युक्तिभाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गणितयुक्तिभाषा अथवा युक्तिभाषा (मलयालम: യുക്തിഭാഷ) मलयालम भाषा में लिखित गणित एवं ज्योतिष का ग्रंथ है। इसकी रचना भारत के गणितज्ञ एवं ज्योतिषाचार्य ज्येष्ठदेव ने सन् १५३० के आसपास की थी।[1] प्राचीन प्रथा से हटकर यह ग्रंथ पद्य के बजाय गद्य में और संस्कृत के बजाय मलयालम में लिखा गया है। इसके अलावा इसमें सिद्धि (proof) भी दी गयी हैं। भारतीय गणितसाहित्य में 'युक्ति' से तात्पर्य सिद्धि या 'प्रूफ' (proof) है।[2]

यह ग्रंथ कैलकुलस का प्रथम ग्रंथ कहलाने का अधिकारी है।

गणितयुक्तिभाषा (संस्कृत में)[संपादित करें]

मलयालम में ज्येष्ठदेव द्वारा रचित 'युक्तिभाषा' के अलावा संस्कृत में भी 'युक्तिभाषा' नाम से एक गणित-ग्रन्थ विद्यमान है। इसके रचयिता के बारे में कुछ भी पता नहीं है। किन्तु लगता है कि यह मलयालम युक्तिभाषा के बाद की रचना है।

संरचना[संपादित करें]

गणितयुक्तिभाषा में ज्या नियम (sine rule) की व्याख्या

ग्रन्थ के प्रथम भाग गणित से सम्बन्धित है, जिसमें निम्नलिखित अध्याय हैं-

  • परिक्रमा (Logistics),
  • दसप्रश्न
  • भिन्नगणित (fractions),
  • त्रैराशिक (rule of three),
  • कुट्टकर (linear indeterminate equations),
  • परिधि तथा व्यास (वृत्त की परिधि तथा व्यास के अनुपात का अनन्त श्रेणियों द्वारा निरूपण
  • ज्यानयान (ज्या के सन्निकटन तथा अनन्त श्रेणियाँ)

ग्रन्थ के द्वितीय भाग गणित ज्योतिष से सम्बन्धित है। इसके अन्तर्गत निम्नलिखित अध्याय हैं-

  • ग्रहगति (ग्रहों के माध्य देशानतर एवं वास्तविक देशान्तर की गणना)
  • भगोलै (celestial sphere),
  • पञ्चदशप्रश्न (fifteen problems relation to right ascension, declination etc.),
  • छायागणित (gnomonic determination of place, time and direction),
  • ग्रहण
  • व्यातिपात (when sun and moon have the same declination),
  • दृक्कर्म (reduction to observation) तथा
  • चन्द्रशृंगोन्नति (phases of moon).

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. के॰वी॰ शर्मा; एस हरिहरण (1991). "Yuktibhāṣā of Jyeṣṭhadeva: A book on rationales in Indian Mathematics and Astronomy: An analytic appraisal" (पीडीएफ़). इण्डियन जरनल ऑफ़ हिस्ट्री ऑफ़ साईंस 26 (2). Archived from the original on 2006-09-28. http://web.archive.org/web/20060928203221/http://www.new.dli.ernet.in/insa/INSA_1/20005ac0_185.pdf. 
  2. "The Kerala School, European Mathematics and Navigation" (अंग्रेज़ी में). इण्डियन मैथेमेटिक्स. डी॰पी॰ अग्रवाल — इन्फीनीटी फाउंडेशन. http://www.infinityfoundation.com/mandala/t_es/t_es_agraw_kerala.htm. अभिगमन तिथि: १८ अप्रैल २०१४. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]