अकाल बोधन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
कृत्तिवासी रामायण में वर्णित राम द्वारा दुर्गा की अकाल बोधन का दृश्य; खिदिरपुर वीनस क्लब, कोलकाता, 2010 के पूजामंडप।

अकाल बोधन (बंगाली : অকাল বোধন) देवी के एक अवतार दुर्गा मां की पूजा की जाती है। यह मुख्यतः बंगाल में की जाती है। [1][2][3] अकाल बोधन आश्विन माह में की जाती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 5 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 फ़रवरी 2016.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 3 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 फ़रवरी 2016.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 13 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 फ़रवरी 2016.