प्रवेशद्वार:विज्ञान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इस विषय की विषय रूपरेखा के लिए विज्ञान की रूपरेखा देखें।

मुख्य पृष्ठ   श्रेणियां और मुख्य विषय   प्रवेशद्वार और विकिपरियोजना   आप क्या-क्या कर सकते हैं!
सम्पादन
विज्ञान प्रवेशद्वार

विज्ञान प्रकृति का व्यवस्थित अध्ययन है जिसके माध्यम से परीक्षण योग्य स्पष्टीकरण और पूर्वानुमान प्राप्त होता है। अरस्तु द्वारा दी गयी विज्ञान की प्राचीन परिभाषा इसके वर्तमान अर्थ के समानार्थक है। इसके अनुसार "विज्ञान" विश्वसनीय ज्ञान का वह भाग है जो तार्किक और चेतन्य भाव से समझाया जा सकता हो।

प्राचीनकाल में विज्ञान उस ज्ञान का एक प्रकार था जो दर्शनशास्त्र के बारीकी से जुड़ा हुआ है। पाश्चात्य देशों में आधुनिक काल के पूर्वार्द्ध तक शब्दों "विज्ञान" और "दर्शनशास्त्र" को एक दूसरे के स्थान पर काम में लिया जाता था। १७वीं सदी तक प्राकृतिक दर्शन ही दर्शनशास्त्र की अलग शाखा के रूप में विकसित होने लग गयी। इसे आज "प्राकृतिक विज्ञान" के नाम से जाना जाता है। "विज्ञान" निरंतर ज्ञान के विश्वसनीय तथ्यों को निरूपित करने लग गयी; अतः आधुनिककाल में भी राजनीति विज्ञान अथवा पुस्तकालय विज्ञान जैसे शब्द प्रचलन में हैं।

आज, "विज्ञान" शब्द केवल ज्ञान को नहीं बल्कि ज्ञान की खोज को निरूपित करता है। यह अक्सर "प्राकृतिक और भौतिक विज्ञान" के पर्याय के रूप में और भौतिक जगत एवं इसके नियमों के अनुसार घटित होने वाली घटनाओं की शाखाओं तक प्रतिबन्धित किया जाता है। यद्यपि इस शब्द के अनुसार इसमें विशुद्ध गणित को शामिल नहीं किया जा सकता लेकिन विभिन्न विश्वविद्यालय गणित विभाग को भी विज्ञान संकाय में शामिल करते हैं। साधारण रूप से प्रयुक्त शब्दों में "विज्ञान" शद्ब का प्रयोग बहुत ही संकीर्ण रूप से होता है। इसका विकास प्राकृतिक नियमावली को परिभाषित करने वाले कार्यों के एक भाग के रूप में हुआ; इसके शुरूआती उदाहरणों में केप्लर के नियम, गैलीलियो के नियम और न्यूटन के नियमों को शामिल किया जाता है। वर्तमान समय में प्राकृतिक दर्शन को भी प्राकृतिक विज्ञान के रूप में उल्लिखीत करना आम प्रचलन हो गया है। १९वीं सदी में विज्ञान मुख्य रूप से भौतिकी, रसायनिकी, भौमिकी और जीव विज्ञान सहित प्राकृतिक विश्व के नियमबद्ध अध्ययन से सम्बद्ध हो गयी।

विज्ञान के बारे में और अधिक...

निर्वाचित लेख

अल्बर्ट आइंस्टीन के लिए USSR का पोस्ट स्टेम्प
विशिष्ट आपेक्षिकता सिद्धांत गतिशील वस्तुओं में वैद्युतस्थितिकी पर अपने शोध-पत्र में अल्बर्ट आइंस्टीन ने १९०५ में प्रस्तावित जड़त्वीय निर्देश तंत्र में मापन का एक भौतिक सिद्धांत दिया। गैलीलियो गैलिली ने अभिगृहीत किया था कि सभी समान गतियाँ सापेक्षिक हैं और यहाँ कुछ भी निरपेक्ष नहीं है तथा कुछ भी विराम अवस्था में भी नहीं है, जिसे अब गैलीलियो का आपेक्षिकता सिद्धांत कहा जाता है। आइंस्टीन ने इस सिद्धांत को विस्तारित किया, जिसके अनुसार प्रकाश का वेग निरपेक्ष व नियत है, यह एक ऐसी घटना है जो माइकलसन-मोरले के प्रयोग में हाल ही में दृष्टिगोचर हुई थी। उन्होने एक अभिगृहीत यह भी दिया कि यह सभी भौतिक नियम, यांत्रिकी व स्थिरवैद्युतिकी के सभी नियमों, वो जो भी हों, समान रहते हैं। इस सिद्धांत के परिणामों की संख्या वृहत है जो प्रायोगिक रूप से प्रेक्षित हो चुके हैं, जैसे- समय विस्तारण, लम्बाई संकुचन और समक्षणिकता। इस सिद्धांत ने निश्चर समय अन्तराल जैसी अवधारणा को बदलकर निश्चर दिक्-काल अन्तराल जैसी नई अवधारणा को जन्म दिया है। इस सिद्धांत ने क्रन्तिकारी द्रव्यमान-ऊर्जा सम्बन्ध E=mc2  दिया, जहां c निर्वात में प्रकाश का वेग है, यह सूत्र इस सिद्धांत के दो अभिगृहीतों सहित अन्य भौतिक नियमों का सयुंक्त रूप से व्युत्पन है। आपेक्षिकता सिद्धांत की भविष्यवाणियाँ न्यूटनीय भौतिकी के परिणाम को सहज ही उल्लेखित करते हैं।

क्या आप जानते हो?

by Jon Lomberg

विज्ञान समाचार

असफल स्पेस-एक्स सीआरएस-७

निर्वाचित चित्र

चाँद की ओर गतिशील अपोलो १७ देखा गया पृथ्वी का दृश्य।
श्रेय : पृथ्वी विज्ञान और छवि विश्लेषण प्रयोगशाला, नासा
चाँद की ओर गतिशील अपोलो १७ देखा गया पृथ्वी का दृश्य।

वैज्ञानिक जीवनी

१९२१ में आइन्स्टाइन
आइन्स्टीन एक सैद्धांतिक भौतिकविद् थे। वे सापेक्षता के सिद्धांत और द्रव्यमान-ऊर्जा समीकरण E = mc2 के लिए जाने जाते हैं।