रौद्र रस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

रौद्र काव्य का एक रस है जिसमें 'स्थायी भाव' अथवा 'क्रोध' का भाव होता है। धार्मिक महत्व के आधार पर इसका वर्ण रक्त एवं देवता रुद्र है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  उदाहरण

उस काल मारे क्रोध के तन उनका कांपने लगा। मानों हवा के जोर से सोता हुआ सागर जगा।।

    Abhishek tiwari