अतिशयोक्ति अलंकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

अलंकार चन्द्रोदय के अनुसार हिन्दी कविता में प्रयुक्त एक अलंकार है इसका उदाहरण है:

आगे नदिया पडी अपार, घोड़ा कैसे उतरे पार ।
राणा ने सोचा इस पार, तब तक चेतक था उस पार ।।

(2) :हनुमान की पूछं मे लगन न पाई आग ।

लंका सारी जल गई गए निसाचर भाग ।