ग्रैंड ट्रंक रोड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ग्रैंड ट्रंक रोड
उत्तरपथ
سڑک اعظم
Route of grand trunk road.png
मार्ग की जानकारी
विस्तार: २५०० किलोमीटर
अस्तित्व: पुरातनता-वर्तमान
साम्राज्य
मौर्य राजवंश 
शेर शाह सूरी ·मुग़ल साम्राज्य
ब्रिटिश राज 
देश
Flag of बांग्लादेश बांगलादेश 
Flag of भारत भारत ·Flag of पाकिस्तान पाकिस्तान
Flag of अफ़्गानिस्तान अफ़ग़ानिस्तान 
मार्ग
पूर्वी छोर: चटगाँव 
नारायणगंज ·हावड़ा ·बर्धमान ·पानागड़ ·दुर्गापुर ·आसनसोल 
धनबाद ·औरंगाबाद ·डेहरी आन सोन ·सासाराम 
मोहानिया ·मुग़लसराय ·वाराणसी ·इलाहाबाद ·कानपुर ·
कलियाणपुर ·कन्नौज ·एटा ·अलीगढ़ ·ग़ाज़ियाबाद 
दिल्ली ·पानीपत ·करनाल ·अम्बाला ·लुधियाना ·जलंधर 
अमृतसर ·वाघा ·लाहौर ·गुजरांवाला ·गुजरात ·झेलम 
रावलपिंडी ·अटक ·नॉशेरा ·पेशावर ·ख़ैबर दर्रा ·जलालाबाद 
पश्चिमी छोर: काबुल 
इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

ग्रैंड ट्रंक रोड, दक्षिण एशिया के सबसे पुराने एवं सबसे लम्बे मार्गों में से एक है। दो सदियों से अधिक काल के लिए इस मार्ग ने भारतीय उपमहाद्वीप के पूर्वी एवं पश्चिमी भागों को जोड़ा है। यह हावड़ा के पश्चिम में स्थित बांगलादेश के चटगाँव से प्रारंभ होता है और लाहौर (पाकिस्तान) से होते हुए अफ़ग़ानिस्तान में काबुल तक जाता है। पुराने समय में इसे, उत्तरपथ,शाह राह-ए-आजम,सड़क-ए-आजम और बादशाही सड़क के नामों से भी जाना जाता था।
यह मार्ग, मौर्य साम्राज्य के दौरान अस्तित्व में था और इसका फैलाव गंगा के मुँह से होकर साम्राज्य के उत्तर-पश्चिमी सीमा तक हुआ करता था[1] । आधुनिक सड़क की पूर्ववर्ती का पुनःनिर्माण शेर शाह सूरी द्वारा किया गया था[2]। सड़क का काफी हिस्सा १८३३-१८६० के बीच ब्रिटिशों द्वारा उन्नत बनाया गया था[3]

इतिहास[संपादित करें]

सदियों के लिए, ग्रांड ट्रंक रोड का, एक प्रमुख व्यापार मार्ग के रूप में इस्तेमाल किया गया है। इतिहास में विभिन्न अवधियों के दौरान इस मार्ग को अलग-अलग नामों से बुलाया जाता था। चार मुख्य साम्राज्यों ने इसका विस्तार एवं व्यापार के लिए उपयोग किया:

उत्तरपथ[संपादित करें]

यह नाम इसे मौर्य साम्राज्य के वक्त दिया गया था। उत्तरपथ, संस्कृत भाषा का शब्द है जिसका साहित्यिक अर्थ है- 'उत्तर दिशा की ओर जाने वाला मार्ग'। यह मार्ग गंगा नदी के किनारे की बगल से होते हुए, गंगा के मैदान के पार, पंजाब के रास्ते से तक्षशिला को जाता था। इस रास्ते का पूर्वी छोर तमलुक में था जो गंगा नदी के मुहाने पर स्थित एक शहर है। भारत के पूर्वी तट पर समुद्री बंदरगाहों के साथ समुद्री संपर्कों में वृद्धि की वजह से मौर्य साम्राज्य के काल में इस मार्ग का महत्व बढा और इसका व्यापार के लिए उपयोग होने लगा। बाद में, उत्तरपथ शब्द का प्रयोग पूरे उत्तर मार्ग के प्रदेश को दर्शाने के लिए किया जाने लगा[4]

