सोरठा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

Ayush Rajput

सोरठा एक मात्रिक छंद है। यह दोहा का ठीक उलटा होता है। इसके विषम चरणों चरण में 11-11 मात्राएँ और सम चरणों (द्वितीय तथा चतुर्थ) चरण में 13-13 मात्राएँ होती हैं। विषम चरणों के अंत में एक गुरु और एक लघु मात्रा का होना आवश्यक होता है। उदाहरण -

जो सुमिरत सिधि होई, गननायक करिवर बदन।
करहु अनुग्रह सोई, बुद्धि रासि सुभ गुन सद
न॥

सन्दर्भ[संपादित करें]

शास्त्र [[श्रेणी:हिन्दी साहित्य] नील सरोरूह स्याम तरुन अरुन बारिज नयन कराऊँ सो मम उर धाम, सदा छीरसागर सयन