सासाराम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सासाराम
—  शहर  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य बिहार
ज़िला रोहतास
सांसद मीरा कुमार
जनसंख्या १३१०४२ (२००१ के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• १०१ मीटर

Erioll world.svgनिर्देशांक: 24°57′N 84°02′E / 24.95°N 84.03°E / 24.95; 84.03 सासाराम भारत प्रांत के बिहार राज्य का एक शहर है जो रोहतास जिले में आता है। यह रोहतास जिले का मुख्यालय भी है। इसे 'सहसराम' भी कहा जाता है। सूर वंश के संस्थापक अफ़ग़ान शासक शेरशाह सूरी का मक़बरा सासाराम में है और देश का प्रसिद्ध 'ग्रांड ट्रंक रोड' भी इसी शहर से होकर गुज़रता है।[1] [2] [3] सहसराम के समीप एक पहाड़ी पर गुफ़ा में अशोक का लघु शिलालेख संख्या एक उत्कीर्ण है।[4]

इतिहास[संपादित करें]

अफ़ग़ान शेरशाह सूरी का बाल्यकाल यहीं बीता था। शेरशाह सूरी ने युवा होने पर सहसराम में 21वर्षों तक सफल शासन व्यवस्था कायम की। सहसराम उसके पिता की जागीर थी। इस समय का उसका सबसे महत्त्वपूर्ण काम लगान सम्बन्धी एक श्रेष्ठ व्यवस्था की स्थापना करना था।

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

सहसराम में शेरशाह सूरी का शानदार मक़बरा बना हुआ है। इसे स्वयं शेरशाह सूरी ने अपने जीवन काल में बनवाया था। यह अपने समय की कला का श्रेष्ठतम नमूना है। एक विशाल झील के मध्य उठे हुए चबूतरे पर बना यह मक़बरा उसके 'व्यक्तित्व का प्रतीक' है। यह तुग़लक़ बादशाहों की इमारतों की सादगी और शाहजहाँ की इमारतों की स्त्रियोचित सुन्दरता के बीच की कड़ी है। यह भवन अपनी परिकल्पना में इस्लामी पर इसका भीतरी भाग हिन्दू वास्तुकला से सजाया-सँवारा गया है। इसे उत्तर भारत की श्रेष्ठ इमारतों में से एक कहा गया है। इस पर हिन्दू और इस्लामी कला का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है। वस्तुतः अकबर के राज्यकाल के पूर्व हिन्दू-मुस्लिम स्थापत्य के समंवय का सबसे सुन्दर नमूना शेरशाह का मक़बरा है।

शिक्षा[संपादित करें]

यहा कई विद्यालय है |उनमे से कुछ है:-

  • मिलन मदिर क्लब, जनि बाजार, सासाराम

यहाँ चार मुख्य महाविद्द्यालय हैं :-1. एस पी जैन महाविद्यालय 2. श्री शंकर महाविद्द्यालय 3. शेरशाह सूरी महाविद्द्यालय और 4.महिला महाविद्दालय

आवागमन[संपादित करें]

देश का प्रसिद्ध 'ग्रांड ट्रंक रोड' भी इसी शहर से होकर गुज़रता है। यह शहर स्टेट हाइवे से आरा-पटना और बक्सर से सीधे जुडा है . ग्रांड ट्रंक रोड से पूर्व में कोलकाता और पश्चिम में बनारस , इलाहबाद , कानपूर , दिल्ली से सीधे जुड़ा है . ग्रैंड कोर्ड रेल लाइन इस शहर से गुजरती है .अर्थात सड़क और रेल दोनों मार्गों से जुदा है .

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]