ब्रिटिश राज के दौरान अंबाला छावनी से एक दृश्य।

हाल में हुआ संशोधन यह दर्शाता है कि, मौर्य साम्राज्य के कालावधि में, भारत और पश्चिमी एशिया के कई भागों और हेलेनिस्टिक दुनिया के बीच थलचर व्यापार, उत्तर-पश्चिम के शहरों मुख्यतः तक्षशिला के माध्यम से होता था। तक्षशिला, मौर्य साम्राज्य के मुख्य शहरों से, सड़कों द्वारा अच्छी तरह से जुडा हुआ था। मौर्य राजाओं ने पाटलिपुत्र (पटना) को ज़ोडने के लिए तक्षशिला से एक राजमार्ग का निर्माण किया था। चंद्रगुप्त मौर्य ने यूनानी राजनयिक मेगस्थनीज की आज्ञा से इस राजमार्ग के रखरखाव के लिए अपने सैनिकों को विविध जगहों पर तैनात किया था। आठ चरणों में निर्मित यह राजमार्ग, पेशावर, तक्षशिला, हस्तिनापुर,कन्नौज, प्रयाग, पाटलिपुत्र और ताम्रलिप्त के शहरों को ज़ोडने का काम करता था।

सड़क-ए-आजम[संपादित करें]

१६ वीं सदी में, इस मार्ग का ज्यादातर भाग शेर शाह सूरी द्वारा नए सिरे से पुनर्निर्मित किया गया था। सड़क-ए-आजम, शब्द का साहित्यिक अर्थ है- 'प्रधान सड़क'। अफगान सम्राट, शेर शाह सूरी ने संक्षिप्त अवधि के लिए ज्यादातर उत्तरी भारत पर शासन किया था। उसके मुख्य दो उद्देश्य थे-

पर कम समय में ही शेर शाह सूरी का देहांत हो गया और सड़क-ए-आजम उनके नाम पर समर्पित कर दी गई। आगे जाकर मुगल सम्राटों ने यह मार्ग पश्चिम में ख़ैबर दर्रे को पार कर काबुल तक और पूर्व में बंगाल के चटगाँव बंदरगाह तक बढ़ाया।

ग्रैंड ट्रंक रोड[संपादित करें]

१७ वीं सदी में इस मार्ग का ब्रिटिश शासकों ने पुनर्निर्माण किया और इसका नाम बदलकर ग्रैंड ट्रंक रोड कर दिया। अभी यह मार्ग ज्यादतर उत्तर भारत को जोडता है। ब्रिटिश इस मार्ग को लाँग रोड (long road) भी कहते थे।

कोस मीनार[संपादित करें]

शेर शाह सूरी के जमाने में सड़कों को नियमित अंतराल पर बिंदीदार किया जाता था और पेड़ सड़क के किनारे पर लगाए जाते थे। यात्रियों के लिए विविध जगहों पर कुओं का पानी उपलब्ध कराया गया था। इस सड़क के किनारे हर कोस पर मीनारें बनवाई गई थीं। कई मीनारें आज भी सुरक्षित हैं तथा इन्हें दिल्ली-अंबाला राजमार्ग पर देखा जा सकता है। आजकल इन्हें सुरक्षित स्मारक घोषित किया गया है तथा पुरातत्व विभाग इनकी देखरेख करता है।


सदियों के लिए, ग्रैंड ट्रंक रोड एक महत्वपूर्ण व्यापार मार्ग रहा है। इस मार्ग का उपयोग व्यापार एवं डाक संचार के लिए किया जाता था। दूसरी तरफ, इस सड़क ने सैनिकों और विदेशी आक्रमणकारियों के तीव्र आंदोलन में मदद की, अफगान और फारसी आक्रमणकारियों के भारत के आंतरिक क्षेत्रों में, लूटपाट छापे में तेजी लाई और बंगाल से उत्तर भारत के मैदान में ब्रिटिश सैनिकों की आवाजाही में मदद की।

वर्तमान प्रारूप[संपादित करें]

वर्तमान में इस मार्ग को विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्गों में बाँटा गया है। आज, ग्रांड ट्रंक रोड (जीटी रोड) की लंबाई २५०० किलोमीटर है। यह मार्ग बांगलादेश से शुरु होकर अफ़ग़ानिस्तान में समाप्त होता है।

बांगलादेश[संपादित करें]

इस मार्ग का आरंभ चटगाँव शहर से होता हैं और नारायणगंज जिले से होते हुए भारत में प्रवेश करता है।

भारत[संपादित करें]

