सोरठा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सोरठा एक मात्रिक छंद है। यह दोहा का ठीक उलटा होता है। इसके विषम चरणों चरण में 11-11 मात्राएँ और सम चरणों (द्वितीय तथा चतुर्थ) चरण में 13-13 मात्राएँ होती हैं। विषम चरणों के अंत में एक गुरु और एक लघु मात्रा का होना आवश्यक होता है। उदाहरण -

जो सुमिरत सिधि होई, गननायक करिवर बदन।
करहु अनुग्रह सोई, बुद्धि रासि सुभ गुन सदन॥

सन्दर्भ[संपादित करें]

शास्त्र सुमत सुमंगल बैन, मन प्रमोद तन उलक भर, ।। शरद सरोरुह नैन , तुलसी भरे स्नेह जल।।