रोला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रोला एक छन्द है। यह एक सम मात्रिक छंद है। इसमें 24 मात्राएँ होती हैं, अर्थात विषम चरणों में 11-11 मात्राएँ और सम चरणों में 13-13 मात्राएँ। 11वीं व 13 वीं मात्राओं पर यति अर्थात विराम होता है। यति से पूर्व २१ अर्थात् गुरु व लघु तथा अंत में १२ अर्थात् लघु गुरु रखने से सुन्दर लय आती है।

जीती जाती हुई जिन्होंने भारत बाजी । निज बल से बल मेट विधर्मी मुगल कुराजी ।। जिनके आगे ठहर सके जंगी जहाजी । है, ये वही प्रसिद्ध छत्रपति भूप शिवाजी ।। उदाहरण

नीलाम्बर परिधान हरित पट पर सुन्दर है।
२२११ ११२१=११ / १११ ११ ११ २११२ = १३
सूर्य-चन्द्र युग-मुकुट, मेखला रत्नाकर है।
२१२१ ११ १११=११ / २१२ २२११२ = १३
नदियाँ प्रेम-प्रवाह, फूल तारा-मंडल है।
११२ २१ १२१=११ / २१ २२ २११२ = १३
बंदीजन खगवृन्द, शेष-फन सिंहासन है।
२२११ ११२१ =११ / २१११ २२११२ = १३ - मैथिलीशरण गुप्त

✍ Chirag_Lodhi Govt. Exe. Hr. Sec. School Gairatganj dist. Raisen (mp)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]