भारत में यह मार्ग हावड़ा, बर्धमान, पानागड़, दुर्गापुर, आसनसोल, धनबाद, औरंगाबाद, डेहरी आन सोन, सासाराम, मोहानिया, मुग़लसराय, वाराणसी, इलाहाबाद, कानपुर, कलियाणपुर, कन्नौज, एटा, अलीगढ़, ग़ाज़ियाबाद, दिल्ली, पानीपत, करनाल, अम्बाला, लुधियाना, जलंधर और अमृतसर से जाता है। भारत में इस मार्ग को काफी जगहों पर राष्ट्रीय राजमार्गों में बदला गया है।

ग्रांड ट्रंक रोड का इस्लामाबाद से दृश्य

राष्ट्रीय राजमार्ग १[संपादित करें]

अमृतसर से दिल्ली तक के खण्ड को राष्ट्रीय राजमार्ग १ नामित किया गया है। हरियाणा और पंजाब राज्यों से यह मार्ग निकलता है।

राष्ट्रीय राजमार्ग २[संपादित करें]

हावड़ा से कानपुर तक के खण्ड को राष्ट्रीय राजमार्ग २ नामित किया गया है।

राष्ट्रीय राजमार्ग ९१[संपादित करें]

दिल्ली और वाघा तक के खण्ड को राष्ट्रीय राजमार्ग ९१ नामित किया गया है। वाघा के पार यह मार्ग पाकिस्तान में जाता है।

पकिस्तान[संपादित करें]

पाकिस्तान की सीमा से यह मार्ग लाहौर, गुजरांवाला, गुजरात, झेलम, रावलपिंडी, अटक, नॉशेरा और पेशावर से जाता है।

अफ़ग़ानिस्तान[संपादित करें]

अफ़ग़ानिस्तान में यह मार्ग ख़ैबर दर्रा से शुरु होता है और जलालाबाद, सुरोबि से होते हुए काबुल में जाकर समाप्त होता है। इस मार्ग का ज्यादातर भाग जलालाबाद-काबुल राजमार्ग का हिस्सा है।

दीर्घिका[संपादित करें]

साहित्य[संपादित करें]

Look! Brahmins and chumars, bankers and tinkers, barbers and bunnias, pilgrims -and potters - all the world going and coming.It is to me as a river from which I am withdrawn like a log after a flood. And truly the Grand Trunk Road is a wonderful spectacle. It runs straight, bearing without crowding India's traffic for fifteen hundred miles - such a river of life as nowhere else exists in the world.

इसका हिंदी में अर्थ-

देखिये! ब्राह्मण और चमार, बैंकर और टिन से मढ़नेवाले, नाई और बनिये, तीर्थ यात्री और कुम्हार- पूरी दुनिया यहाँ से आ-जा रहे हैं। सही मायने में ग्रैंड ट्रंक रोड एक अद्भुत दृश्य है। ऐसा मार्ग दुनिया में कहीं नहीं मिलेगा, जो पंद्रह सौ मील की दूरी के लिए भारत की यातायात भीड़ से बेअसर सीधा चलता है। यहाँ हमें जीवन की नदी का बहाव देखने का अनुभव मिलता है।


संदर्भ[संपादित करें]

  1. के.एम. सरकार (१९२७). पंजाब में ग्रैंड ट्रंक रोड: १८४९-१८८६. Atlantic Publishers & Distri. pp. २–. GGKEY:GQWKH1K79D6. http://books.google.com/books?id=qFdJbRywbKwC&pg=PA2. 
  2. Chaudhry, Amrita (27 May 2012). "Cracks on a historical highway". The Indian Express. Archived from the original on 22 May 2013. http://web.archive.org/web/20130522025746/http://www.indianexpress.com/news/cracks-on-a-historical-highway/954273/0. 
  3. David Arnold (historian); Science, technology, and medicine in colonial India (New Cambr hist India v.III.5) Cambridge University Press, 2000, 234 pages p.106
  4. ७ वा पूस्तक (१९९७). ग्रैंड ट्रंक रोड. 
  5. A description of the road by Kipling, found both in his letters and in the novel "Kim". He writes: "Look! Brahmins and chumars, bankers and tinkers, barbers and bunnias, pilgrims -and potters - all the world going and coming. It is to me as a river from which I am withdrawn like a log after a flood. And truly the Grand Trunk Road is a wonderful spectacle. It runs straight, bearing without crowding India's traffic for fifteen hundred miles - such a river of life as nowhere else exists in the world."

बाहरी कडियाँ[संपादित करें]