दुर्गा पूजा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दुर्गा पूजा
दुर्गा पूजा
दुर्गा पूजा
आधिकारिक नाम दुर्गा पूजा
अन्य नाम अकाल बोधन
मनाने वाले हिन्दू
प्रकार हिन्दू
शुरु अश्विन शुक्ल पक्ष की छटी तिथि को[1]
अन्त अश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को[1]
संबन्धित महालय, नवरात्रि, दशहरा
अवधि 5 दिन
आवृत्ति (फ्रीक्वेंसी) वार्षिक
इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

हिन्दू धर्म
पर एक श्रेणी का भाग

Om
इतिहास · देवता
सम्प्रदाय · आगम
विश्वास और दर्शनशास्त्र
पुनर्जन्म · मोक्ष
कर्म · पूजा · माया
दर्शन · धर्म
वेदान्त ·योग
शाकाहार  · आयुर्वेद
युग · संस्कार
भक्ति {{हिन्दू दर्शन}}
ग्रन्थ
वेदसंहिता · वेदांग
ब्राह्मणग्रन्थ · आरण्यक
उपनिषद् · श्रीमद्भगवद्गीता
रामायण · महाभारत
सूत्र · पुराण
शिक्षापत्री · वचनामृत
सम्बन्धित विषय
दैवी धर्म ·
विश्व में हिन्दू धर्म
गुरु · मन्दिर देवस्थान
यज्ञ · मन्त्र
शब्दकोष · हिन्दू पर्व
विग्रह
प्रवेशद्वार: हिन्दू धर्म

HinduSwastika.svg

हिन्दू मापन प्रणाली

दूर्गा पूजा (बांग्ला: দুর্গাপূজা अथवा असमिया: দুৰ্গা পূজা अथवा उड़िया: ଦୁର୍ଗା ପୂଜା , सुनें: , "माँ दूर्गा की पूजा"), जिसे दुर्गोत्सव (बांग्ला: দুর্গোৎসব अथवा उड़िया: ଦୁର୍ଗୋତ୍ସବ , सुनें: , "दुर्गा का उत्सव" के नाम से भी जाना जाता है) अथवा शरदोत्सव दक्षिण एशिया में मनाया जाने वाला एक वार्षिक हिन्दू पर्व है जिसमें हिन्दू देवी दुर्गा की पूजा की जाती है। इसमें छः दिनों को महालय, षष्ठी, महा सप्तमी, महा अष्टमी, महा नवमी और विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है। दुर्गा पूजा को मनाये जाने की तिथियाँ पारम्परिक हिन्दू पंचांग के अनुसार आता है तथा इस पर्व से सम्बंधित पखवाड़े को देवी पक्ष, देवी पखवाड़ा के नाम से जाना जाता है।

दुर्गा पूजा का पर्व हिन्दू देवी दुर्गा की बुराई के प्रतीक राक्षस महिषासुर पर विजय के रूप में मनाया जाता है। अतः दुर्गा पूजा का पर्व बुराई पर भलाई की विजय के रूप में भी माना जाता है।

दुर्गा पूजा भारतीय राज्यों असम, बिहार, झारखण्ड, मणिपुर, ओडिशा, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में व्यापक रूप से मनाया जाता है जहाँ इस समय पांच-दिन की वार्षिक छुट्टी रहती है।[2] बंगाली हिन्दू और आसामी हिन्दुओं का बाहुल्य वाले क्षेत्रों पश्चिम बंगाल, असम, त्रिपुरा में यह वर्ष का सबसे बड़ा उत्सव माना जाता है। यह न केवल सबसे बड़ा हिन्दू उत्सव है बल्कि यह बंगाली हिन्दू समाज में सामाजिक-सांस्कृतिक रूप से सबसे महत्त्वपूर्ण उत्सव भी है। पश्चिमी भारत के अतिरिक्त दुर्गा पूजा का उत्सव दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, कश्मीर, आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक और केरल में भी मनाया जाता है। दुर्गा पूजा का उत्सव 91% हिन्दू आबादी वाले नेपाल और 8% हिन्दू आबादी वाले बांग्लादेश में भी बड़े त्यौंहार के रूप में मनाया जाता है। वर्तमान में विभिन्न प्रवासी आसामी और बंगाली सांस्कृतिक संगठन, संयुक्त राज्य अमेरीका, कनाडा, यूनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, फ्रांस, नीदरलैण्ड, सिंगापुर और कुवैत सहित विभिन्न देशों में आयोजित करवाते हैं। वर्ष 2006 में ब्रिटिश संग्रहालय में विश्वाल दुर्गापूजा का उत्सव आयोजित किया गया।[3]

दुर्गा पूजा की ख्याति ब्रिटिश राज में बंगाल और भूतपूर्व असम में धीरे-धीरे बढ़ी।[4] हिन्दू सुधारकों ने दुर्गा को भारत में पहचान दिलाई और इसे भारतीय स्वतंत्रता आंदोलनों का प्रतीक भी बनाया।


