजना बना रही है। उस दुर्भाग्यपूर्ण दिन, रवि वहाँ आने में नाकाम रहा और टूटे दिल से नीता ने विक्रम से विवाह करने का फैसला किया। विवाह बड़े धूमधाम और समारोह के साथ होता है। जब रवि ने नीता के जीवन में फिर से प्रवेश करने का प्रयास किया, तो उसने उसे मना कर दिया। वह नहीं जानती कि रवि की योजना विक्रम ने खराब की थी और जो वास्तव में दिन के दौरान एक इंसान है और मध्यरात्रि में एक क्रूर आदमखोर बाघ में बदल जाता है - और वह उसका अगला भोजन भी हो सकती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी नदीम-श्रवण द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."वक्त कटे नहीं कटता है"समीरअनुराधा पौडवाल, विपिन सचदेव4:28
2."जो प्यार कर गए" (I)संतोष आनंदकुमार सानु6:50
3."मिलते मिलते हसीन वादियों में"समीरविपिन सचदेव, अनुराधा पौडवाल6:34
4."प्रेम प्रेम ओ मेरी दिलरुबा"समीरएस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम, अनुराधा पौडवाल5:35
5."जो प्यार कर गए" (II)संतोष आनंदअनुराधा पौडवाल4:11
6."जमाने की बुराई मुझ में है सनम"समीरविपिन सचदेव5:41
7."तू मेरा मेहरबान"समीरकविता पौडवाल4:31
8."दीवारों पे लिखा है"सुरेंद्र साथीअनुराधा पौडवाल4:43
9."दीवारों पे लिखा है" (डुएट)सुरेंद्र साथीविपिन सचदेव, अनुराधा पौडवाल4:44
10."आइना आइना तू बता दे जरा"रानी मलिकअनुराधा पौडवाल4:08
11."जो मेरे दिल में है"समीरअनुराधा पौडवाल5:17

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "मुझे मत फॉलो करो, मैं सती-सावित्री नहीं हूं, न कभी बनूंगी: पूजा भट्ट". नवभारत टाइम्स. 21 दिसम्बर 2017. अभिगमन तिथि 6 अगस्त 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]