वक्रोक्ति अलंकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

वक्रोक्ति एक काव्यालंकार है जिसमें काकु या श्लेष से वाक्य का और अर्थ किया जाता है। जहाँ किसी उक्ति का अर्थ जान-बूझकर वक्ता के अभिप्राय से अलग लिया जाता है, वहाँ वक्रोक्ति अलंकार होता है। उदाहरण-

  • (१)
कौ तुम? हैं घनश्याम हम ।
तो बरसों कित जाई॥
  • (२)
मैं सुकमारि नाथ बन जोगू।
तुमहिं उचित तप मो कहँ भोगू ॥

भाषा में वक्रोक्ति निम्नलिखित छः स्तरों पर कार्य करती है-

  • वर्णविन्यास
  • पदपूर्वार्ध
  • पदपरार्ध
  • वाक्य
  • प्रकरण


वक्रोक्ति अलंकार के दो भेद हैं-

  • श्लेषमूला - चिपका अर्थ
  • काकुमूला - ध्वनि-विकार/आवाज में परिवर्तन
श्लेषमूला -
एक कबूतर देख हाथ में पूछा कहाँ अपर है ?
कहा अपर कैसा ? वह उड़ गया सपर है ॥

यहाँ जहाँगीर ने दूसरे कबूतर के बारे में पूछने के लिये "अपर" (दूसरा) उपयोग किया है जबकि उत्तर में नूरजहाँ ने 'अपर' का अर्थ 'अ-पर' अर्थात 'बिना पंख वाला' किया है।

काकुमूला-
आप जाइए तो। -(आप जाइए)
आप जाइए तो?-(आप नहीं जाइए)

इसी तरह,

जाओ मत, बैठो।
जाओ, मत बैठो ।

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]