रूपबद्ध विज्ञान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

'रूपबद्ध विज्ञान जिसे औपचारिक विज्ञान भी कहा जाता है, औपचारिक निकायों का अध्ययन है जैसे तर्कशास्त्र, गणित, सांख्यिकी, सैद्धांतिक संगणक विज्ञान, सूचना सिद्धांत, खेल सिद्धांत, निकाय सिद्धान्त, निर्णय सिद्धांत और भाषाविज्ञान के कुछ अंश।

इतिहास[संपादित करें]

रूपबद्ध विज्ञान का विकास वैज्ञानिक विधियों की शुरुआत से भी पहले आरम्भ हो गया था जिसका सबसे प्राचीन गणितीय विषय 1800 ई॰ पूर्व (बेबीलोन गणित), 1600 ई॰ पूर्व (मिस्त्र गणित) और 1000 ई॰ पूर्व (भारतीय गणित) मिलते हैं।

विज्ञान के अन्य रूपों से असमानता[संपादित करें]

हिन्दी अनुवाद:- एक कारण गणित को, अन्य सभी विज्ञान सम्बंधि विषयों से विशेष सम्मान प्राप्त है यह है कि इसके नियम और सिद्धान्त, निर्विवाद और पूर्णतया निश्चित हैं जबकि अन्य विज्ञान विषयों में ये कुछ हद तक नव आविष्कारित तथ्यों द्वारा रद्द किये जाने की सम्भावना के साथ और विवादास्पद हो सकते हैं।

ये भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. अल्बर्ट आइंस्टीन (1923). "ज्यामिति और अनुभव (Geometry and Experience)". आपेक्षिकता पर पाशर्व-रोशनी (Sidelights on relativity). कूरियर डोवर प्रकाशन (Courier Dover Publications). पृ॰ 27. डोवर द्वारा पुनर्प्रकाशित (2010), ISBN 978-0-486-24511-9.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]