नाम[संपादित करें]

दुर्गापूजा की सप्तमी की सुबह में नबपत्रिका स्नान

बंगाल, असम, ओडिशा में दुर्गा पूजा को अकालबोधन ("दुर्गा का असामयिक जागरण"), शरदियो पुजो ("शरत्कालीन पूजा"), शरोदोत्सब (बांग्ला: শারদোৎসব ("पतझड़ का उत्सव"), महा पूजो ("महा पूजा"), मायेर पुजो ("माँ की पूजा") या केवल पूजा अथवा पुजो भी कहा जाता है। पूर्वी बंगाल (बांग्लादेश) में, दुर्गा पूजा को भगवती पूजा के रूप में भी मनाया जाता है। इसे पश्चिम बंगाल, बिहार, असम, ओडिशा, दिल्ली और मध्य प्रदेश में दुर्गा पूजा भी कहा जाता है।[5]

पूजा को गुजरात, उत्तर प्रदेश, पंजाब, केरल और महाराष्ट्र में नवरात्रि के रूप में[6] कुल्लू घाटी, हिमाचल प्रदेश में कुल्लू दशहरा,[7] मैसूर, कर्नाटक में मैसूर दशहरा,[8] तमिलनाडु में बोमाई गोलू और आन्ध्र प्रदेश में बोमाला कोलुवू के रूप में भी मनाया जाता है।[9]

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा[संपादित करें]

पांडाल में दुर्गा मूर्ति

पतझड़ (शीतकाल) के समय दुर्गा की पूजा बंगाल में सबसे बड़ा हिन्दू पर्व है। दुर्गा पूजा नेपाल और भूटान में भी स्थानीय परम्पराओं और विविधताओं के अनुसार मनाया जाता है। पूजा का अर्थ "आराधना" है और दुर्गा पूजा बंगाली पंचांग के छटे माह अश्विन में बढ़ते चन्द्रमा की छटी तिथि से मनाया जाता है। तथापि कभी-कभी, सौर माह में चन्द्र चक्र के आपेक्षिक परिवर्तन के कारण इसके बाद वले माह कार्तिक में भी मनाया जाता है। ग्रेगोरी कैलेण्डर में इससे सम्बंधित तिथियाँ सितम्बर और अक्टूबर माह में आती हैं।

क्रित्तिबस रामायण में राम, रावण से युद्ध के दौरान देवी दुर्गा को आह्वान करते हैं। यद्यपि उन्हें पारम्परिक रूप से वसन्त के समय पूजा जाता था। युद्ध की आकस्मिकता के कारण, राम ने देवी दुर्गा का शीतकाल में अकाल बोधन आह्वान किया।[10]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Durga Puja Tithi and Timing" [दुर्गा पूजा तिथि और समय] (in अंग्रेज़ी). Retrieved 30 अगस्त 2015.  Check date values in: |access-date= (help)
  2. परमिता बोरा (2 अक्टूबर 2011). "Durga Puja – a Celebration of Female Supremacy [दुर्गा पूजा – महिला प्रभुत्व का उत्सव]" (अंग्रेज़ी में). ईएफ न्यूज़ इंटरनेशनल. http://www.efi-news.com/2011/10/durga-puja-celebration-of-female.html. अभिगमन तिथि: 30 अगस्त 2015. 
  3. सिबा मत्ती (12 सितम्बर 2006). "Durga: Creating An Image Of The Goddess At The British Museum" [दुर्गा: ब्रिटिश संग्राहलय में देवी की तस्वीर बनाते हुये] (in अंग्रेज़ी). कल्चर 24. Retrieved 30 अगस्त 2015.  Check date values in: |access-date=, |date= (help)
  4. "Article on Durga Puja" [दुर्गा पूजा पर लेख] (in अंग्रेज़ी). असम ऑनलाइन पोर्टल. Retrieved 30 अगस्त 2015.  Check date values in: |access-date= (help)
  5. "Regional Names of Durga Puja: Durga Puja / Durga Pujo" [दुर्गा पूजा के क्षेत्रिय नाम: दुर्गा पूजा / दुर्गा पुजो] (in अंग्रेज़ी). durga-puja.org. 2012-10-06. Retrieved 30 अगस्त 2015.  Check date values in: |access-date= (help)
  6. Navratri Puja, Durga-puja.org
  7. Kullu Dussehra, Durga-puja.org
  8. Mysore Dussehra, Durga-puja.org
  9. "Bommai-kolu", Durga-puja.org
  10. "What the epics say - 'Akalbodhan'" (in अंग्रेज़ी). Durga-puja.org. 2012-10-06. Retrieved 30 अगस्त 2015.  Check date values in: |access-date= (help)