सिंगरौली ज़िला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सिंगरौली ज़िला
Singrauli district
मानचित्र जिसमें सिंगरौली ज़िला Singrauli district हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : वैढ़न
क्षेत्रफल : 5,672 किमी²
जनसंख्या(2011):
 • घनत्व :
11,78,132
 210/किमी²
उपविभागों के नाम: ब्लॉक
उपविभागों की संख्या: ?
मुख्य भाषा(एँ): हिन्दी


सिंगरौली ज़िला भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक ज़िला है। ज़िले का मुख्यालय वैढ़न है।[1][2]

विवरण[संपादित करें]

ज़िले को 24 मई 2008 को सीधी ज़िले सेे अलग कर जिला बनाया गया था। कोयला उत्पादन के लिए प्रसिद्ध एवंं कोयले की मोटी परत पाई जाती है। यह मध्य प्रदेश की ऊर्जा राजधानी है। यहाँ लाल काली मिट्टी भी पाई जाती है। ज़िला बघेेलखण्ड केे अन्तर्गत आता हैं। भारत की स्थानीय मानक समय रेखा (L.S.T.) 82.5 पूर्व देशांतर रेखा स्पर्श करती हैं। बरिगवां मे हिन्डाल्को का कारखाना हैै जो एल्यूूमीनियम का उत्पादन करता है। सिंगरौली जिले में भारत की सबसे बड़ी विद्युत संयंत्र कंपनी एनटीपीसी 1975 में स्थापित की गई है।

आदर्श स्थल:-[संपादित करें]

मारा की गुफा प्रागैतिहासिक कालीन स्थल है। देवसर की पहाड़ी इसी जिले मे है। विंध्यानगर मे N.T.P.C. प्लान्ट के अंदर प्रसिद्ध पार्क है।

शिक्षा[संपादित करें]

सिंगरौली शिक्षा के मामले में मप्र के सबसे पिछड़े जिलों में शामिल है

सिंगरौली के शासक[संपादित करें]

सिंगरौली के राजा रूद्र प्रताप सिंह खैरवार ठाकुर(बेनबंश राजपूत) जिन्हे ब्रिटिश सरकार से गहरवार एस्टेट की कमिशनर नियाकत किया गया और अंगरेजो (ब्रिटिश सरकार) का सीक बाबाकायदा मालिकाना मिल्था रहा क्यो की उस समय के क्षत्रिय राजपूत ज्यादा समय अपने राज्य की सुरक्षा में देते इसलिए आज राजा रूद्र प्रताप सिंह (खैरवार) को लोग नही जानते हैं। जबकी नौ जनन उनका सिंगरौली (अवध का हिस्सा) मे राज्य काल था एवं उनके वंशज राजा बाबा बैढ़न मे एवं बाबा शाहब पिपरहरा सोनभद्र में है जो कलचुरी वंश से संबंधित है एवं वीणा सिंह की शादी 70 के दशक में सिंगरौली जिले के राजघराने मे बीपी सिंह (राजा बाबा) से हुई थी । राजा बाबा के पास स्टेट गहरवार के नाम से 1500 गाँव की रियासत थी राजा बाबा 2013 में सिंगरौली से विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं। 1998 मे वह माइनिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। एवं वीणा सिंह के बेटे ऐश्वर्य सिंह की शादी नेपाल राजघराने से संबद्ध रही देवयानी राणा से हुई है।Aaaj bhi Rajgharane ke log kohraul namak gaun me rahte hai


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Inde du Nord: Madhya Pradesh et Chhattisgarh Archived 3 जुलाई 2019 at the वेबैक मशीन.," Lonely Planet, 2016, ISBN 9782816159172
  2. "Tourism in the Economy of Madhya Pradesh," Rajiv Dube, Daya Publishing House, 1987, ISBN 9788170350293