अपह्नुतिअलंकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(अपन्हुति अलंकार से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

जहां उपमेय (संज्ञा) का निषेध करके उपमान (सर्वनाम) की स्थापना की जाए, वहां अपह्नुति अलंकार होता है। यथा- मैं जो कहा रघुवीर कृपाला। बंधु न होइ मोर यह काला।। यहां भाई को भाई न कहकर काल शब्द पर विशेष बल दिया गया है। अतः यहां अपह्नुति अलंकार है।

अन्य उदाहरण- नेत्र नहीं पद्म (नील कमल) हैं। रस्सी नहीं सर्प है।

इस प्रकार ऐसे अलंकरणों से सज्जित छंदादि अपह्नुति अलंकार के अन्दर आते हैं।