याराना (1995 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
याराना
याराना.jpg
याराना का पोस्टर
निर्देशक डेविड धवन
निर्माता यूसुफ भट्ट
रीमा राकेश नाथ
लेखक रीमा राकेश नाथ
अभिनेता ऋषि कपूर,
माधुरी दीक्षित,
राजबब्बर,
कादर ख़ान
संगीतकार अनु मलिक
प्रदर्शन तिथि(याँ) 20 अक्तूबर, 1995
देश भारत
भाषा हिन्दी

याराना डेविड धवन द्वारा निर्देशित 1995 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसमें ऋषि कपूर, माधुरी दीक्षित, राज बब्बर, कादर खान और शक्ति कपूर मुख्य भूमिकाओं में है। ये जूलिया राबर्ट्स अभिनीत स्लीपिंग विद द एनीमी (1991) की रीमेक है। इसके बाद जारी हुई मनीषा कोइराला अभिनीत अग्नि साक्षी (1996) और जूही चावला अभिनीत दरार (1996) भी इसी पर आधारित थीं।

संक्षेप[संपादित करें]

कहानी ललिता (माधुरी दीक्षित) पर केन्द्रित है, जो कि एक सुंदर कलाकार है जो जेबी (राजबब्बर) की नजर में आती है। जेबी दुष्ट हिंसक प्रभावशाली व्यक्ति है जो ललिता के पिता को शादी की सहमति देने के लिए अपनी संपत्ति का उपयोग करता है। जब ललिता ने मना कर दिया, जेबी ने उसका अपहरण कर लिया और शादी तक उसे अपने घर में कैद कर दिया। हालाँकि, वह शादी के दिन बेहोश होने का नाटक कर भागने में सफल होती है।

ललिता बाँके (शक्ति कपूर) से टकरा जाती है, जो थिएटर मास्टर है और वो उसके साथ काम करना शुरू कर देती है। बाँके के मित्र राज (ऋषि कपूर) को अपने दादा राय साहेब (कादर खान) को संतुष्ट करने के लिए नकली प्रेमिका की जरूरत है, जो जोर देते हैं कि वह जल्द ही घर बसा ले। बाँके ललिता को राज के घर भेजता है जहां वह सबको बताती है कि उसका नाम शिखा है। समय के साथ, राज और ललिता प्यार में पड़ते हैं।

दुर्भाग्य से, जेबी अभी भी ललिता की तलाश में है। वह नर्सिंग होम में उसकी अंधी चाची को पाता है और जब वह ललिता के ठिकाने को बताने से इंकार कर देती है तो उसे मार देता है। किस्मत से उसे पता लगता है कि ललिता बाँके के साथ काम कर रही है। जेबी ने बाँके को मार दिया और ललिता के पिता के साथ राज के घर पहुँचा। वह राज और उसके दादा से कहता है कि वह ललिता का पति है और वह उससे दूर भाग गई थी। जेबी और उसके पिता ललिता को बाहर खींचते हैं। वापस जेबी के घर पर ललिता ने जेबी को चाकू से भोंक दिया। इस बीच, राज बाँके के मृत शरीर को पाता है और महसूस करता है कि कुछ गड़बड़ है। वह ललिता की हत्या करने से जेबी को रोकने के लिए समय पर जेबी के घर पहुँचता है। आगामी लड़ाई में, जेबी मारा गया।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी अनु मलिक द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."मेरा पिया घर आया"माया गोविंदकविता कृष्णमूर्ति6:13
2."दिल लोये लोये आजा माही"राहत इन्दौरीकविता कृष्णमूर्ति5:44
3."जादू जादू जादू चारों तरफ"रानी मलिकउदित नारायण, सपना मुखर्जी6:20
4."नूरानी चेहरेवाले दिलवाले"अनवर सागरकविता कृष्णमूर्ति6:11
5."रब्बी रे रल्ली"रानी मलिकउदित नारायण, कविता कृष्णमूर्ति5:28
6."जाने वो कैसा चोर था"इन्दीवरकविता कृष्णमूर्ति6:08
7."मोहब्बत की नज़रें करम"रानी मलिकविनोद राठोड़, कविता कृष्णमूर्ति6:45

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता पुरस्कार वितरण समारोह श्रेणी परिणाम
कविता कृष्णमूर्ति ("मेरा पिया घर आया") फिल्मफेयर पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका पुरस्कार जीत

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]